भारतीय वायु सेना ने ज़मीं से आसमां तक शान से मनाया 89 वां स्थापना दिवस

9
भारतीय वायु सेना
हिंडन एयर फोर्स स्टेशन पर भारतीय वायु सेना ने शानदार तरीके से अपना 89 वां स्थापना दिवस मनाया.

एशिया के सबसे बड़े वायु सैनिक ठिकाने, दिल्ली के पास उत्तर प्रदेश में, हिंडन एयर फोर्स स्टेशन पर भारतीय वायु सेना ने शानदार तरीके से अपना 89 वां स्थापना दिवस मनाया. स्थापना दिवस समारोह के दौरान भारतीय वायु सेना के पायलटों ने विमानों से आसमान में परवाज़ भरते हुए तरह तरह की फोर्मेशन बनाकर दर्शकों का मन मोह लिया. हाल ही में वायु सेना के प्रमुख का ओहदा संभालने वाले एयर चीफ मार्शल विवेक राम चौधरी ने वायु सेना के जवानों और तमाम रैंक्स को इस अवसर पर संबोधित किया.

शुक्रवार की सुबह भारतीय वायु सेना के जवानों ने हिंडन एयर फ़ोर्स स्टेशन के परेड ग्राउंड में जहां बेहतरीन मार्च पास्ट किया तो आकाश में उससे भी ज्यादा कमाल दिखाया. वायु सैनिकों में जमीन से लेकर आसमान तक गज़ब का आपसी तालमेल देखने का ये सुनहरी मौकों में से एक था. इस ख़ूबसूरत फ्लाई पास्ट के साथ साथ यहां से उड़ते गये रफेल, तेजस और सुखोई लड़ाकू विमानों की गर्जना भी दूर दूर तक सुनाई दी. भारत के चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ जनरल बिपिन सिंह रावत, थल सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे और नौसेना प्रमुख एडमिरल करमवीर सिंह भी इस अवसर पर मौजूद थे.

भारतीय वायु सेना
हिंडन एयर फोर्स स्टेशन पर भारतीय वायु सेना ने शानदार तरीके से अपना 89 वां स्थापना दिवस मनाया.

एक हजार किलोग्राम वज़नी खादी के बने भारत के राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे की मौजूदगी भी यहां खासा आकर्षण का केंद्र रही. हिंडन पर सुबह एयर फ़ोर्स डे की शुरुआत पैराजंपर टीम आकाशगंगा के साथ हुई. आकाशगंगा दल के सदस्यों को 8000 फुट की ऊंचाई से छलांग लगाकर पैराशूट से एयरफोर्स स्टेशन के परेड ग्राउंड पर उतारा गया. उड़ान के दौरान चिनूक और अपाचे हेलीकाप्टरों ने तीनों सेनाओं के प्रमुखों को सलामी दी. लड़ाकू विमानों राफेल, तेजस और सुखोई की तिकड़ी ने ट्रांसफार्मर फार्मेशन (transformer formation) बनाकर सब को अपनी ताकत दिखाई. एयर शो में हमेशा की तरह हमेशा आसमानी रोमांच भर देने वाली सूर्यकिरण एरोबेटिक्स टीम ने और सारंग हेलीकाप्टर के दल ने भी मज़ा बाँध दिया. इसी के साथ टाइगर मोथ और डकोटा विमानों ने भी लोगों को वायुसेना के ऐतिहासिक गौरव और शूरवीरता से रूबरू करवाया.

भारतीय वायु सेना
हिंडन एयर फोर्स स्टेशन पर भारतीय वायु सेना ने शानदार तरीके से अपना 89 वां स्थापना दिवस मनाया.

आकाश गंगा टीम की मौजूदगी 1971 के युद्ध की विजय का अहसास कराती है. तब इसी डकोटा विमान से छलांग लगाकर थल सेना के पैराजम्पर उतरे थे. आज उस युद्ध की जीत के जश्न के 50 साल पूरे होने पर स्वर्णिम विजय वर्ष मना रहा है. वहीं आज़ादी के 75 साल पूरे होने पर प्लेटिनम जुबली वर्ष मनाए जाने के प्रतीक के तौर पर 75 विमानों ने इस एयर शो में हिस्सा लिया. इन 75 विमानों का बेड़ा पुराने और आधुनिक नये विमानों का मिश्रण था.

भारतीय वायु सेना की स्थापना 8 अक्टूबर 1932 को हुई थी. तब ब्रिटिश शासन के दौरान इसका नाम रॉयल इंडियन एयर फ़ोर्स था. ब्रितानी हुकूमत से आजादी मिलने के बाद सेना के नाम के आगे से ‘रॉयल’ शब्द हटा दिया गया था.