मवेशियों से भरे वाहन से कुचल कर महिला दारोगा को मार डाला

15
सब इंस्पेक्टर संध्या टोपनो
सब इंस्पेक्टर संध्या टोपनो

हरियाणा के नूंह में खनन माफिया के ट्रक द्वारा एक डीएसपी की जान लेने की खौफनाक घटना को बीते कुछ घंटे ही हुए थे कि ऐसा ही और दर्दनाक वाकया सैकड़ों मील दूर झारखंड में सामने आया. यहां राजधानी रांची में तैनात एक महिला सब इंस्पेक्टर संध्या टोपनो की जान उस पिकअप वैन ने ले ली जिसे मवेशियों की तस्करी में इस्तेमाल किये जाने के शक में रोका जा रहा था. ड्राइवर ने मवेशियों से भरी वैन संध्या टोपनो के ऊपर चढ़ा दी. बुरी तरह घायल संध्या ने कुछ ही देर में प्राण त्याग दिए. पुलिस ने वाहन को कब्ज़े में लेकर ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है जो वारदात के बाद फरार हो रहा था. वाहन का मालिक उस समय पुलिस से बच कर निकल गया.

संध्या टोपनो रांची की तुपुदाना पुलिस चौकी (tupudana post) की प्रभारी थीं. बुधवार की तडके उन्हें उपरोक्त ट्रक के बारे में सूचना मिली थी जिसमें कुछ पशु लदे हुए थे. सूचना थी कि ये वाहन पशु तस्करी में इस्तेमाल हो रहा है. रास्ते में ये पुलिस से बचने के लिए चकमा देते हुए आया है. रांची की तरफ आने की इसकी खबर के बाद संध्या टोपनो हुलहुन्दू में गाड़ियों की चेकिंग कर रहीं थीं.

असल में ओडिशा की तरफ से आ रही पशुओं से लदी इस गाडी की सूचना पहले सिमडेगा की पुलिस को मिली थी. सिमडेगा के बसिया थाने के इलाके से इसका पीछा शुरू किया गया तो चालक ने इसकी रफ्तार बढ़ा ली. इसकी सूचना खू़ंटी पुलिस को दी गई तो खू़ंटी पुलिस ने रात में नाके पर चैकिंग शुरू की लेकिन पिकअप वैन का चालक वहां से चकमा देकर रांची की तरफ भागा. इस पर रांची पुलिस को सूचना दी गई. रांची पुलिस ने खूंटी-रांची सीमा के तुपुदाना ओपी क्षेत्र के हुल्हुन्दू के पास चेकिंग शुरू कराई.

ऐसे हुई चेकिंग के दौरान पूरी घटना :

हुलहुंडू में चेकिंग के दौरान रोकी गई एक कार को दो पुलिसकर्मी चेक करने लगे. लेकिन वहां पर किसी तरह की कोई बैरिकेडिंग चेकिंग नहीं लगायी गयी थी. इसी दौरान पिकअप वैन आती दिखी जिसे संध्या टोपनो ने खुद हाथ देकर रोकने का इशारा किया. उस वक्त तो पिकअप की रफ्तार कम हो गयी. पिकअप वैन को रुकते देख एसआई संध्या उसके सामने आ गयी. लेकिन अचानक पिकअप वैन की रफ्तार तेज हुई और उसने संध्या को सीधे कुचल दिया. यही नहीं पिकअप ने पुलिस के गश्ती वाहन को भी टक्कर मारी. चश्मदीदों का कहना है कि संध्या को घसीटते हुए वाहन तकरीबन 100 मीटर आगे ले गया. बुरी तरह घायल संध्या टोपनो को रांची इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेस (रिम्स) ले जाया गया लेकिन डाक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया.

दारोगा संध्या टोपनो को रौदते हुए गई पिकअप वैन का टायर ब्लास्ट हो गया. इस कारण वाहन पलट गया. वाहन का पीछा कर रही पुलिस की गाड़ी ने पिकअप वैन (JH 01EJ 7501) और उसके चालक निजार को पकड़ा. लेकिन, वाहन में बैठा दूसरा तस्कर और पिकअप वैन का मालिक साजिद फरार हो गया. पिकअप वैन पर मवेशी लदे थे. वैन पलटने के बाद सारे मवेशी भी भाग गए.

एसआईटी करेगी जांच :

ये सीधा सीधा मवेशियों की तस्करी और उनके अवैध तरीके से वध करने का गोरखधंधा दिखाई देता है. पूरे मामले की छानबीन के लिए एसएसपी किशोर कौशल ने सिटी एसपी अंशुमान कुमार के नेतृत्व में विशेष जांच दल (एसआईटी -SIT) का गठन किया है. इस टीम में हटिया के डीएसपी राजा मित्रा, धुर्वा थाने के प्रभारी प्रवीण कुमार, जगन्नाथपुर थाना प्रभारी अरविंद सिंह, तुपुदाना चौकी के प्रभारी कन्हैया सिंह को शामिल किया गया है.

हरियाणा में क्या हुआ :

हरियाणा पुलिस
डीएसपी सुरेन्द्र सिंह बिश्नोई की फाइल फोटो

उल्लेखनीय है कि हरियाणा के नूंह में अरावली रेंज में खनन माफिया के वाहनों की जांच कर रहे डीएसपी सुरेन्द्र सिंह बिश्नोई की ट्रक से कुचल कर हत्या कर दी गई थी. ये वारदात गत मंगलवार की है. 59 वर्षीय डीएसपी सुरेन्द्र सिंह बिश्नोई हरियाणा के ही हिसार के आदमपुर क्षेत्र के सारंगपुर गांव के रहने वाले थे. सुरेन्द्र सिंह 12 अप्रैल 1994 को हरियाणा पुलिस में बतौर सहायक पुलिस निरीक्षक (एएसआई – ASI ) भर्ती हुए थे. उन्हें इसी साल 31 अक्टूबर को रिटायर होना था.