सीआरपीएफ के इम्फाल ग्रुप सेंटर में हिंदी ट्रेनिंग के लिए कार्यशाला

11
सीआरपीएफ
डीआईजी मदन कुमार ने कार्यशाला के दौरान उद्घाटन सम्बोधन किया.

भारत के पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर में इम्फाल स्थित केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ग्रुप सेंटर में शुक्रवार को हिंदी कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें सीआरपीएफ अधिकारियों और अन्य रैंक ने काफी दिलचस्पी दिखाई. कार्यशाला का मकसद बल के रोजमर्रा के कार्यकलाप में हिन्दी को बढ़ावा देना और इस बारे में शिक्षित करना ताकि हिन्दी के उपयोग के दौरान आने वाली दिक्कतों का समाधान किया जा सके. उप महानिरीक्षक (डीआईजी) मदन कुमार इस अवसर पर मुख्य अतिथि थे. कमांडेंट दिनेश और कुछ अन्य अधिकारी इस अवसर पर खासतौर पर शामिल हुए.

सीआरपीएफ
इम्फाल स्थित सीआरपीएफ ग्रुप सेंटर में शुक्रवार को हिंदी कार्यशाला का आयोजन किया गया.

डीआईजी मदन कुमार ने कार्यशाला के दौरान अपने उद्घाटन सम्बोधन में कहा कि भारत सरकार रोजमर्रा के पत्राचार में हिंदी के ज्यादा से ज़्यादा इस्तेमाल पर जोर दे रही है इसलिए हिंदी भाषा के व्यवहारिक ज्ञान के बारे में जानकारी देने के लिए ऐसी कार्यशालाएं आयोजित करना ज़रूरी है. उन्होंने हिंदी साहित्य के समग्र विकास और लोकप्रियता के बारे में बात की. डीआईजी मदन कुमार का कहना था कि हिंदी राष्ट्रीय एकता का एक स्रोत भी है और कार्यस्थलों पर इसका इसका ज्यादा इस्तेमाल किया जाना चाहिए. उन्होंने ‘हिन्दी के सांस्कृतिक और वित्तीय महत्व’ और हिंदी में काम करने की समस्या और समाधान पर व्याख्यान भी दिया.

इस एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला में कमान्डेंट दिनेश ने हिंदी में नोटिंग, ड्राफ्टिंग और पत्रों के बारे में व्याख्यान दिया. सहायक कमांडेंट (राजभाषा) सत्येन्द्र सिंह ने कार्मिकों को त्रैमासिक प्रगति रिपोर्ट, मैनुअल ऑनलाइन भरने और राजभाषा कार्यान्वयन नियमों के बारे में व्याख्यान दिया. कार्यशाला में इम्फाल ग्रुप सेंटर के सभी कार्यालयों ने हिस्सा लिया.