कश्मीर के बच्चों को पर्यावरण का रक्षक बनाने के लिए ‘पहला कदम’ का आगाज़

98
जम्मू कश्मीर
विजेताओं को सम्मानित करते अधिकारी

जम्मू कश्मीर के गांवों में पर्यावरण, स्वच्छता और स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता के मकसद से छेड़ी गई मुहिम ‘पहला कदम’ का आगाज़ दूर दराज़ के एक गांव से किया गया. शुरुआत पुलवामा के प्राचीन गांव पायर से की गई है. इस मौके पर शुक्रवार को स्कूली बच्चों के लिए ‘ओपन ड्राइंग एंड पेंटिंग कम्पीटीशन’ (open drawing and painting competition) का आयोजन किया गया. शनिवार को इस मुकाबले के विजेताओं को मेडल, प्रमाण पत्र और उपहार देकर सम्मानित किया गया. यहां इस तरह का आयोजन पहली दफा हुआ है जिसमें किसी गांव में कराए गए स्कूली बच्चों के ड्राइंग मुकाबले में विभिन्न स्कूलों के छात्र छात्राओं ने शिरकत की हो. ‘पहला कदम’ रक्षक न्यूज़ का प्रबंधन करने वाली संस्था रक्षक वर्ल्ड फाउंडेशन (rakshak world foundation ) की तरफ से शुरू की गई मुहिम है. इसके तहत पर्यावरण शिक्षा, स्वच्छता, स्वास्थ्य, खेल आदि क्षेत्रों से जुड़े विभिन्न कार्यक्रम करने का संस्था का इरादा है.

जम्मू कश्मीर
ओपन ड्राइंग एंड पेंटिंग कम्पीटीशन में व्यस्त कश्मीरी स्कूलों के छात्र

मुख्य अतिथि के तौर पर इस कार्यक्रम में शामिल हुए पुलवामा ज़िले के मुख्य बागवानी अधिकारी (chief horticulture officer) जावेद अहमद भट्ट ने बच्चों की बनाई ड्राइंग और पेंटिंग्स की तारीफ की. उन्होंने बच्चों से पेड़ पौधों और जीव जन्तुओं की रक्षा के प्रति संवेदनशीलता दिखाने तथा सफाई पर ख़ास ध्यान देने का आह्वान किया. उन्होंने कहा कि चित्रकला एकाग्रता के साथ बच्चों को एक ऐसा ज़रिया भी देती है जिससे वो अपनी भावनाओं और कल्पनाओं को आकार देते हुए व्यक्त कर सकते हैं. जावेद भट्ट के साथ विशेष अतिथि के तौर पर आए पुलवामा के जोनल शिक्षा अधिकारी अल्ताफ हुसैन पंडित ने बच्चों से आसपास पर्यावरण को ख्याल रखने और पशुओं के प्रति उदार रवैया अपनाने के लिए कहा. उन्होंने विजेताओं को मेडल पहनाए व शुभकामनाएं दीं. इससे पहले पायर स्थित स्कूल के प्रिंसिपल का अतिरिक्त कार्यभार देख रहे गुडूरा स्कूल के प्रिंसिपल अब्दुल गनी बेग ने अतिथियों का स्वागत किया.

जम्मू कश्मीर
ओपन ड्राइंग एंड पेंटिंग कम्पीटीशन में कश्मीरी स्कूलों के छात्र

पायर गांव के लम्बरदार गुलाम मोहम्मद भट्ट, रिटायर्ड अध्यापक अब्दुल हामिद खान ने भी अन्य अतिथियों के साथ विजेताओं को मेडल पहनाए. पुरस्कार वितरण समारोह का संचालन गवर्नमेंट हाई स्कूल के प्रभारी हेड मास्टर ज़हीर अहमद ने किया. रक्षक वर्ल्ड फाउंडेशन की तरफ से सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र और रिफ्रेशमेंट दी गई जिनमें फल वितरित किये गए. बागवानी विभाग की तरफ से विजेताओं और स्कूलों को उत्तम किस्म के फलों के पौधे इनाम में दिए गए. साथ में वर्मी कम्पोस्ट के पैकेट भी दिए गए. इसके पीछे मकसद है बच्चों में पौधे लगाने और उनका ख्याल रखने की भावना पैदा करना है.

जम्मू कश्मीर
बच्चों की बनाई कृतियाँ देखते अधिकारी.

