मिलें कैप्टन अभिलाषा से जो एएसी की पहली महिला युद्धक हवाबाज़ अधिकारी बनीं

27
कैप्टन अभिलाषा बराक
कैप्टन अभिलाषा बराक भारत की पहली युद्धक हवाबाज़ महिला अधिकारी बनीं.

भारतीय थल सेना की विमानन कोर (Aviation corps) को कैप्टन अभिलाषा बराक के तौर पहली युद्धक हवाबाज़ (combat aviator) महिला अधिकारी मिली है. सेना की तरफ से जारी की गई सूचना के मुताबिक़ अभिलाषा बराक ने कामयाबी के साथ अपनी ट्रेनिंग पूरी कर ली है. इसके बाद कैप्टन अभिलाषा को आर्मी एविएशन कॉपर्स में शामिल किया गया.

दरअसल, 15 महिला अधिकारियों ने आर्मी एविएशन कोर में शामिल होने की इच्छा ज़ाहिर की थी लेकिन इनमें से सिर्फ दो अधिकारियों का ही पायलट एप्टीट्यूड बैटरी टेस्ट और मेडिकल के बाद सलेक्शन हुआ. कैप्टन अभिलाषा बराक को आर्मी एविएशन के महानिदेशक एवं कर्नल कमान्डेंट ने बुधवार को कोवेटेड विंग (coveted wing) प्रदान किये और उनको कॉम्बैट एविएशन स्क्वाड्रन का हिस्सा बनाया.

कैप्टन अभिलाषा बराक
कैप्टन अभिलाषा बराक भारत की पहली युद्धक हवाबाज़ महिला अधिकारी बनीं.

भारत की आर्मी एविएशन कोर (AAC) को एक ग्रुप के तौर पर 1986 में बनाई गई थी. आर्मी एविएशन कोर के उम्मीदवारों को महाराष्ट्र के नासिक में कॉम्बैट आर्मी एविएशन ट्रेनिंग स्कूल (CATS) में ट्रेंड किया जाता है. कोर का नेतृत्व, नई दिल्ली स्थित महानिदेशक पद के लेफ्टिनेंट जनरल करते हैं. एएसी युद्धभूमि में सहायता, सैन्य सर्वेक्षण की प्रमुख भूमिकाओं में काम करता है. इस एविएशन कोर के पास चेतक, रूद्र और ध्रुव जैसे बेहतरीन हेलिकॉप्टर है.

वर्तमान में एविएशन विभाग में महिलाओं को एयर ट्रैफिक कंट्रोल (ATC) और ग्राउंड ड्यूटी (GD) की जिम्मेदारी दी जाती है लेकिन अब ये पायलट की जिम्मेदारी संभालेंगी. साल 2018 में भारतीय वायु सेना (INDIAN AIR FORCE) की फ्लाइंग ऑफिसर अवनि चतुर्वेदी लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला बनी थी.