उत्तराखंड के घोड़ाखाल सैनिक स्कूल में पद अलंकरण समारोह

37
घोड़ाखाल सैनिक स्कूल में पद अलंकरण समारोह

घोड़ाखाल स्थित सैनिक स्कूल में  पद अलंकरण समारोह का आयोजन हुआ और  विद्यालय के पदाधिकारियों को उनकी जिम्मेदारियां सौंपी गईं. स्कूल के प्रधानाचार्य ग्रुप कैप्टन विजय सिंह डंगवाल ने पदाधिकारियों को शुभकामनाएं दी.

इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में कैडेट्स ने सत्यनिष्ठा के साथ विद्यालय के मान-सम्मान को और ऊँचाइयों पर ले जाने की शपथ ली.

उत्तराखंड के नैनीताल ज़िले के घोडाखाल (ghodakhal)  में स्थित यह सैनिक स्कूल भारत में स्थापित किए गए शुरूआती सैनिक स्कूलों में से है जिसकी स्थापना भारत के पहले प्रधानमन्त्री जवाहर लाल नेहरु ने 1966 में की थी. तब इसमें 60 विद्यार्थी the जिनकी संख्या अब 525 है . तकरीबन 500 एकड़ के विशाल क्षेत्र में स्थापित घोड़ासाल  सैनिक स्कूल में कक्षा 6 से 12 वीं तक पढ़ाई होती है . यह सेन्ट्रल बोर्ड ऑफ़ सेकेंडरी एजुकेशन ( सीबीएससी -cbse ) से सम्बद्ध स्कूल है जिसमें लडके लड़कियां दोनों ही साथ पढ़ते हैं .

अखिल भर्ती स्तर पर ली जाने वाली प्रवेश परीक्षा के आधार पर ही इस सैनिक स्कूल में भी दाखिला होता है . यह परीक्षा नेशनल टेस्टिंग एजेंसी हर साल करवाती है. घोड़ाखाल के  सैनिक स्कूल  ने भारतीय सेना को कई होनहार अधिकारी भी दिए हैं .