भारत के अलग अलग कोने से सीआरपीएफ की 4 साइकिल रैलियाँ

74
सीआरपीएफ
सीआरपीएफ के 15 साइकिल सवार

अंग्रेजी हुकूमत से आज़ादी के 75 वें साल को आज़ादी का अमृत महोत्सव के तौर पर मनाये जाने की योजना के तहत केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल (सीआरपीएफ – CRPF ) देश के अलग अलग कोने से चार साइकिल रैलियाँ आयोजित कर रहा है . इनमे से पहली साइकिल रैली सुदूर दक्षिण प्रांत में कन्याकुमारी से शुरू हुई है जो 2 अक्तूबर को , राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के समाधि स्थल , दिल्ली में राजघाट पर पहुंचेगी. ये सीआरपीएफ के 15 साइकिल सवारों वाली रैली है जो रविवार को रवाना हुई .

सीआरपीएफ
सीआरपीएफ की पहली साइकिल रैली को तमिलनाडु के सूचना और तकनीक मंत्री थीरू टी मानो थंकराज ने कन्याकुमारी स्थित गांधी मंडपम पर हरी झंडी दिखाकर रवाना किया.

सीआरपीएफ के प्रवक्ता के मुताबिक़ ऐसी तीन रैली असम के जोरहाट , गुजरात के साबरमती और जम्मू से जल्द ही रवाना होंगी. सभी रैलियों में शामिल साइकिल सवार 2 अक्तूबर 2021 को दिल्ली में राजघाट पर पहुंचेंगे. इन रैलियों के अलावा भी , आज़ादी के अमृत महोत्सव के दौरान , सीआरपीएफ की देशभर स्थित तमाम यूनिटों में अलग अलग तरह के कार्यक्रम किये जायेंगे.

सीआरपीएफ
सीआरपीएफ की पहली साइकिल रैली को तमिलनाडु के सूचना और तकनीक मंत्री थीरू टी मानो थंकराज ने कन्याकुमारी स्थित गांधी मंडपम पर हरी झंडी दिखाकर रवाना किया.

इस श्रृंखला में सीआरपीएफ की पहली साइकिल रैली को तमिलनाडु के सूचना और तकनीक मंत्री थीरू टी मानो थंकराज ने कन्याकुमारी स्थित गांधी मंडपम पर हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. ये साइकिल सवार कुल मिलाकर रोज़ाना 70 से 80 किलोमीटर साइकिलिंग करते हुए 2850 का सफ़र तय करेंगे. इस दौरान तमिलनाडु , कर्नाटक , आन्ध्र प्रदेश , तेलंगाना , महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश के विभिन्न रास्तों से होते हुए राजधानी दिल्ली पहुंचेंगे. इस सफर के दौरान साइकिलिस्ट आज़ादी के संघर्ष से जुड़े यादगार स्थलों पर जायेंगे और वहां लोगों को आज़ादी के अमृत महोत्सव की अहमियत के बारे में जागरूक करेंगे.

सीआरपीएफ
उपस्थित भीड

तमिलनाडु के पल्लीपुरम में सीआरपीएफ के ग्रुप सेंटर से शुरू हुई 15 साइकिल सवारों इस टोली का नेतृत्व सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट प्रदीप कुमार कर रहे हैं. उनके साथ एक मेडीकल टीम और मदद के लिए अन्य साजो सामान लिए वाहन भी है.