जवानों के वाहन को नक्सलियों ने IED से उड़ाया, 7 जवान शहीद

708
दंतेवाड़ा में नक्सलियों का हमला
विस्फोट इतना तेज था कि वाहन के परखच्चे उड़ गए.

रायपुर/दंतेवाड़ा. छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में रविवार सुबह हुए नक्सली हमले में सात जवान शहीद हो गए. पांच जवान घटनास्थल पर ही शहीद हो गए थे, वहीं दो जवानों ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया. शहीद जवानों में 4 जवान छत्तीसगढ़, 2 जवान उत्तर प्रदेश और 1 जवान बिहार के हैं.

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (नक्सल) जी.एन. बघेल ने कहा कि आईईडी ब्लास्ट में गंभीर रूप से घायल जवान अर्जुन राजभर को दंतेवाड़ा से एयर लिफ्ट कर रायपुर रेफर किया गया था. जवान ने रायपुर के एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया.

उन्होंने कहा कि शहीद हुए जवानों में तीन जिला पुलिस के हैं. इनमें प्रधान आरक्षक रामकुमार यादव छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले के ग्राम भुनियापारा के, आरक्षक टिकेश्वर ध्रुव धमतरी जिले के ग्राम परेवाहोह के और आरक्षक शालिग्राम सिन्हा कांकेर जिले के ग्राम चिनोरी चारामा के थे.

बघेल ने बताया कि 4 शहीद जवान छत्तीसगढ़ आर्म्स फोर्स (सीएएफ) के हैं. इनमें प्रधान आरक्षक विक्रम यादव छत्तीसगढ़ के कोंडागांव जिले के ग्राम निरा छिंदली के, आरक्षक राजेश सिंह बिहार के बेगूसराय जिले के ग्राम बीहट के, आरक्षक रविनाथ पटेल उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के ग्राम बसनी के और अर्जुन राजभर गाजीपुर जिले के ग्राम बरईपारा के रहने वाले थे.

किरंदुल-चोलनार मार्ग पर सड़क निर्माण में लगे श्रमिकों और अन्य कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए सीएएफ और जिला पुलिस बल का संयुक्त पुलिस बल किरंदुल से कार्यस्थल की ओर रवाना हुआ था. चोलनार जंगल में घात लगाए नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट कर दिया. विस्फोट इतना शक्तिशाली था कि वाहन के परखच्चे उड़ गए और जमीन पर 10 फीट गहरा गड्ढा बन गया. नक्सली जवानों के हथियार भी लूटकर ले गए, जिनमें दो एके 47 राइफल, दो इंसास और दो एसएलआर राइफल शामिल हैं.

छत्तीसगढ़ में शहीद हुए 2 जवानों के आश्रितों को नौकरी देगी उप्र सरकार

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दंतेवाड़ा में नक्सली हमले में शहीद हुए छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के जवान जनपद गाजीपुर निवासी अर्जुन राजभर और जनपद वाराणसी निवासी रविनाथ सिंह पटेल के आश्रितों को 25-25 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दिए जाने की घोषणा की है. उन्होंने कहा कि शहीद जवानों के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दी जाएगी. मुख्यमंत्री ने शहीद जवानों के परिजनों के प्रति सहानुभूति व्यक्त करते हुए कहा कि शोक की इस घड़ी में राज्य सरकार उनके साथ है.

दंतेवाड़ा में नक्सलियों का हमला
विस्फोट इतना तेज था कि जमीन पर दस फीट का गहरा गड्ढा हो गया.