अब यूपी के तेज-तर्रार, बेहद संवेदनशील एटीएस अफसर राजेश साहनी ने खुद को गोली मारी

693
राजेश साहनी
ऐसे हंसमुख इंसान थे अपर पुलिस अधीक्षक राजेश साहनी. Photo/Facebook

अभी ज्यादा दिन नहीं हुए जब देश के काबिल और चर्चित आईपीएस अधिकारी हिमांशु राय ने बीमारी से तंग आकर मुम्बई स्थित अपने घर में सर्विस रिवाल्वर से गोली मारकर अपनी जान दे दी थी और आज मंगलवार को एक और पुलिस अधिकारी ने अपनी सर्विस रिवाल्वर से खुदकुशी कर ली. हिमांशु भी एटीएस चीफ रहे थे. यह घटना उत्तर प्रदेश के लखनऊ में आतंकवाद निरोधी दस्ता (एटीएस) के कार्यालय में घटी जब अपर पुलिस अधीक्षक राजेश साहनी ने सर्विस रिवाल्वर से खुद को गोली मार ली. ऐसा आला अधिकारियों का कहना है. सूचना मिलते ही पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया. मौके पर राज्य पुलिस के आला अधिकारी एटीएस मुख्यालय पहुंच गए हैं. आत्महत्या के कारणों का अब तक पता नहीं चल सका है. एक जानकारी यह भी सामने आई है कि राजेश आज छुट्टी पर थे फिर भी आफिस आये थे.

गोमतीनगर स्थित एटीएस मुख्यालय पर दोपहर एक बजे के करीब गोली की आवाज से भगदड़ मच गई. अन्य पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे तो देखा कि तेज-तर्रार पुलिस अफसरों में गिने जाने वाले राजेश साहनी का शव पड़ा था. तत्काल सभी बड़े अधिकारियों को सूचना दी गई. अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) कानून व्यवस्था आनंद कुमार, एसएसपी दीपक कुमार समेत कई अफसर मौके पर पहुंच गए हैं. मामले की जांच की जा रही है.

  • अगर आप उनके फेसबुक अकाउंट पर जाएं तो पाएंगे कि राजेश बहुत संवेदनशील व्यक्ति थे. पारम्परिक, बेहद भावुक और रचनाधर्मी भी. उन्हें रेलवे प्लेटफार्म पर लेटा किशोर भी दर्द दे जाता था. 30 साल पहले उनके किसी अपूर्वानंद नाम के मित्र ने जबरन लिखवाया था. इस लेख में राजेश ने शैक्षिक वातावरण में खाकी की दखलंदाजी के प्रति बेरुखी नजर आती है. उनके अकाउंट में आम जिंदगी को छूने वाली तमाम चीजें हैं जो उनकी शख्शियत को बयान करती हैं.
अपर पुलिस अधीक्षक राजेश साहनी
वो भी क्या दिन थे…अपर पुलिस अधीक्षक राजेश साहनी (बीच में) अपने सहपाठियों के साथ. Photo/Facebook

आनंद कुमार ने कहा, “यह दुखद है कि एक होनहार एवं जांबाज पुलिस अधिकारी ने आत्महत्या कर ली है. लखनऊ पुलिस इसकी गहनता से जांच कर रही है. उन्होंने ड्राइवर से पिस्टल मंगाकर कार्यालय में ही खुद को गोली मार ली.”

गौरतलब है कि 1992 बैच के पीपीएस अधिकारी राजेश साहनी का नाम उत्तर प्रदेश पुलिस के बेहद काबिल अफसरों में शामिल था. वह 2013 में अपर पुलिस अधीक्षक बने थे. उनका जन्म 1969 का है. उन्होंने राजनीति शास्त्र से एमए किया था. बीते सप्ताह ही पिथौरागढ़ से आईएसआई एजेंट रमेश सिंह को गिरफ्तार करने में उन्होंने अहम भूमिका अदा की थी.

घटना के करीब एक घंटे बाद फोरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची. टीम मौके पर साक्ष्य जुटा रही है. घटनास्थल तक जांच टीम के अलावा किसी को जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है.

घटना पर पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने ट्वीट किया कि “हमें यह बताते हुए बेहद कष्ट हो रहा है कि राजेश साहनी (एएसपी एटीएस) नहीं रहे. वह यूपी पुलिस के सबसे काबिल आफिसर्स में से एक थे. उनकी आत्महत्या के कारणों के बारे में अभी तक पता नहीं चल पाया है. हमारी प्रार्थना उनके परिवार के साथ है. उनकी आत्मा को शांति मिले.”

राजेश साहनी
अपर पुलिस अधीक्षक राजेश साहनी ने 30 साल पहले यह लेख ‘सारिका’ के लिये लिखा था. Photo/Facebook
  • अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगे तो शेयर ज़रूर करें.

मुंबई के सुपर कॉप हिमांशु राय ने खुद को गोली मारी, मिली हुई थी Z+ सुरक्षा