पुलिस में प्रेमकथा:डीएसपी कृपा शंकर को पदावनत कर सिपाही बना दिया गया

76
प्रतीकात्मक फोटो

एक अजीबो गरीब केस में उत्तर प्रदेश पुलिस ने उपाधीक्षक कृपा शंकर कन्नौजिया ( kripa shankar kanaujiya ) को कांस्टेबल के पद पर पदावनत कर दिया है.  उन्हें तीन साल पहले एक होटल में महिला सिपाही  ( lady constable) के साथ आपत्तिजनक स्थिति में पकड़ा गया था. इसकी जांच चल रही थी. अब जांच पूरी होने के बाद उनको पदावनत ( demote ) करने की सिफारिश की गई थी .

कृपा शंकर कनौजिया पहले उन्नाव में बीघापुर के सर्किल ऑफिसर (circle officer – सीओ) के पद पर थे. जुलाई 2021 में  , परिवार में कोई परेशानी को कारण बताकर,  वह छुट्टी पर चले गए थे. इस बीच उन्होंने अपने  आधिकारिक और निजी , दोनों मोबाइल फोन स्विच ऑफ़ कर दिए थे. परिवार वाले उनसे संपर्क नहीं कर पा रहे थे.  एक तरह से वह ‘ लापता ‘ ही हो गए थे.  परेशान होकर उनकी पत्नी ने ज़िले के वरिष्ठ अधिकारियों से मदद माँगी. जब जांच की गई तो कृपा शंकर कनौजिया के  फोन की आखिरी लोकेशन कानपुर के होटल की निकली ,

पुलिस टीम होटल में पहुंची तो पता चला कि सीओ कृपा शंकर वहां एक महिला सिपाही के साथ ठहरे है. दोनों एक ही कमरे में मिले. इसके बाद उनके खिलाफ विभागीय जांच शुरू हुई. साथ ही उनको एक पद नीचे करके इंस्पेक्टर बना दिया गया.

कृपा शंकर के केस की अब जांच मुकम्मल होने के बाद , सज़ा की जो सिफारिश की गई , उसके आधार पर उनको पदावनत करके सिपाही बना दिया गया जोकि उनका मूल पद था . सिपाही के तौर पर कृपा शंकर को अब गोरखपुर में 26वीं प्रांतीय सशस्त्र बल (पीएसी -PAC) बटालियन में नियुक्त किया गया है.