श्रीनगर में स्वर्णिम विजय वर्ष कार्यक्रमों में ब्लेड रनर डीपी सिंह की ख़ास शिरकत होगी

15
स्वर्णिम विजय वर्ष
बादामी बाग़ छावनी में टाइम स्क्वैयर पर स्वर्णिम विजय मशाल के पहुंचने पर उसका स्वागत किया गया

पाकिस्तान के साथ 1971 में लड़े गए युद्ध की विजय की गोल्डन जुबली को स्वर्णिम विजय वर्ष के तौर पर एक उत्सव की तरह मना रही भारतीय सेना के ख़ास कार्यक्रमों में से कुछेक आकर्षण जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में 14 जुलाई से दिखाई देंगे. इसी दौरान स्वर्णिम विजय मशाल भी यहाँ होगी. 1971 के युद्ध में हिस्सा ले चुके कुछ कश्मीरी वीर भी इस कार्यक्रम में शामिल होंगे. गीत संगीत से लेकर खेल और फिटनेस से ताल्लुक रखने वाले कार्यक्रम भी किये जायेंगे और इनमें आम जनता भी शामिल होगी. भारत के पहले ब्लेड रनर के तौर पर ख्याति प्राप्त भारतीय थल सेना के सेवानिवृत्त मेजर डीपी सिंह विशेष मेहमान के तौर इन कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे जिन्होंने युद्ध भूमि में अपनी एक टांग गंवा दी थी लेकिन उनके गजब के हौसले व जज्बे ने उनको ऐसे लाखों लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत बना दिया जो अपने जिस्म का अंग गंवा चुके हैं.

स्वर्णिम विजय वर्ष
बादामी बाग़ छावनी में टाइम स्क्वैयर पर स्वर्णिम विजय मशाल के पहुंचने पर उसका स्वागत किया गया

थल सेना की 31 सब एरिया कमांड की तरफ से आयोजित किये जाने वाले इन कार्यक्रमों की शुरुआत 14 जुलाई को सुबह विजय दौड़ (विक्टरी रन-Victory Run) से होगी जिसमें ब्लेड रनर मेजर डीपी सिंह शामिल होंगे. दोपहर बाद चार बजे से हरी पर्बत पर विक्टरी क्लाइंब (Victory Climb) का आयोजन है. 15 जुलाई को सुबह झेलम नदी पर बोटिंग होगी उसका रूट बीआरएस गेट से जोगर्स पार्क तक होगा. उसी दिन 12 बजे से 3 बजे तक श्रीनगर के पश्चिमी इलाकों में विजय दौड़ होगी. रात 8 बजे बादामी बाग़ छावनी (BB Cant) के म्यूजियम में वीर शहीदों की याद में ‘इबादत ए शहादत’ नाम से लाइट एंड साउंड शो होगा.

स्वर्णिम विजय वर्ष
बादामी बाग़ छावनी में टाइम स्क्वैयर पर स्वर्णिम विजय मशाल के पहुंचने पर उसका स्वागत किया गया

इन्हीं कार्यक्रमों के तहत 16 जुलाई को बीबी कैंट में सुबह कोर युद्ध स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित होगी जिसमें जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा शामिल होंगे.

मेजर डीपी सिंह
भारतीय थल सेना के सेवानिवृत्त मेजर डीपी सिंह विशेष मेहमान होंगे

17 जुलाई को श्रीनगर के पूर्वी क्षेत्रों में विजय दौड़ होगी. राजधानी श्रीनगर की पहचान कही जाने वाली डल झील के इलाके में साइकिलिंग, स्केटिंग वगैरह जैसे आयोजन होंगे. उसी दिन शाम को बीबी केंट म्यूजियम में वीर शहीदों की याद में ‘इबादत ए शहादत’ लाइट एंड साउंड शो होगा. 18 और 19 जुलाई को आर्मी पब्लिक स्कूल और केन्द्रीय विद्यालय के छात्रों और अभिभावकों के लिए कार्यक्रम होगा. 15 कोर की तरफ से 20 जुलाई को स्वर्णिम विजय मशाल 14 कोर को सौंप दी जायेगी. ये कार्यक्रम जोजिला पास पर होगा.