पुलिस कांस्टेबल पूनम बिल्लोरे ने रेल ट्रैक पर डेढ किमी दौड़कर युवक की जान बचाई

579
पूनम बिल्लोरे
कांस्टेबल पूनम बिल्लोरे.

मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले का एक वीडियो आज सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. यह वीडियो एक युवक की जिंदगी बचाने का है. जिंदगी बचाने वाला पुलिस कांस्टेबल आज सुर्खियों में है. इस कांस्टेबल का नाम पूनम बिल्लोरे (Poonam Billore) है. पूनम की तत्परता से गंभीर रूप से घायल युवक को समय से इलाज मिल गया और उसकी जिंदगी बच गई. पूनम ने ट्रेन से गिरकर बुरी तरह जख्मी हालत में ट्रैक के किनारे पड़े शख्स को कंधे पर लादा और करीब डेढ किमी दौड़ लगाते हुए उसे वहाँ तक ले गए जहाँ उनकी जीप खड़ी थी.

दरअसल उस यात्री के गिरने की सूचना मिलने पर पूनम मौके पर पहुंच गए थे लेकिन वहाँ तक एम्बुलेंस या कोई वाहन नहीं पहुंच सकता था, इसलिए उन्होंने तत्परता और विवेक का इस्तेमाल करते हुए उसे अपने कंधे पर लाद लिया. 25-30 साल के इस युवक का नाम अजीत कुमार है. वह उत्तर प्रदेश के भदोही जिले का रहने वाला है. यह जानकारी शिवपुर पुलिस स्टेशन के इंचार्ज सुनील पटेल ने दी. डाक्टरों के अनुसार अजीत की हालत खतरे से बाहर है. समय से इलाज मिल जाने से उसकी जान बच गई.

पूनम बिल्लोरे
घायल तक पहुंचे कांस्टेबल पूनम बिल्लोरे.
पूनम बिल्लोरे
कंधे पर उठाया.
पूनम बिल्लोरे
पूनम बिल्लोरे ट्रैक पर ऐसे दौडे घायल को कंधे पर लादकर.

घटना सिवनी मालवा के पीपलगांव की है. पुलिस को एक युवक के गेट नम्बर 215 पर ट्रेन से गिरे होने की सूचना मिली थी. कांस्टेबल पूनम ड्राइवर राहुल साकल्ले के साथ रवाना हुए. दोनों लोग रेलवे क्रासिंग तक तो पहुंच गए पर आगे रास्ता न होने से वे पैदल ही मौके तक पहुंचे.

वीडियो देखने से पता लगता है कि पूनम ने कितनी तत्परता और संवेदनशीलता का परिचय दिया. उन्होंने उसे हिलाया डुलाया और वहाँ मौजूद एक आदमी से कहा हाथ लगाना. और जब उस आदमी ने पीछे से उठाया तो गिरने से उसकी पीठ पर धंसे कांटे देख उसने सबसे पहले कांटे निकाले. इतने में घायल अजीत कराहने लगा. पूनम ने उसे कंधे पर लादा और पटरियों के बीच भागने लगे. इतने में बगल के ट्रैक पर एक ट्रेन के आने की सूचना कोई दे रहा था. पूनम उस ट्रैक पर नहीं थे. वह भागते रहे. पूनम अजीत को मुख्य मार्ग पर खडी जीप तक लादकर ले गए. फिर जीप से अस्पताल ले जाकर भर्ती कराया. कांस्टेबल पूनम के मुताबिक घायल जहाँ गिरा था वहां से रेलवे गेट दो किमी दूर था.