भारत का पहला सशस्त्र महिला दस्ता संयुक्त राष्ट्र शान्ति सेना का हिस्सा बनकर कांगो रवाना

408
Informative Image
सशस्त्र सीमा बल की 22 महिला अधिकारियों का दल कांगो में यूएन शांति मिशन के लिए चुना गया है.

भारत से पहली बार सशस्त्र सीमा बल का महिला दस्ता संयुक्त राष्ट्र मिशन के तहत शान्ति सेना के रूप में विदेश भेजा जा रहा है. महिला अधिकारियों का ये दल गृह युद्ध के हालात से गुज़र रहे अफ़्रीकी देश कांगो के लिए रवाना होगा. ये दल भारतीय थल सेना के त्वरित तैनाती बटालियन के हिस्से के रूप में जा रहा है जिसमें 22 सदस्य हैं और ये 18 जून से कांगो लोकतान्त्रिक गणराज्य में तैनात होंगे.

Informative Image
सशस्त्र सीमा बल की 22 महिला अधिकारियों का दल कांगो में यूएन शांति मिशन के लिए चुना गया है.

महिला दल के इन सदस्यों की उम्र 26 से 37 वर्ष के बीच है जो हर तरह के ऑपरेशन में हिस्सा लेने की क्षमता रखती हैं. एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक संयुक्त राष्ट्र ने लैंगिक समानता की अपनी कोशिश को रफ्तार देते हुए महिलाओं की भागीदारी के तहत संयुक्त राष्ट्र महिला कार्य दलों की तैनाती कर रहा है. दल की इन सदस्यों को सशस्त्र सीमा बल की अलग अलग बटालियन में से सख्त इम्तेहान और विशेष ट्रेनिंग के बाद चुना गया है.

अधिकारियों का कहना है कि इन्हें हर प्रकार की चुनौती का सामना करने के लिए तैयार किया गया है. सशस्त्र सीमा बल के महानिदेशक कुमार राजेश चन्द्र ने इस महिला दल को सात जून को एक कार्यक्रम में शुभकामनायें दीं. यहाँ महिला दल को पारम्परिक तौर तरीकों से विदाई भी दी गई.