पंजाब पुलिस एसआई भर्ती परीक्षा में गड़बड़ियां, 20 गिरफ्तार, अब भर्ती बोर्ड बना

17
पंजाब पुलिस एसआई भर्ती
सांकेतिक तस्वीर

पंजाब पुलिस में एसआई भर्ती (सब इंस्पेक्टर भर्ती) के लिए अगस्त महीने में हुई कंप्यूटर आधारित परीक्षा ख़ारिज कर दी गई है. परीक्षा में नकल किये जाने की कई शिकायतें मिलने और धांधलियों से सम्बन्धित मामले सामने के बाद ये फैसला लिया गया है. पंजाब पुलिस के अलग अलग चार विंग में 560 एसआई भर्ती करने के लिए ये सामान्य कंप्यूटर आधारित परीक्षा (Common computer based test ) पंजाब में अलग अलग केंद्रों पर 17 से 24 अगस्त के बीच हुई थी. इस परीक्षा के जरिये पंजाब पुलिस के चार विंग यानि जांच, ज़िले, सशस्त्र पुलिस और इंटेलिजेंस के लिए सब इन्स्पेक्टर भर्ती किये जाने थे.

एक सरकारी अधिकारी के मुताबिक़ पंजाब के मुख्यमंत्री चरनजीत सिंह चन्नी और उप मुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा के दिशा निर्देश के बाद इस परीक्षा को ख़ारिज करने से जुड़ा फैसला लिया गया है ताकि पुलिस भर्ती प्रक्रिया साफ सुथरे तरीके से की जा सके. वहीं पंजाब पुलिस में अब एसआई भर्ती के लिए अलग से भर्ती बोर्ड बनाने की प्रक्रिया शुरू की गई है जिसे पंजाब पुलिस के महानिदेशक ने मंजूरी दे दी है. पंजाब पुलिस के प्रवक्ता का कहना है कि एसआई भर्ती की नई प्रक्रिया से सम्बन्धित सूचना जल्द ही जारी की जायेगी.

पंजाब पुलिस एसआई भर्ती
सांकेतिक तस्वीर

पंजाब पुलिस में एसआई भर्ती के लिए परीक्षा में नकल और धांधलियों के सिलसिले में अब तक पंजाब पुलिस ने तीन प्राथमिकियां (FIR ) दर्ज की हैं. ये एफआईआर पटियाला, खन्ना और साहबज़ादा अजीत सिंह नगर (एसएएस नगर – SAS nagar ) में दर्ज की गईं और इस संबंध में अब तक 20 लोगों को गिरफ़्तार भी किया गया है. सब इन्स्पेक्टर परीक्षा (SI Exam) में गड़बड़ियों की शिकायतें मिलने के बाद पुलिस महानिदेशक ने 15 सितंबर 2021 को इन मामलों की त्वरित जांच के लिए अतिरिक्त महानिदेशक प्रोमोद बन के नेतृत्व में विशेष जांच दल (special investigation team – SIT) का गठन किया था. प्रमोद बान विशेष अपराध और आर्थिक अपराध शाखा के प्रभारी अधिकारी है. गिरफ्तारियां और जांच की कार्रवाई एसआईटी ही कर रही है.

एसआई भर्ती परीक्षा में नकल और गड़बड़ियों से सम्बन्धित एक रिपोर्ट 27 सितंबर को महानिदेशक कार्यालय को मिली थी जिसके बाद पंजाब पुलिस के महानिदेशक ने 2 अक्तूबर को भर्ती बोर्ड बनाने के निर्णय को मंजूरी दी थी.