राजौरी पुंछ सेक्टर के हालात से निपटने पहुंचे सेनाध्यक्ष से लेकर रक्षा मंत्री तक

21
हिरासत में मारे गए स्थानीय निवासियों के परिवारजनों से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने मुलाक़ात की

राजौरी पुंछ सेक्टर में ताज़ा हालात सेना , सरकार और लोगों के लिए एक बार फिर चुनौतीपूर्ण बने हुए हैं. आतंकवादी हमले में चार सैनिकों की जान जाने और तीन के घायल होने वाली घटना के बाद की गई  सेना की कार्रवाई के बीच 3  स्थानीय  नागरिकों की हिरासत में मौत व 5  के बुरी तरह ज़ख़्मी हालात में पहुँचने के सिलसिले ने हालात अफसोसनाक बना डाले हैं . एक तरफ सेना के हौंसले बुलंद करने की ज़रुरत तो दूसरी तरफ सुरक्षा बलों पर बेकसूर लोगों को यातनाएं देने के लगे इल्जामों का ज़बरदस्त  दबाव स्थानीय शासन से लेकर केंद्र सरकार पर है . और यह दबाव  इस कदर बढ़ गया कि हालात का सामना करने के लिए सेना प्रमुख मनोज  पांडे  ,  उप राज्यपाल  मनोज सिन्हा से लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को यहां आना पड़ा.

आतंकवाद के तीन दशक के दौर में यह शायद पहला ऐसा मौका है जबकि राज्य से केंद्र शासित क्षेत्र में तब्दील किये गए जम्मू कश्मीर में ऐसे हालात बनने पर देश के रक्षा मंत्री को आना पड़ा हो . रक्षामंत्री राजनाथ सिंह सैनिकों के बीच भी गए और उन  परिवारों से भी मिले जिनके सदस्यों की मौत का इलज़ाम सीधे सीधे भारतीय सेना के सिर पर है . राजनाथ सिंह ने घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराए गए लोगों का हाल चाल भी लिया. उनसे बात की. साथ ही आश्वासन दिया कि इस मामले में इंसाफ़ होगा और दोषियों पर कार्रवाई होगी . यूं इस कवायद को राजनीतिक भाषा में ‘डैमेज कंट्रोल ‘ भी कहा जा रहा है .

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह  ( defence minister rajnath singh ) ने 27 दिसंबर 2023 को यहां पहुँचने पर जो बातें कहीं उसके प्रमुख बिंदु इस तरह से हैं . सैनिकों से उनके संबोधन को सेना ने आधिकारिक सोशल मीडिया पर साझा किया है .  राजनाथ सिंह ने कहा :

मैं भारत का रक्षा मंत्री और नागरिक होने के नाते सबसे पहले अपने शहीद जवानों को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं और साथ ही उनके परिवार के प्रति भी अपनी हार्दिक संवेदना व्यक्त करता हूं और जो भी हमारे सैनिक घायल हुए है उनके शीघ्र स्वस्थ होने की भी कामना करता हूं. मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि घटना की गंभीरता को देखते हुए जो भी आवश्यक और जो भी उचित कदम है, वो उठाने की भरपूर कोशिश की जा रही है. हमारे लिए हर सैनिक बेहद महत्वपूर्ण है और मैं मानता हूं कि हमारा एक सैनिक हमारे परिवार के सदस्य के समान है. हम सबके अन्दर और सारे देशवासियों के अन्दर यह भावना रहती है.

आपके ऊपर कोई नजर डाले तो यह हम सबको कतई बर्दाश्त नही है. इस प्रकार की घटनाओं को रोकने में  सिक्युरिटी और इंटेलिजेंस  एजेंसी ( Security and Intelligence Agency)  दोनों ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है और लगातार उनके द्वारा भी यह प्रयत्न जारी है और उनकी यह भूमिका भविष्य में और ज्यादा असरदार होगी. शासन की तरफ से जो कुछ भी सहयोग की आवश्यकता है अथवा भविष्य में भी जो शासन के सहयोग की आवश्यकता पड़ेगी उसके लिए सरकार का खजाना पूरी तरह खुला हुआ है.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सैनिकों को संबोधित किया

