भारतीय वायु सेना को मिला गरुड़ कमांडो का नया दस्ता , चांदी नगर में उत्सव मना

20
एयर मार्शल पीके वोहरा ने सफल गरुड़ प्रशिक्षुओं को मैरून बेरे , गरुड़ प्रोफिशिएंसी बैज और स्पेशल फोर्सस टैब प्रदान किए.

वायु सेना के विशेष बल ‘गरुड़’ कमांडो के सफल प्रशिक्षण के समापन समारोह का उत्सव मनाने के लिए  आज (18 मई, 2024)  चांदीनगर  वायुसेना स्टेशन में गरुड़ रेजिमेंटल प्रशिक्षण केंद्र (जीआरटीसी) पर मैरून बेरे सेरेमोनियल परेड  ( maroon beret ceremonial parade ) आयोजित की गई. पश्चिमी वायु कमान के वरिष्ठ वायु कर्मचारी अधिकारी एयर मार्शल पीके वोहरा ने इस परेड का निरीक्षण किया. भारतीय वायु सेना केa चांदी नगर एयर स्टेशन उत्तर प्रदेश के बागपत ज़िले में है.

समीक्षा अधिकारी मार्शल वोहरा ने गरुड़ कमांडो को उनके सफलतापूर्वक प्रशिक्षण पूरा करने पर बधाई दी. उन्होंने बदलते सुरक्षा परिदृश्य के साथ तालमेल बनाए रखने के लिए विशेष बलों के कौशल को आवश्यक प्रशिक्षण के साथ निखारने के महत्व पर जोर दिया. एयर मार्शल पीके वोहरा ने सफल गरुड़ प्रशिक्षुओं को मैरून बेरे ( maroon beret ) , गरुड़ प्रोफिशिएंसी बैज और स्पेशल फोर्सस टैब प्रदान किए.  मेधावी प्रशिक्षुओं को ट्रॉफियां प्रदान की गई .  फ्लाइट लेफ्टिनेंट शाश्वत राणा को सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर की ट्रॉफी प्रदान की गई.

गरुड़ कमांडो ( garud commandos ) ने समारोह के हिस्से के रूप में लड़ाकू गोलाबारी कौशल, बंधक बचाव, फायरिंग ड्रिल, विस्फोटक हमला, बाधा पार ड्रिल, ऊंची दीवार पर चढ़ना, फिसलन, रैपलिंग और सैन्य मार्शल आर्ट का प्रदर्शन किया.

मैरून बेरे सेरेमोनियल परेड एक महत्वपूर्ण अवसर है जो अत्यंत कठिन  विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम के संपन्न होने का प्रतीक है. इस तरह के नए उत्तीर्ण हुए प्रशिक्षु विशिष्ट गरुड़ बल में प्रवेश करते हैं और भारतीय वायुसेना की परिचालन क्षमता को ताकत देते हैं.