इस कार्यक्रम की ख़ास बात ये भी थी कि इसमें प्लास्टिक के सामान का नाम मात्र ही इस्तेमाल किया गया. इस बात का ख़ास तौर पर ख्याल रखा गया कि पोलिथीन, प्लास्टिक बोतल या रेपर में पैक कोई भी वस्तु का यहां इस्तेमाल न किया जाए. रक्षक वर्ल्ड फाउंडेशन की तरफ से कराए गए इस आयोजन की सबने सराहना की और कहा कि ऐसा आयोजन पहली बार होते देखा गया है. इसके लिए शिक्षा विभाग की तरफ से जोनल शिक्षा अधिकारी और स्कूल प्रिंसिपल की तरफ से रक्षक वर्ल्ड फाउंडेशन को धन्यवाद पत्र भी दिया गया जिसमें पर्यावण शिक्षा की दिशा में किये प्रोग्राम को शानदार बताया गया है. ड्राइंग कम्पीटीशन में तकरीबन आधा दर्जन स्कूलों के बच्चों ने हिस्सा लिया. सरकारी हाई स्कूल के बच्चों की तादाद सबसे ज्यादा थी. उनके अलावा शाइनिंग मॉडल स्कूल के भी काफी छात्र आए. पुलवामा के अलग अलग क्षेत्रों के जिन स्कूलों के बच्चों ने मुकाबले में हिस्सा लिया. उनमें सादी किड्स वर्ल्ड, लाईसम इन्टरनेशनल व अल हबीब मॉडल हाई स्कूल के छात्र भी रहे. शाइनिंग मॉडल स्कूल की तरफ से आए प्रिंसिपल तारिक खान और सादी स्कूल की तरफ से आई अध्यापिका नाहिदा को आयोजन में सहयोग के लिए धन्यवाद प्रमाण पत्र दिया गया.

जम्मू कश्मीर
कार्यक्रम में संबोधन के दौरान रक्षक वर्ल्ड फाउंडेशन के अध्यक्ष संजय वोहरा
जम्मू कश्मीर
कार्यक्रम में संबोधन के दौरान रक्षक वर्ल्ड फाउंडेशन के अध्यक्ष संजय वोहरा

रक्षक वर्ल्ड फाउंडेशन के अध्यक्ष संजय वोहरा ने विजेताओं के नाम की घोषणा की और कार्यक्रम के समापन पर धन्यवाद अभिभाषण दिया. उन्होंने ‘कुदरत की खिदमत भी बड़ी इबादत’ के ज़िक्र के साथ संबोधन की शुरुआत की. उन्होंने कला और विशेष तौर पर चित्रकला व पेंटिंग करने से होने वाले फायदे बताए. संजय वोहरा ने कहा कि ड्राइंग करना महज़ एक कला नहीं है, ये एकाग्रता बढ़ाने का शानदार जरिया है तो उँगलियों, हाथों, बाजुओं की वर्जिश का एक तरीका भी बनता है. ड्राइंग करना या पेंटिंग करना बच्चों में एकाग्रता बढ़ाती है जिसकी किसी भी छात्र को सबसे ज्यादा ज़रूरत होती है. ये उनके व्यक्तित्व में निखार लाती है. फाउंडेशन के अध्यक्ष ने कार्यक्रम की सफलता का श्रेय अपनी टीम के सदस्यों और टीचरों के सहयोग को दिया. ख़ासतौर पर बागवानी विभाग के मुख्य अधिकारी जावेद भट्ट का भी उन्होंने इस सन्दर्भ में ज़िक्र किया. श्री भट्ट के साथ बागवानी विभाग की टीम भी आई थी जो अपने साथ वितरित करने के लिए पौधे लाई.

जम्मू कश्मीर
छात्राओं से बातचीत करते मुख्य बागवानी अधिकारी जावेद अहमद भट्ट

रक्षक वर्ल्ड फाउंडेशन एक स्वयंसेवी संस्था है. रक्षक न्यूज़ के संचालन के अलावा पंजाब और दिल्ली एनसीआर में खेल, रोमांच, फिटनेस और पर्यावरण जागरूकता से सम्बद्ध कार्यक्रम भी इस फाउंडेशन ने किये हैं. इनमें गाज़ियाबाद में आयोजित फ़ॉरेस्ट एडवेंचर रन और लुधियाना सिटी हाफ मैराथन ख़ास हैं. अब ये कश्मीर में भी ऐसे कार्यक्रम करना चाहती है.

जम्मू कश्मीर
छात्रों से मिलते ज़ेडईओ अल्ताफ हुसैन पंडित
जम्मू कश्मीर
ज़ेडईओ अल्ताफ हुसैन पंडित