युद्धपोत बनाने वाली जीआरएसई गोवा और गुजरात में डेम्पो ग्रुप के साथ व्यवसायिक जहाज़ बनाएगी

67
जीआरएसई के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक कमोडोर पी आर हरि और डेम्पो ग्रुप के चेयरमैन श्रीनिवास डेम्पो ने एमओयू पर दस्तखत किए
युद्धपोत बनाने वाला भारत सरकार का उपक्रम गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड (GARDEN REACH SHIPBUILDERS & ENGINEERS LTD )  अब निजी बिजनेस घराने डेम्पो ग्रुप के साथ मिलकर व्यवसायिक समुद्री जहाज़ भी बनाएगा. इसके लिए  दोनों हितधारकों ने करार पर दस्तखत किए हैं . यह जहाज़ डेम्पो के तीन प्रमुख  शिपयार्ड  पर बनाए जाएंगे जोकि गोवा और गुजरात के भावनगर में हैं .
प्रशासनिक तौर पर भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के तहत आने वाले उपक्रम जीआरएसई ने युद्धपोत निर्माण में निजी उद्योग के साथ तो हिस्सेदारी पहले की है लेकिन यह पहला ऐसा मौका है जब व्यवसायिक जहाज़ बनाने में जीआरएसई ने किसी निजी उद्योगिक घराने के समझौता किया हो. जीआरएसई ( grse) की तरफ से चेयरमैन और प्रबंध निदेशक  (Chairman & Managing Director of  GRSE ) कमोडोर पी आर हरि और डेम्पो ग्रुप की तरफ से चेयरमैन श्रीनिवास डेम्पो ने एम ओ यू पर दस्तखत किए . व्यावसायिक जहाजों के निर्माण की तरफ रुख करने के पीछे जीआरएसई का मकसद इस क्षेत्र के  घरेलू और अन्तर्राष्ट्रीय बाज़ार में अपनी  हिस्सेदारी तय करना है .
एक शोध के मुताबिक़ भारत में 2023 में जहाजरानी बाज़ार अंदाज़न  7.1 बिलियन अमेरिकन का डॉलर का  होगा जो बढ़कर  2028 में 8.76 बिलियन डॉलर तक पहुँच सकता है . वहीं दूसरी तरफ 2028 में वैश्विक स्तर पर जहाजरानी उद्योग बढ़कर 170 बिलियन डॉलर से 230 बिलियन डॉलर का हो जाएगा . इसकी साल दर साल हिसाब  से वृद्धि की दर यानि  कंपाउंडेड एनुअल ग्रोथ रेट (cagr ) 5.4 % होगी. एक रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्तमान में वैश्विक स्तर पर जहाजों के निर्माण उद्योग में भारत की हिस्सेदारी 1 प्रतिशत है जोकि 2007 में रही 3.5% से काफी कम है. सब्सिडी के बावजूद भारत में निजी जहाजरानी कम्पनियां प्रतियोगी बाज़ार में नहीं टिक पा रहीं और सरकारी उपक्रम रक्षा ज़रूरत पूरी कने में ही लगे हैं. ऐसे में  जीआरएसई ने हालात बदलने की ज़िम्मेदारी उठाते हुए उपलब्ध  अपनी तकनीक और  संसाधनों का इस्तेमाल  चीन , वियतनाम और तुर्की से  मुकाबला करने में लगाया है ताकि  यूरोपीय , मध्य पूर्व और अफ़्रीकी बाज़ार से  कम लागत वाले जहाजों के निर्माण के ठेके हासिल किये जा सकें .

युद्धपोत बनाने वाली जीआरएसई गोवा और गुजरात में डेम्पो ग्रुप के साथ व्यवसायिक जहाज़ बनाएगी