भारत में सैनिकों की चार साल की भर्ती वाली ‘अग्निपथ’ योजना को मंजूरी

64
अग्निपथ
सेना में भर्ती की बहुप्रतीक्षित 'द टुअर ऑफ़ ड्यूटी' ( the tour of duty) योजना आज घोषित हो गई. इसे 'अग्निपथ' नाम दिया गया है.

भारत सरकार ने सेना में भर्ती की बहुप्रतीक्षित वो ‘द टुअर ऑफ़ ड्यूटी’ ( the tour of duty) योजना आज घोषित कर दी. इसे ‘अग्निपथ’ नाम दिया गया है. जैसा कि पहले ही चर्चित हो चुका है, इस योजना के तहत साढ़े 17 साल से 21 साल तक की उम्र के वो युवा चार साल के लिए सेना में अस्थाई तौर पर या अल्पकालिक आधार पर भर्ती किये जाएंगे जो 10 वीं, 12 वीं पास कर चुके हों. कैबिनेट की सुरक्षा मामलों की समिति ने इस योजना को मंजूरी दी. जिसका विस्तृत ब्योरा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने तीनों सेना प्रमुखों के साथ प्रेस कांफ्रेंस में दिया. इस अवसर पर भारतीय सेना के ऐडजूडेंट जनरल अनिल पुरी ने कहा कि अग्निपथ योजना के जरिए सेना को युवा बनाने की कोशिश है. वर्तमान में सैनिक की औसत उम्र 32 साल है जो इसके लागू होने से कुछ साल बाद घटकर 26 से 24 साल तक आ जाएगी. दूसरी तरफ इस योजना को सरकार की रक्षा बजट में कॉस्ट कटिंग (cost cutting) की कवायद के तौर पर देखा जा रहा है क्योंकि इस योजना के तहत भर्ती ‘अग्निवीर’ सैनिक को नियमित स्थाई सैनिक की तुलना में आर्थिक नजरिए से कम खर्चीला माना जा रहा है क्योंकि अग्निवीरों को ग्रेच्युटी और पेंशन संबंधी लाभों का कोई अधिकार नहीं होगा.

अग्निपथ
सेना में भर्ती की बहुप्रतीक्षित ‘द टुअर ऑफ़ ड्यूटी’ ( the tour of duty) योजना आज घोषित हो गई. इसे ‘अग्निपथ’ नाम दिया गया है.

अग्निवीर के लिए आर्थिक लाभ :

अग्निपथ देशभक्त और प्रेरित युवाओं को चार साल की अवधि के लिए सशस्त्र बलों में सेवा करने की अनुमति देता है. सरकार इसे तीनों सेनाओं की मानव संसाधन नीति में एक नए युग की शुरुआत और एक प्रमुख रक्षा नीति सुधार के तौर पर प्रचारित कर रही है. लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी के मुताबिक़ अग्निपथ योजना के तहत सैनिकों यानि अग्निवीरों की भर्ती के लिए 90 दिन के भीतर भर्ती रैलियाँ शुरू कर दी जायेंगी. अग्निपथ योजना के तहत भर्ती सैनिकों को पहले साल 30000 रूपये मासिक, दूसरे साल 33000 रुपये मासिक, तीसरे साल में 36,500 रूपये मासिक और चौथे साल में 40000 रुपये ‘वेतन’ मिलेगा. इसमें से 30% काटकर ‘अग्निपथ कोर फंड’ में उसके खाते में जमा होगा. वहीं सरकार भी अपनी तरफ से उसके अंशदान के बराबर की राशि अग्निवीर के खाते में जमा करेगी. चार साल बाद ये सारा पैसा सैनिक को ब्याज समेत सेवा निधि के रूप में लौटा दिया जाएगा. कुल मिलाकर ये धनराशि 11 लाख 71 रूपये होगी. सेवा निधि की इस रकम पर सैनिक को आयकर (income tax) भी नहीं देना होगा. अग्निवीरों को तीन सेनाओं में लागू जोखिम और कठिनाई भत्ते के हक़ मिलेंगे. सेवा के दौरान अंग भंग होने या मृत्यु होने पर उनके और परिवार के लिए आर्थिक सहायता प्रावधान है.

अग्निपथ योजना के लाभ :

सरकार का कहना है कि अग्निपथ योजना सशस्त्र बलों के युवा प्रोफाइल को सक्षम करने के लिए डिजाइन की गई है. यह उन युवाओं को अवसर प्रदान करेगा जो समाज से युवा प्रतिभाओं को आकर्षित करके वर्दी धारण करने के प्रति इच्छुक हो सकते हैं जो समकालीन तकनीकी प्रवृत्तियों के मुताबिक़ हैं और समाज में कुशल, अनुशासित और प्रेरित जनशक्ति की पूर्ति करते हैं. जैसा कि सशस्त्र बलों के लिए, यह सशस्त्र बलों के युवा प्रोफाइल को बढ़ाएगा और ‘जोश’ और ‘जज्बा’ का एक नया संसाधन प्रदान करेगा, साथ ही साथ एक अधिक तकनीकी जानकार सशस्त्र बलों की दिशा में एक परिवर्तनकारी बदलाव लाएगा.

अग्निपथ
अग्निवीर के लिए ये हैं आर्थिक लाभ.

