कंगना थप्पड़ कांड : सीआईएसएफ के डीआईजी ने घटना से जुड़े कई सच बताए

19

हिमाचल प्रदेश के मंडी लोकसभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव जीती अभिनेत्री कंगना रनौत को थप्पड़ मारने वाली केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (central industrial security force ) की सिपाही कुलविंदर कौर ने अब अपनी हरकत लिए खेद जताया है. वह नहीं चाहती कि इस मामले को प्रचारित किया जाए या  तूल दिया जाए सीआईएसएफ  के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस मामले में कंगना रनौत से दिल्ली में मुलाक़ात करके कुलविंदर के किये बर्ताव के लिए खेद ज़ाहिर किया और इसे एक दुर्भाग्यपूर्ण अप्रत्याशित घटना बताया.

यह अधिकारी सीआईएसएफ के उत्तरी क्षेत्र ( एयरपोर्ट्स ) के उपनिरीक्षक ( deputy inspector general ) विनय काजला हैं. दिल्ली में कंगना रनौत से मुलाक़ात करके चंडीगढ़ पहुंचे श्री काजला ने सिपाही कुलविंदर कौर से भी लम्बी बातचीत की है . उनका कहना है कि कुलविंदर ने आवेश में आकर यह हरकत की. 15 साल से सीआईएसएफ में सेवारत कुलविंदर पंजाब के कपूरथला की रहने वाली है. उसके दो छोटे बच्चे हैं. कुलविंदर के  पति भी सीआईएसएफ में कर्मी है और बल के डॉग स्क्वायड में तैनात है. उनकी ड्यूटी भी एयरपोर्ट पर थी. श्री काजला ने कुलविंदर कौर के पति से भी बातचीत की.

श्री काजला ने ‘ द ट्रिब्यून ‘ के साथ बातचीत में स्पष्ट किया कि कुलविंदर को निलंबित किया गया है. उन्होंने कहा कि यह मामला सरकार में ऊपर के स्तर तक पहुंचा हुआ है. इसकी जांच हो रही है और वह तीन दिन में अपने वरिष्ठ अधिकारियों को रिपोर्ट भेज देंगे.  इस मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी दिलचस्पी दिखाई है . आयोग को भी रिपोर्ट भेजी जानी है .  वैसे  श्री काजला का कहना है कि कुलविंदर का ऐसा कोई इतिहास भी नहीं है. न ही उसे कभी विभाग से सज़ा आदि मिली .

श्री काजला ने बताया कि कंगना को थप्पड़ मारने की घटना सिक्युरिटी जांच के बाद हुई. कंगना किसी यात्री से बात कर रहीं थीं जब कुलविंदर ने वहां आकर उनको चेहरे पर मारा. श्री काजला ने कहा कि कुलविंदर को तो कंगना रनौत की वहां मौजूदगी का पता भी नहीं था बल्कि उसे तो पंजाब पुलिस की एक महिलाकर्मी ने कंगना रनौत के वहां पहुंचे होने के बारे में बताया था. कंगना तलाशी के लिए जिस क्यूबिकल में गई थीं वहां तो कुलविंदर थी भी नहीं. वो पास के दूसरे क्यूबिकल में यात्रियों की जांच कर रही थी. यानि कि घटना से पहले दोनों का आमना सामना तक नहीं हुआ था. घटना के समय दोनों के बीच क्या बात हुई इसके बारे में श्री काजला ने कुछ नहीं बताया.
वैसे  श्री काजला का कहना था कि गुरूवार शाम को जब वह कंगना रनौत से हवाई अड्डे पर मिले तब कंगना ने  भी कुलविंदर कौर के व्यवहार पर चिंता ज़ाहिर करते हुए कुलविंदर के बारे में विस्तार से जानन चाहा था.

श्री काजला का कहना है कि कुलविंदर कौर को अपनी उस गलती का अहसास हुआ है जिसके कारण सीआईएसएफ की छवि को ठेस पहुंची है.  वह परेशान भी है. सीआईएसएफ ने कुछ समय के लिए उसके पति को भी छुट्टी दी है ताकि वह परिवार को देख सके.   कुलविंदर कौर  ने अपने भाई से भी कहा है कि इस केस को और  प्रचारित करके  मामले को तूल न दिया जाए. उनका भाई किसान नेता है .

कुलविंदर कौर के पति भी कुलविंदर की इस आवेशपूर्ण हरकत से हैरान है. उन्होंने तो श्री काज्ला को हाल की एक ऐसी घटना भी बताई जो कुलविंदर के बेहद अच्छे व्यवहार और सीआईएसएफ के मूल मन्त्र ‘ सर्विस विद स्माइल ‘ ( service with smile ) के मुताबिक़ है. यह घटना यब कि जब हवाई अड्डे पर एक बच्ची ने कुलविंदर कौर के साथ फोटो खिंचवाने की इच्छा ज़ाहिर की. कुलविंदर से उस बच्ची को एक चॉकलेट भी दी थी.

श्री काजला ने बताया कि कंगना को थप्पड़ मारने की घटना सिक्युरिटी जांच के बाद हुई. कंगना किसी यात्री से बात कर रहीं थीं जब कुलविंदर ने वहां आकर उनको चेहरे पर मारा. समझा जाता है कि यह सब वहां लगे सीसीटीवी में रिकॉर्ड हुआ है . वैसे मोहाली में कुलविंदर कौर के खिलाफ धारा 323 व 341 के तहत केस दर्ज हुआ है . दोनों धाराएं ज़मानती अपराध की धाराओं की श्रेणी में आती है .