डाक्टर नरेश त्रेहन का VIP सुरक्षा में तैनात दिल्ली पुलिस कर्मियों को फिट रहने का फार्मूला

841
Delhi Police Health
दिल्ली पुलिस के कर्मचारियों और अधिकारियों से 'स्वास्थ्य चर्चा : दिल से दिल' (Health Talk on Heart To Heart ) कार्यक्रम के दौरान डा. त्रेहन

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बना चुके भारत के हृदय विशेषज्ञ डाक्टर नरेश त्रेहन ने पुलिस कर्मियों और खासतौर से सुरक्षा तंत्र की जिम्मेदारी संभालने वालों को सेहतमंद रहने के नुस्खे सिखाये. पद्मश्री और पद्मभूषण से सम्मानित डा. त्रेहन ने दिल्ली पुलिस के कर्मचारियों और अधिकारियों से ‘स्वास्थ्य चर्चा : दिल से दिल’ (Health Talk on Heart To Heart ) कार्यक्रम के दौरान बातचीत की, उनकी सेहत से जुड़ी समस्याएं सुनीं और सवालों के जवाब भी दिए. कार्यक्रम का आयोजन दिल्ली पुलिस की, विनय मार्ग स्थित सुरक्षा लाइंस में किया गया.

दो घंटे तक चले इस कार्यक्रम का आयोजन मेदान्ता अस्पताल और दिल्ली पुलिस ने मिलकर किया था जिसमें पुलिस के काम में मानसिक दबाव का लगातार बने रहना, एक समस्या और मुद्दे की तरह उभर कर सामने आया. डाक्टर त्रेहन ने पहले तो पुलिस कर्मियों को उनके दिन रात किये जाने वाले काम के लिए आभार प्रकट किया और साथ ही कहा कि जितना कठिन काम पुलिस करती है उतना तो किसी सरकारी महकमे के लोग नहीं करते और जब सीधे सीधे लोगों की सुरक्षा करने की बात आती है, देश के नागरिकों की सुरक्षा से भी ज़्यादा चुनौती का काम तो नेताओं के अलावा यहाँ रहने वाले विदेशियों/राजनयिकों की सुरक्षा करना है. डा. त्रेहन का कहना था कि इसके लिए दिल्ली पुलिस के कर्मियों को जो मानसिक दबाव (स्ट्रेस) झेलना पड़ता है वो उनकी सेहत के लिए बड़ी चुनौती है. उन्होंने कहा कि पुलिसकर्मियों को मुश्किल हालात और देर तक काम करने की वजह सेहत के लिए जो चुनौतियां पैदा होती हैं उनका सामना छोटे छोटे और आसान तरीके आजमाकर किया जा सकता है.

डाक्टर नरेश त्रेहन का सुझाव है कि पुलिसकर्मियों को नियमित योग (विशेषतौर से प्राणायाम, अनुलोम -विलोम) करना चाहिए, सैर करनी चहिये, पौष्टिक आहार की आदत डालनी चाहिए और धूम्रपान से बचना चाहिए. इसके साथ समय रहते हृदय रोग की रोकथाम के लिए ज़रूरी टेस्ट कराने चाहिए ताकि रोग का शुरू में ही पता लगाया जा सके.

‘स्वास्थ्य चर्चा : दिल से दिल’ (Health Talk on Heart To Heart ) कार्यक्रम स्थल तक डा. त्रेहन को ले जाते अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (सुरक्षा) हिबू तमांग
दिल्ली पुलिस और मेदान्ता के अधिकारियों के साथ डा. त्रेहन और उनके दाएं अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (सुरक्षा) हिबू तमांग

डाक्टर त्रेहन ने उस आपात स्थिति का भी ज़िक्र किया जब अचानक किसी को हर्ट अटैक होता है तब कैसे किसी के दिल की धड़कन और सांस सीपीआर (CPR – Cardiopulmonary Resuscitation) प्रक्रिया से वापस लायी जा सकती है. मेदांता अस्पताल के संस्थापक चेयरमैन डा. त्रेहन ने वादा किया कि वे दिल्ली पुलिस के कर्मचारियों के लिए अपने संस्थान से CPR की ट्रेनिंग का बंदोबस्त करायेंगे. समय रहते इस प्रक्रिया को अपनाने पर कई लोगों की जान बचाई जा सकती है.

कार्यक्रम की शुरुआत से पहले दिल्ली पुलिस की सिक्युरिटी लाइंस पहुंचने पर अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (सुरक्षा) हिबू तमांग ने डा. त्रेहन का स्वागत किया और उन्हें अपने महकमे के काम के तौर तरीकों के बारे में जानकारियाँ दीं. कार्यक्रम के संयोजक के तौर पर मेदान्ता मेडिसिटी के उप महाप्रबंधक संदीप डावर और दिल्ली पुलिस की तरफ से सहायक पुलिस आयुक्त (ACP ) अश्वनी जायसवाल की भूमिका रही.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here