SSB स्थापना दिवस के जश्न में नेपाल सशस्त्र पुलिस भी शामिल

1294
SSB
बाइक पर करतब दिखाते सशस्त्र सीमा बल के जवान.

सेवा, सुरक्षा और बन्धुत्व के ध्येय वाक्य के साथ भारतीय सीमाओं के पहरेदारी कर रही सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी-SSB) आज अपनी स्थापना की 55 वीं सालगिरह मना रही है. इस मौके पर दिल्ली के घिटोरनी स्थित 25 वीं बटालियन परिसर में शानदार परेड का आयोजन किया गया. यहाँ नेपाल सशस्त्र पुलिस के अधिकारी भी मौजूद थे जो दोनों देशों के पुलिस संगठनों के बीच विभिन्न स्तरों पर आपसी तालमेल का गवाह है. महानिदेशक सुरजीत सिंह देसवाल ने परेड की सलामी ली.

SSB
सशस्त्र सीमा बल के 55वें स्थापना दिवस पर करतब दिखाती महिला शक्ति.
SSB
एसएसबी महानिदेशक सुरजीत सिंह देसवाल ने परेड की सलामी ली.
SSB
सशस्त्र सीमा बल की स्थापना की 55 वीं सालगिरह पर ग्रुप फोटो.

सलामी परेड के बाद सभी सीमांत मुख्यालयों की परेड टुकड़ियों ने भव्य मार्च पास्ट किया जिसमें शल ऑप्स, महिला टुकड़ी भी शामिल थी. एसएसबी सैनिकों, मोटरसाइकिल दस्ते, श्वान दस्ते, थांग ता, ताउलू और माउंटेनियरिंग जैसे प्रदर्शन ने आयोजन को मनोरम और भव्य बनाया. बल में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए बल के महानिदेशक श्री देसवाल ने अधिकारियों और कर्मचारियों को महानिदेशक स्वर्ण पदक और महानिदेशक रजत पदक से सम्मानित किया.

1963 में स्थापित एसएसबी को एक सीमा बल में परिवर्तित करने के बाद 2001 में भारत-नेपाल सीमा पर और वर्ष 2004 में भारत-भूटान सीमा पर तैनात किया गया. एक नए सीमा बल होने के बाबजूद, सशस्त्र सीमा बल ने सराहनीय कार्य करते हुए, अपनी स्वीकृत कुल 73 बटालियन खड़ी करके उसे संचालित करने में कामयाबी हासिल की. वर्तमान में, भारत-नेपाल और भारत-भूटान सीमाओं पर इसकी 53 बटालियन तैनात हैं.

भारत-नेपाल और भारत-भूटान सीमाओं की सुरक्षा और सीमा क्षेत्र में रहने वाले लोगों के बीच सुरक्षा की भावना को बढ़ावा देने और सीमावर्ती क्षेत्रो में अपराधों को रोकने के लिए सीमा पर 708 बीओपी (बॉर्डर आउट पोस्ट) स्थापित की है.