राष्ट्रपति ने शौर्य दिवस पर सीआरपीएफ की ‘वीर परिवार’ ऐप लांच किया

122
सीआरपीएफ
सीआरपीएफ ने शौर्य दिवस के मौके पर ' वीर परिवार' मोबाइल ऐप लांच किया

भारत के सबसे विशाल अर्धसैनिक बल केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ-CRPF) ने शौर्य दिवस के मौके पर ‘ वीर परिवार’ मोबाइल ऐप लांच किया है. इस ऐप के जरिये सीआरपीएफ प्रबन्धन को अपने संगठन के शहीद जवानों के आश्रितों और परिवार के सदस्यों की मुश्किलों का जल्द से जल्द निवारण करने और उनके हालात जानने का बेहतरीन ज़रिया भी हासिल हुआ है. इस ऐप के जरिये शहीदों के परिवार अपनी दिक्कतें और शिकायतें फौरन वरिष्ठ या सम्बन्धित अधिकारियों तक पहुंचा पाएंगे.

सीआरपीएफ
सीआरपीएफ ने शौर्य दिवस के मौके पर ‘ वीर परिवार’ मोबाइल ऐप लांच किया

शौर्य दिवस के मौके पर राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने नई दिल्ली में चाणक्यपुरी स्थित राष्ट्रीय पुलिस स्मारक (National Police Memorial) पर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की. यहीं पर राष्ट्रपति ने, ड्यूटी के दौरान शहीद हुए जवानों के परिवार वालों को सम्मानित भी किया. 14 फरवरी को कश्मीर में पुलवामा हमले में शहीद हुए CRPF के 40 जवानों के परिजनों को सम्मानित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि हम अपने शहीदों को हमेशा याद रखेंगे.

वीर परिवार ऐप लाँच के अवसर पर राष्ट्रपति कोविंद के साथ केन्द्रीय गृह सचिव राजीव गौबा, इंटेलिजेंस ब्यूरो के निदेशक राजीव जैन और CRPF के महानिदेशक राजीव राय भटनागर के अलावा कई पुलिस संगठनों के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे.

CRPF के प्रवक्ता ने बताया कि ये ऐप 24 घंटे काम करेगा और ऐप पर दर्ज होने वाले मसलों का तुरंत निवारण हो, इसकी व्यवस्था रहेगी. उन्होंने बताया कि दिल्ली स्थित सीआरपीएफ मुख्यालय और सीआरपीएफ के देशभर में फैले ग्रुप सेंटर से ज़रूरत पड़ने पर इस ऐप के जरिये सलाह और मदद के लिए सम्पर्क कर सकते हैं.

इस ऐप से उन्हें न सिर्फ सीआरपीएफ में उनके कल्याण की योजनाओं आदि की जानकारी मिल पाएगी बल्कि केन्द्र सरकार और राज्य सरकारों ने उनके फायदे के लिए जो कार्यक्रम अपनाए हैं, इसका भी पता चलता रहेगा.

इस ऐप को इस्तेमाल करने के लिए शहीद सीआरपीएफ कर्मी के परिवार वालों को पहले रजिस्ट्रेशन करना होगा और फिर पासवर्ड लेना होगा. इसे पासवर्ड के जरिये ही इस्तेमाल किया जा सकता है.

शौर्य दिवस सीआरपीएफ के जवानों की वीर गाथा से जुड़ा आयोजन है. आज ही के दिन 1965 में सीआरपीएफ की दूसरी बटालियन की चार कंपनियों ने गुजरात के कच्छ इलाके में पाकिस्तान की इनफेंट्री ब्रिगेड का हमला बुरी तरह नाकाम कर डाला था. यह घटना सैन्य युद्ध के इतिहास में रण कौशल व अद्वितीय बहादुरी की मिसाल है. तब से सीआरपीएफ यह दिन शौर्य दिवस के रूप में मनाती है.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here