तमिलनाडु कैडर के आईपीएस संजय अरोड़ा दिल्ली पुलिस कमिश्नर बने

14
दिल्ली पुलिस
भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी संजय अरोड़ा दिल्ली पुलिस के कमिश्नर बनाए गए.

भारतीय पुलिस सेवा के 1988 बैच के अधिकारी संजय अरोड़ा अब राकेश अस्थाना के स्थान पर दिल्ली पुलिस के कमिश्नर बनाए गए हैं. जिस तरह श्री अस्थाना को पिछले साल दिल्ली पुलिस का कमिश्नर बनाने के लिए सरकार ने उनका कैडर गुजरात से बदलकर अंडमान निकोबार गोवा मिजोरम यूनियन टेरेटरी (AGMUT) किया था वैसे ही आईपीएस संजय अरोड़ा का भी कैडर बदला गया. श्री अरोड़ा मूल रूप से तमिलनाडु कैडर के हैं और अब तक केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति पर होने के दौरान भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल (आईटीबीपी) के महानिदेशक थे. श्री अस्थाना को आज शाम दिल्ली पुलिस की न्यू पुलिस लाइन में विदाई परेड दी गई.

दिल्ली पुलिस
आईपीएस राकेश अस्थाना को दिल्ली पुलिस की न्यू पुलिस लाइन में विदाई परेड दी गई.

दूसरे कैडर के अफसर को दिल्ली पुलिस का एक बार फिर से प्रमुख बनाने के सरकार के इस फैसले से एजीएमयूटी कैडर के उन अधिकारियों में तो हताशा होना स्वाभाविक है जो इस प्रतिष्ठित ओहदे के पात्र हैं. वैसे काफी हद तक ये पूरे कैडर के लिए भी एक तरह की शर्मनाक स्थिति भी कही जा सकती है जिसमें सरकार को पुलिस आयुक्त बनाने लायक कोई सुपात्र नहीं मिला. यूं भी बीते कुछ साल से दिल्ली पुलिस का आयुक्त पद नियुक्तियों को लेकर लगातार विवाद बना रहा है.
आईपीएस संजय अरोड़ा को दिल्ली पुलिस कमिश्नर बनाने के कारण खाली हुए आईटीबीपी के महानिदेशक के ओहदे पर किसी को तैनात नहीं किया गया है. हालाँकि काम चलाने के लिए सशस्त्र सीमा पुलिस बल (एसएसबी) के महानिदेशक एस एल थाउसेन को आईटीबीपी के प्रमुख का अतिरिक्त कार्यभार दे दिया गया है.

केंद्र सरकार ने गुजरात कैडर के आईपीएस राकेश अस्थाना को 2021 में रिटायरमेंट से ऐन पहले एक साल का सेवा विस्तार देकर और कैडर बदल कर दिल्ली पुलिस का कमिश्नर बनाया था. उनसे पहले आईपीएस एस एन श्रीवास्तव दिल्ली पुलिस के कमिश्नर थे. रिटायरमेंट से कुछ ही दिन पहले उनको पूर्ण तौर पर पुलिस कमिश्नर बनाकर सम्पूर्ण अधिकार दिए गए थे. ऐसे में उम्मीद की जा रही थी कि सरकार उनको ही इसी पद पर सेवा विस्तार देगी. सरकार ने उनको तो विस्तार दिया नहीं अपितु श्री अस्थाना को सेवा विस्तार देते हुए राजधानी का पुलिस कमिश्नर बना दिया.

दिल्ली पुलिस
आईपीएस राकेश अस्थाना को दिल्ली पुलिस की न्यू पुलिस लाइन में विदाई परेड दी गई.

कौन है संजय अरोड़ा :

आईपीएस संजय अरोड़ा 1988 बैच के तमिलनाडु कैडर के अधिकारी हैं. राजस्थान के मालवीय नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से उन्होंने इलेक्ट्रिकल एवम् इलेक्ट्रॉनिक्स से स्नातक किया है. आईपीएस बनने के बाद संजय अरोड़ा ने तमिलनाडु में कई ओहदों पर काम किया. वे उस स्पेशल टास्क फ़ोर्स के एसपी भी थे जिसने उनके कार्यकाल में भी चन्दन तस्कर वीरप्पन के गिरोह के खिलाफ अहम कामयाबियां हासिल की थीं. इसके लिए उनको मुख्यमंत्री का वीरता पुरस्कार देकर सम्मानित भी किया गया था. संजय अरोड़ा कोयम्बतूर शहर के पुलिस कमिश्नर भी रहे. चेन्नई में अपराध शाखा और मुख्यालय के एडिशनल कमिश्नर के ओहदे के अलावा उन्होंने यातायात पुलिस के एडिशनल कमिश्नर के पद पर काम किया. संजय अरोड़ा सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) में आई जी (स्पेशल ऑपरेशंस) रहे. वे केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के छत्तीसगढ़ सेक्टर में भी इसी ओहदे पर काम करने का अनुभव रखते हैं. आईटीबीपी में तैनाती से पहले संजय अरोड़ा सीआरपीएफ में जम्मू कश्मीर ज़ोन के स्पेशल डीजी (विशेष महानिदेशक) थे.