मैं मानता हूं कि इस प्रकार की घटनाओं को  अनदेखा  नही किया जा सकता है और हमें अधिक सजग रहने की आवश्यकता है. जिस तरह से आप सब काम कर रहे हैं आप सभी के प्रति हम सभी का एक कृतज्ञता का भाव है और साथ ही जिस शौर्य और पराक्रम का आप परिचय देते हैं उसके कारण हम सबको एक गौरव अनुभूति होती है. मातृभूमि की सेवा में जो भी आपके बलिदान है, जो भी आपके प्रयास  है, जो आपकी कोशिश है उसकी किसी भी सूरत में, किसी भी चीज से तुलना नहीं की जा सकती है और वह अपने में बेमिसाल  है और इसकी कोई कीमत भी नहीं चुकाई जा सकती. जब हमारा कोई जवान शहीद हो जाता है, हम भले ही कुछ मुआवजा (compensation) दे दे परन्तु   मुआवज़े compensation के द्वारा उसे compensate नही किया जा सकता.  वह क्षति  कभी पूरी नही की जा सकती.

मैं आपको विश्वास दिलाना चाहता हूं कि सरकार आप लोगों के साथ खड़ी है और हम आपके कल्याण को, आपकी सुविधा को बराबर प्राथमिकता  पर रखते हैं. आप सबका अनुशासन, आप सबका समर्पण और अपने कर्तव्य के प्रति आपकी जो प्रतिबद्धता है, उसके हम सभी लोग कायल है. भारतीय सेना सारी दुनिया में कोई साधारण सेना के रूप में नही मानी जाती. लोग यह मानते है कि भारतीय सेना जैसी पहले थी उससे अधिक ताकतवर और पहले के मुकाबले  में साजो सामान से बेहतर हो गई है.

आप सभी इस देश के रक्षक है, देश की रक्षा के साथ-साथ आप लोगों से विशेष आग्रह करना चाहता हूं कि देश की रक्षा की जिम्मेदारी आप लोगों पर है, लेकिन इस देश की रक्षा के साथ-साथ अपने देशवासियों का दिल जितना यह भी बड़ी जिम्मेदारी भी आपके कंधों पर है. जिस देश की आप सेवा कर रहे हैं उस देश के लोगों के साथ भी सक्रिय रूप से जुड़े रहे और उनका विश्वास आप प्राप्त करें और उसमें आप एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं और आप निभाते भी है परन्तु उसे और अधिक गंभीरतापूर्वक निभाने की आवश्यकता है. समय-समय पर देशवासियों के बीच जाकर उनका कुशल क्षेम पूछना और कोई कठिनाई हो तो उसके बारे में भी जानकारी हासिल करना और जिस स्तर पर भी उसकी जानकारी देना आवश्यक हो वहाँ देना, यह भी आपकी जिम्मेदारी है.

हमारा उद्देश्य जहां पर आतंकवादियों का सफाया करना है, वही पर हमारा एक बड़ा उद्देश्य होना चाहिए कि हमें अपने देशवासियों का दिल जीतना है. हम युद्ध भी जीतेंगे, हम किसी भी प्रकार की जंग भी जीतेंगे, हम आतंकवादियों का भी सफाया करेंगे लेकिन साथ ही साथ देशवासियों का हमें दिल भी जीतना है।

आप साहस, सम्मान मूल्यों के प्रति अटूट प्रतिबद्धता के साथ सेवा करना जारी रखें और मैं आपको पुन: विश्वास दिलाना चाहता हूं कि राष्ट्र आपका कृतज्ञ है. मैं आपके परिवार का भी यहां पर अभिनंदन करता हूं कि यह जानकर आप लोगों ने एक सैनिक बनने का संकल्प लिया कि सैनिक के रूप में अपनी भूमिका निभाते समय किसी भी प्रकार का जोखिम आ सकता है या जान भी जा सकती है. जब यहां पर हमारा कोई जवान शहीद होता है तो हम चैन की नींद नहीं सो पाते हैं, हमारे ऊपर क्या गुजरती है यह हम जानते है. परन्तु आपके शौर्य और पराक्रम पर हम लोगों को पूरा विश्वास है. आप आगे बढ़िए आतंकवाद का सफाया जम्मू कश्मीर से होना चाहिए इस संकल्प के साथ आप आगे बढ़िए. आप विजय हासिल करेंगे मुझे इस बात का पक्का विश्वास है.