रॉबिन हिबू :आईपीएस बनने वाले पहले अरुणाचली जो अब डीजीपी भी बने

11
भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी रॉबिन हिबू
अरुणाचल प्रदेश में चीन बॉर्डर के पास के एक गांव में जन्मे और संघर्षों में पले – पढ़े रॉबिन हिबू ने एक बार फिर से इतिहास रच दिया है. भारतीय पुलिस सेवा के सबसे ऊँचे ओहदे यानि ‘ महानिदेशक ‘ तक पहुँच जाने वाले वह पहले अरुणाचली बन गए हैं . 56 वर्षीय हिबू वर्तमान में दिल्ली पुलिस ( delhi police) में स्पेशल कमिश्नर हैं .

हाल ही में केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय ने भारतीय पुलिस सेवा के 1993 बैच के एजीएमयूटी ( AGMUT) कैडर के  अधिकारी रॉबिन हिबू  की  पुलिस महानिदेशक पद पर प्रोन्नति को मंजूरी दी है .

रॉबिन हिबू ने डीजीपी ( dgp ) के पद पर पदोन्नत होने पर खुशी जाहिर की.  उन्होंने कहा, “मैं अरुणाचल प्रदेश के हर व्यक्ति के साथ इस खुशी को साझा करता हूं. हांग गांव के एक स्कूल से शुरू होकर आईपीएस अधिकारी बनने और भारत में सेवा करने तथा अपनी लम्बी  सेवा के दौरान संयुक्त राष्ट्र शांति सेना का हिस्सा बनने तक का सफर अविश्वसनीय रहा है.”

इस बीच, अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ( pema khandu ) और उपमुख्यमंत्री चौना मीन ने आईपीएस रॉबिन  हिबू ( ips robin hibu ) की पदोन्नति पर खुशी जताई है.

“अरुणाचल प्रदेश के रहने वाले आईपीएस श्री रॉबिन हिबू ने कई उपलब्धियां हासिल की हैं.  और अब डीजीपी के रूप में उनकी पदोन्नति, इस रैंक को हासिल करने वाले राज्य के पहले अधिकारी, एक सुखद समाचार है.  हार्दिक बधाई ! निष्ठा और समर्पण के साथ देश की सेवा करते रहें। मेरी शुभकामनाएं,” पेमा खंडू  खांडू ने फेसबुक पर पोस्ट किया है .

मीन ने कहा कि हिबू की निष्ठा, प्रतिबद्धता और अनुकरणीय सेवा सार्वजनिक सेवा और कानून प्रवर्तन के प्रति उनकी निष्ठा का प्रमाण है.

यह भी पढ़ें: राष्ट्रपति भवन की सुरक्षा में लगे IPS रॉबिन हिबू की जिंदगी चौंकाती है

उपमुख्यमंत्री चौना मीन ने कहा, “उनकी यात्रा दृढ़ता और उत्कृष्टता की भावना को दर्शाती है जो हमारे राज्य के अनगिनत युवा पुरुषों और महिलाओं को अपने सपनों को पूरा करने और सम्मान और ईमानदारी के साथ हमारे देश की सेवा करने के लिए प्रेरित करेगी.”