सेना का कोटलारी में मेडिकल कैंप : नागरिकों के साथ पशुओं का भी इलाज

121
सेना
बुजुर्गों को इस तरह सेना के जवान कैम्प तक ले गए.

आतंकवाद और विदेशी घुसपैठ की चुनौती से निपटने के लिये जम्मू कश्मीर में तैनात भारतीय सेना राष्ट्र धर्म के साथ साथ मानव धर्म निभाने में भी पीछे नहीं है. अपने सिविक एक्शन जैसे कार्यक्रम हों या खेलों को बढ़ावा देना, आर्मी यहाँ निरंतर स्थानीय लोगों की मदद के लिए अपना हाथ बढ़ाती रही है. कुपवाड़ा के कोटलारी में लगाया गया उपचार शिविर भी इसी कड़ी का हिस्सा रहा.

सेना
चिकित्सा सहायता

इंडियन आर्मी की चिनार कोर की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक़ कोटलारी में 9 सदस्यीय मेडिकल टीम ने हेल्थ कैम्प का आयोजन किया. यहाँ पर इंसानों का ही नहीं स्थानीय निवासियों के पालतू पशुओं का भी इलाज किया गया.

सेना
चिकित्सा सहायता

सेना के लगाये इस कैंप में सेना के जो डॉक्टर थे उनमें स्त्री रोग, बाल रोग, हड्डी और आँखों के विशेषज्ञ तो थे ही दंत चिकित्सक और पशु चिकित्सक भी थे. कोविड 19 महामारी की चुनौती के बावजूद इस कैंप में स्थानीय लोगों ने काफी दिलचस्पी ली. आधिकारिक जानकारी के मुताबिक़ इस कैंप में 354 लोगों को चिकित्सा सहायता मुहैया कराई गई. इसके अलावा 188 पशुओं का भी इलाज किया गया.

सेना
जानवरों का भी इलाज किया गया कैम्प में.