पुलिस की उगाही की लिस्ट ने ऐसा मचाया हड़कम्प

428
उत्तर प्रदेश पुलिस
प्रतीकात्मक तस्वीर

न खाऊँगा और न खाने दूंगा जैसे वादों और जुमलों से प्रभावित लोगों के बीच ऐसी बातें तब मज़ाक बनने लगती हैं जब उत्तर प्रदेश के नोएडा जैसे हाई प्रोफ़ाइल जिले में पुलिस की, सबसे ज्यादा जांबाजों वाली यूनिट की रिश्वत/उगाही और उसकी बन्दरबांट की लिस्ट जारी होती है. भारत में पुलिस पर रिश्वतखोरी वाली इमेज के बीच ऐसे इलज़ाम कोई नयी बात नहीं लगती लेकिन इस मामले में जो हुआ वो बड़े बड़े अफसरों को शर्मसार कर रहा है.

‘किससे कितनी वसूली की जाती है और उसमें से किसको कितना मिलता है?’ इसका पूरा और सिलसिलेवार ब्योरा देती वो कथित लिस्ट उत्तर प्रदेश के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों तक ही सिर्फ नहीं, पुलिस प्रमुख यानि महानिदेशक ओपी सिंह तक भी पहुंच गई. नोएडा के स्पेशल आपरेशन ग्रुप (SOG) से ताल्लुक रखने वाली ये लिस्ट इसी ग्रुप में तैनात किसी पुलिसकर्मी ने सम्भवत: व्हाट्स ऐप के स्क्रीन शाट की फोटो के साथ ट्वीट की, साथ ही इसे कई अफसरों को टैग भी कर दिया गया.

नोएडा पुलिस की SOG
उगाही की कथित लिस्ट जो सोशल मीडिया पर घूम रही है.

इधर मामला राजधानी लखनऊ पहुंचा और उधर जिले के एसएसपी अजयपाल शर्मा ने SOG के मुखिया संजीव कुमार और उनकी पूरी टीम को हटाकर लाइन हाज़िर कर दिया, साथ ही पूरे मामले की जांच के लिए एसपी (सिटी) अरुक कुमार सिंह को लगा दिया. गुरूवार को ट्वीट किया गया ये संदेश वैसे शुक्रवार शाम तक डिलीट भी कर डाला गया था. सबसे पहले तो इस ट्वीट की असलियत और सच्चाई का पता लगाया जाएगा और फिर इसमें दिए गये ब्योरे के आधार पर कार्यवाही होगी-ऐसा कहना है पुलिस अधिकारियों का.

इस लिस्ट में उन सही कारोबारियों, पेट्रोल पम्प, होटल, रेस्त्रां आदि के नाम के आगे वो रकम लिखी गई जो उनसे वसूली गई थी. साथ ही ये भी जिक्र है इस पैसे में से किसको कितना पैसा बांटा गया और कितना पुलिस की टीम को अपने काम पर खर्च करना पड़ा. यहाँ तक कि इसमें हथियार तक खरीदने की भी बात है. इसमें एक एनकाउंटर पर खर्च हुए पैसे का भी ज़िक्र है जो संभवत: मुखबिर को दिया गया था. होली के भंडारे के लिए 50 हज़ार रूपये, इंस्पेक्टर को 90 हजार… वगैरह जैसी कई एंट्री हैं.