एक विज्ञप्ति के मुताबिक़ ये योजना जो वास्तव में समय की आवश्यकता है और इसके कार्यान्वयन से भारतीय सशस्त्र बलों की औसत आयु लगभग 4-5 वर्ष कम हो जाएगी. राष्ट्र, समाज और राष्ट्र के युवाओं के लिए एक अल्पकालिक सैन्य सेवा के लाभांश बहुत अधिक हैं. इसमें देशभक्ति की भावना, टीम वर्क, शारीरिक फिटनेस में वृद्धि, देश के प्रति निष्ठा और बाहरी खतरों, आंतरिक खतरों और प्राकृतिक आपदाओं के समय राष्ट्रीय सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए प्रशिक्षित कर्मियों की उपलब्धता शामिल है. यह तीनों सेनाओं की मानव संसाधन नीति में एक नए युग की शुरुआत करने के लिए सरकार द्वारा शुरू किया गया एक प्रमुख रक्षा नीति सुधार है. नीति, जो तत्काल प्रभाव से लागू होती है, इसके बाद तीनों सेनाओं के लिए नामांकन को नियंत्रित करेगी.

राष्ट्र की सेवा की इस अवधि के दौरान, अग्निवीरों को विभिन्न सैन्य कौशल और अनुभव, अनुशासन, शारीरिक फिटनेस, नेतृत्व गुण, साहस और देशभक्ति प्रदान की जाएगी. चार साल के इस कार्यकाल के बाद, अग्निवीरों को नागरिक समाज में शामिल किया जाएगा जहां वे राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में अत्यधिक योगदान दे सकते हैं. प्रत्येक अग्निवीर द्वारा प्राप्त कौशल को उनके अद्वितीय बायोडाटा का हिस्सा बनने के लिए एक प्रमाणपत्र में मान्यता दी जाएगी. अग्निवीर, अपनी युवावस्था में चार साल का कार्यकाल पूरा होने पर, पेशेवर और व्यक्तिगत रूप से भी खुद को बेहतर बनाने के अहसास के साथ परिपक्व और आत्म-अनुशासित होंगे. अग्निवीर के कार्यकाल के बाद नागरिक दुनिया में उनकी प्रगति के लिए जो रास्ते और अवसर खुलेंगे, वे निश्चित रूप से राष्ट्र निर्माण की दिशा में काफी लाभदायक होंगे. इसके अलावा, लगभग 11.71 लाख रुपये की सेवा निधि अग्निवीर को वित्तीय दबाव के बिना अपने भविष्य के सपनों को आगे बढ़ाने में मदद करेगी, जो आमतौर पर समाज के आर्थिक रूप से वंचित तबके के युवाओं के लिए होता है।

सशस्त्र बलों में नियमित संवर्ग के रूप में नामांकन के लिए चुने गए व्यक्तियों को न्यूनतम 15 वर्षों की अतिरिक्त सेवा अवधि के लिए सेवा करने की आवश्यकता होगी और भारतीय सेना में जूनियर कमीशंड अधिकारियों/अन्य रैंकों और भारतीय नौसेना और भारतीय वायु सेना में उनके समकक्ष और समय-समय पर संशोधित भारतीय वायु सेना में नामांकित गैर-लड़ाकू सेवा के मौजूदा नियमों और शर्तों द्वारा शासित होंगे. सरकार का मानना है कि यह योजना सशस्त्र बलों में युवा और अनुभवी कर्मियों के बीच एक अच्छा संतुलन सुनिश्चित करके और अधिक युवा और तकनीकी रूप से युद्ध लड़ने वाले बल को बढ़ावा देगी.

नियम एवं शर्तें

अग्निपथ योजना के तहत, अग्निवीरों को चार साल की अवधि के लिए संबंधित सेवा अधिनियमों के तहत बलों में नामांकित किया जाएगा. वे सशस्त्र बलों में एक अलग रैंक बनाएंगे, जो किसी भी मौजूदा रैंक से अलग होगी. सशस्त्र बलों द्वारा समय-समय पर घोषित की गई संगठनात्मक आवश्यकता और नीतियों के आधार पर चार साल की सेवा पूरी होने पर, अग्नि वीरों को सशस्त्र बलों में स्थायी नामांकन के लिए आवेदन करने का अवसर प्रदान किया जाएगा. इन आवेदनों पर उनकी चार साल की कार्यावधि के दौरान प्रदर्शन सहित उद्देश्य मानदंडों के आधार पर केंद्रीकृत तरीके से विचार किया जाएगा और प्रत्येक विशिष्ट बैच के 25 प्रतिशत तक सशस्त्र बलों के नियमित कैडर में नामांकित किया जाएगा.

सभी तीन सेनाओं के लिए एक ऑनलाइन केंद्रीकृत प्रणाली के माध्यम से नामांकन किया जाएगा, जिसमें विशेष रैलियों और मान्यता प्राप्त तकनीकी संस्थानों जैसे औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों और राष्ट्रीय कौशल योग्यता संरचना से कैंपस साक्षात्कार शामिल हैं. नामांकन ‘ऑल इंडिया ऑल क्लास’ के आधार पर होगा और पात्र आयु 17.5 से 21 वर्ष के बीच होगी. अग्निवीर सशस्त्र बलों में नामांकन के लिए निर्धारित चिकित्सा पात्रता शर्तों को पूरा करेंगे जैसा कि संबंधित श्रेणियों/कार्यों पर लागू होता है. विभिन्न श्रेणियों में नामांकन के लिए अग्नि वीरों की शैक्षिक योग्यता यथावत रहेगी. (उदाहरण के लिए : जनरल ड्यूटी (जीडी) सैनिक में प्रवेश के लिए, शैक्षणिक योग्यता कक्षा 10 है).