कर्नाटक में रेपिड एक्शन फ़ोर्स (RAF) के नये परिसर में काफी कुछ होगा

31
RAF
केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आरएएफ के लिए बनने वाले परिसर का शिलान्यास किया. परिसर में आरएएफ सीआरपीएफ की 97 वीं बटालियन का मुख्यालय होगा.

भारत के सबसे बड़े केन्द्रीय पुलिस संगठन केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल (सीआरपीएफ CRPF) के त्वरित कार्रवाई बल (रेपिड एक्शन फ़ोर्स-आरएएफ RAF) के लिए कर्नाटक में बड़ा परिसर बनाया जा रहा है. भद्रावती के शिवामोग्गा में 50 एकड़ से ज़्यादा क्षेत्र में बनने वाले इस परिसर में आरएएफ जवानों के परिवारों के लिये तीन सौ से ज्यादा रिहायशी क्वाटर्स बनाये जाने प्रस्तावित हैं. यहाँ अस्पताल और स्कूल जैसी सुविधाओं के साथ साथ स्टेडियम, स्वीमिंग पूल जैसे खेल परिसर एवं परिवारों की रिहायशी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए अन्य सहूलियतें भी मुहैया कराई जाएँगी.

भारत के केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हाल ही में आरएएफ के लिए बनने वाले इस परिसर का शिलान्यास किया. परिसर में आरएएफ की 97 वीं बटालियन का मुख्यालय होगा. कर्नाटक राज्य के बीचों बीच स्थित शिवामोग्गा ऐसी जगह है जहां से पड़ोसी राज्यों केरल, गोवा, पुदुचेर्री, आन्ध्र प्रदेश और लक्षद्वीप में फ़ोर्स पहुँचाने में आसानी होगी इससे वहां उपद्रव और दंगे जैसी स्थिति से जल्दी से निबटा जा सकेगा.

भारत में उपद्रव और अशांति के बढ़ते हालात के मद्देनज़र कानून व्यवस्था बनाये रखने में केन्द्रीय पुलिस बलों की बढ़ती ज़रुरत को ध्यान में रखते हुए सरकार ने 2018 में आरएएफ की पांच और बटालियन बनाने का फैसला लिया था ताकि आरएएफ की कुल मिलाकर 15 बटालियन हो जाएँ. 97 वीं बटालियन उन्हीं में से एक है.

आंतरिक सुरक्षा में तैनात सीआरपीएफ के आरएएफ का गठन 1992 में हुआ था जिसे दंगों आदि जैसे तोड़-फोड़ और आगजनी के हालात से निबटने में विशेषज्ञता हासिल है. बिना किसी भेदभाव के ऐसे हालात में काम करने के तौर तरीके और इसकी ऐसी छवि की वजह से विभिन्न राज्यों की पुलिस में ये लोकप्रिय फ़ोर्स है. सो, राज्यों में इसकी मांग भी ज्यादा रहती है. देश ही नहीं आरएएफ ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी ख्याति और लोकप्रियता हासिल की है. साल 2006 में संयुक्त राष्ट्र की शांति सेना में शामिल होने का आमन्त्रण इसे मिला था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here