आईपीएस संगीता कालिया का फिर से तबादला, हरियाणा पुलिस में 7 और अफसर बदले

1701
भारतीय पुलिस सेवा की अधिकारी संगीता कालिया का तबादला
फाइल फोटो

भारतीय पुलिस सेवा की अधिकारी संगीता कालिया का एक बार फिर तबादला कर दिया गया है. इस बार भी उनके तबादले के तार हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से उनकी तनातनी से जुड़े हुए लगते हैं. अब हरियाणा में पानीपत जिले के पुलिस अधीक्षक (एसपी -SP ) के पद से हटाई गई 2010 बैच की इस IPS अधिकारी संगीता कालिया को गुरुग्राम में भोंडसी स्थित पहली इंडियन रिजर्व बटालियन का कमांडेंट बनाया गया है. उनकी जगह मनबीर सिंह को पानीपत का एसपी तैनात किया गया है.

हरियाणा में भारतीय जनता पार्टी की मौजूदा सरकार बनने के बाद से ये दूसरा मौका है जब संगीता कालिया को, श्री विज की शिकायत के बाद जिले से हटाया गया. वैसे वो अकेली ऐसी अधिकारी नहीं है जिनका तबादला हुआ हो. उनके अलावा हरियाणा के सात और IPS अधिकारियों के नाम भी इस स्थानांतरण सूची में हैं.

ये रहा मामला :

असल में इस बार के तबादले की जड़ में 30 जून को पानीपत में श्री विज की ग्रीवांस कमेटी की वो बैठक है जिसमें संगीता कालिया गैरमौजूद रहीं. एक दिन पहले संगीता ने अर्जेंट लीव ले ली थी. तब ये मुद्दा उठा कि उनके न आने की वजह से, पुलिस विभाग की शिकायतों पर सुनवाई नहीं हो सकी. बताया जाता है कि इस बात की शिकायत श्री विज ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से की.

पुराना विवाद :

इससे पहले 2015 में फतेहाबाद में एक बैठक में संगीता कालिया और अनिल विज के बीच जमकर बहस हुई थी जब श्री विज ने शराब की अवैध बिक्री के लिए पुलिस को दोषी ठहराया था. संगीता तब फतेहाबाद की एसपी थीं. बहस के दौरान नाराज़ मंत्री अनिल विज ने संगीता कालिया को बैठक से बाहर निकलने का आदेश देते हुए “गेट आउट” तक बोल डाला था. संगीता वहां से नहीं उठीं तो अनिल विज और उनके साथ बाकी जनप्रतिनिधि बैठक के बीच में से ही उठकर चले गए थे. ये मामला मीडिया में खूब उछला था.

कौन हैं संगीता कालिया?

संगीता के पिता धरमपाल फतेहाबाद में पुलिस महकमे में पेंटर थे और बेटी को IPS बनाने का सपना जब 2010 में पूरा हुआ तो उन्होंने वो नौकरी छोड़ दी. IPS अधिकारी संगीता कालिया ने हरियाणा के भिवानी जिले में स्कूली शिक्षा और स्नातक किया. उन्होंने अर्थशास्त्र में एमए भी किया.

संगीता ने 2005 में संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की पहली बार सिविल सेवा परीक्षा दी लेकिन उसे पास न कर सकीं. दूसरे प्रयास में उन्होंने ये इम्तेहान तो पास कर लिया लेकिन अच्छी रैंक न होने के कारण वह रेलवे सेवा के लायक समझी गईं लेकिन उन्होंने इसे स्वीकार नहीं किया. तीसरी बार यानि 2009 उन्होंने UPSC की परीक्षा बेहतर रैंक से उत्तीर्ण की और अपने पिता के सपने को साकार किया.

ये भी स्थानांतरित किये गये :

इस बीच जिन और पुलिस अधिकारियों के तबादले किये गये हैं उनमें केके मिश्रा को पंचकुला में महानिदेशक (मुख्यालय) बनाया गया है जबकि पी के अग्रवाल को अतिरिक्त महानिदेशक (अपराध) के ओहदे पर तैनात किया गया. हरदीप सिंह दून को पुलिस महानिरीक्षक (प्रशासन) तैनात किया गया है. श्री दून हरियाणा सशस्त्र पुलिस (HAP), मधुबन के महानिरीक्षक का भी कामकाज देखेंगे.

इसके अलावा बी. सथेश बालन को स्पेशल टास्क फ़ोर्स, भोंडसी का उप महानिरीक्षक (DIG) तैनात किया गया है. साथ ही प्रतीक्षा गोदारा को हांसी के पुलिस अधीक्षक का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा गया है. रेवाड़ी के पुलिस अधीक्षक राजेश दुग्गल को HAP की तीसरी बटालियन का अतिरिक्त कार्यभार दिया गया है.

चंडीगढ़ पुलिस में थोक भाव में किये गए तबादलों पर विवाद के बाद लगी रोक