पूर्व स्क्वाड्रन लीडर तूलिका रानी जी-20 शिखर वार्ता के लिए यूपी की ब्रांड एम्बेसडर बनीं

55
तूलिका रानी
पर्वतारोही स्क्वाड्रन लीडर तूलिका रानी

भारतीय वायु सेना में बतौर स्क्वाड्रन लीडर सेवा की, पर्वतारोही के तौर पर माउंट एवरेस्ट फतेह की, लेखिका और शिक्षिका की भूमिका के साथ अब तूलिका रानी एक और अहम भूमिका के साथ नए अभियान में जुटी हैं. पूर्व सैनिक अधिकारी तूलिका रानी को जी -20 शिखर वार्ताओं के लिए उत्तर प्रदेश का ब्रांड एम्बेसडर नियुक्त किया गया है. इसके तहत तूलिका रानी उत्तर प्रदेश के युवाओं को इन शिखर वार्ताओं का महत्व और उससे उत्तर प्रदेश को मिलने वाले फायदों के बारे में बताने के लिए विश्वविद्यालयों व कॉलेजों में जाएंगी.

तूलिका रानी
स्क्वाड्रन लीडर तूलिका रानी.

फिलहाल वे राजधानी लखनऊ में है. रक्षक न्यूज़ ने फोन पर हुई बातचीत के दौरान जब उनसे बिलकुल अलग तरह की भूमिका के सवाल पर पूछा तो तूलिका रानी का जवाब था कि भारतीय फौजियों की ट्रेनिंग इस तरह की होती है कि वो विभिन्न परिस्थितियों में विभिन्न प्रकार के काम कर सकते हैं. उनका कहना था कि उपलब्ध संसाधनों का अधिकतम इस्तेमाल करना हम फौजियों को अच्छे से आता है और नई ज़िम्मेदारी को निभाने में उनको इससे मदद मिलेगी.

भारत इस साल जी -20 शिखर वार्ता की मेजबानी कर रहा है जिसमें दुनिया के तकरीबन सभी शक्तिशाली देश शामिल हैं. इनमें विकसित देश भी हैं तो विकासशील देश भी हैं. निश्चित रूप से ऐसे किसी बड़े आयोजन से जुड़ना किसी के लिए भी फ़ख्र की बात है. स्वाभाविक है कि तूलिका रानी भी ऐसा ही महसूस करती हैं. कहती हैं, ” किसी भी देशभक्त के लिए ये गर्व की बात है”.

तूलिका रानी
पर्वतारोही तूलिका रानी

तूलिका रानी का जीवन काफी लोगों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत है और वे एक अच्छी वक्ता भी हैं जिन्हें लोग गम्भीरता से सुनते हैं. चर्चाओं, ऑनलाइन शो, वर्कशॉप जैसे अलग अलग किस्म के आयोजनों में उनकी हिस्सेदारी का अनुभव उनको इस नए काम में मददगार होगा. हालांकि तूलिका रानी का कहना है कि ये कुछ नया नहीं है अलबत्ता विषय थोड़ा हटकर है. उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में 11 शिखर बैठक प्रस्तावित हैं. आबादी के हिसाब से भारत में उत्तर प्रदेश की हिस्सेदारी 5.5 प्रतिशत है. आबादी के अलावा विभिन्न साधनों के मामले में भी यूपी कम नहीं है. ऐसे में इसकी अर्थव्यवथा को बेहतर करने की काफी सम्भावनाएं. तूलिका रानी का कहना है कि उत्तर प्रदेश को प्रभावी तरीके से प्रदर्शित किये जाने की ज़रूरत है ताकि इसमें विदेशी निवेश लाया जा सके जिससे राज्य व देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती मिले.

तूलिका रानी भारत, नेपाल, भूटान, ईरान, अफ्रीका और रूस में अब दो दर्ज़न पर्वतारोही अभियानों में हिस्सा ले चुकी हैं. वे माउंट एवरेस्ट चढ़ने वाली यूपी की पहली महिला हैं. विभिन्न प्रकार के सरकारी व गैर सरकारी संस्थाओं से उनको 17 अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है. इनमें यूपी सरकार की तरफ से दिया जाने वाला रानी लक्ष्मी बाई बहादुरी पुरस्कार और फिक्की की तरफ से दिया जाने वाला ‘ग्लोबल वुमेन अवार्ड’ शामिल है.