सेना में बेहतर चिकित्सा सेवा के लिए भारत में कई देशों के विशेषज्ञों का पहला सम्मेलन

15
नई दिल्ली में 12 -13 सितम्बर को शंघाई को-ऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (एससीओ-SCO)के सदस्य देशों का सैन्य चिकित्सा सम्मेलन का आयोजन होगा.

सेना में चिकित्सा सेवा के दौरान आने वाली चुनौतियों, उनसे पार पाने के तरीकों और रोगों से बचाव से लेकर इस क्षेत्र में तरह तरह की तकनीक आदि के इस्तेमाल जैसे कई विषयों पर अलग अलग देशों की सेनाओं के मेडिकल विशेषज्ञ अपने अनुभव साझा करेंगे और इस पर सलाह मशविरा करेंगे. मौका है भारत की राजधानी नई दिल्ली में 12 -13 सितम्बर को होने वाला शंघाई को-ऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (एससीओ-SCO) के सदस्य देशों का सैन्य चिकित्सा सम्मेलन का आयोजन.

भारत के 2017 में इस संगठन का सदस्य बनने के बाद यहाँ होने वाला ये पहला सम्मेलन है. एससीओ रक्षा सहयोग योजना 2019-20 के अंतर्गत भारत में आयोजित यह पहला सैन्य सहयोग कार्यक्रम होगा.

एक सरकारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक़ सम्मेलन का आयोजन भारतीय सशस्त्र बलों द्वारा इंडीग्रेटिड डिफेंस स्टााफ मुख्यालय (एफक्यूसआईडीएस) के तत्वावधान में किया जाएगा. जिसका उद्देश्य सैन्य चिकित्सा के क्षेत्र में सर्वोत्तम कार्यविधियों को साझा, क्षमताओं का निर्माण और आम चुनौतियों से निपटना है. सम्मेलन के दौरान, भारतीय सशस्त्र बल, रैपिड एक्शन मेडिकल टीम का प्रदर्शन करेंगे और प्रतिनिधियों के लिए सेना अनुसंधान और रेफरल अस्पताल के दौरे का भी प्रबंध करेंगे.

इस सम्मेलन में एससीओ सदस्य देशों के सैन्य चिकित्सा विशेषज्ञों के बीच युद्ध चिकित्सा सहायता प्रदान करने, आपदाओं के दौरान मानवीय सहायता और रोगी सुरक्षा में सुधार के उपायों पर विचार-विमर्श किया जाएगा. एससीओ सदस्य देशों का प्रतिनिधित्व वरिष्ठ सैन्य चिकित्सकों द्वारा किया जाएगा. इस सम्मेओलन में हिस्सा लेने के लिए संवाद सहयोगी नेपाल और श्रीलंका भी अपने प्रतिनिधिमंडल भेज रहे हैं.

सम्मेलन की शुरुआत एससीओ सदस्य देशों के बीच सैन्य चिकित्सा के क्षेत्र में सहयोग के क्षेत्रों पर चर्चा करने के लिए एक प्रतिनिधिमंडल की बैठक से की जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here