वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी, उनके दो सुरक्षाकर्मियों की हत्या करने वाले कैमरे में कैद

300
शुजात बुखारी हत्याकांड
शुजात बुखारी और दो पुलिसकर्मियों की हत्या में पुलिस इन्हें संदिग्ध मान रही है.

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर पुलिस ने गुरुवार को वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी और उनके दो सुरक्षाकर्मियों की हत्या के मामले में आज चार आतंकियों के शामिल होने की बात कही. पुलिस ने एक वीडियो फुटेज में नजर आ रहे तीन आतंकियों की तस्वीर जारी की है. जबकि आम जनता से पुलिस ने अपील की है कि इन तीनों के अलावा चौथे आतंकी की पहचान में सहयोग करें. फुटेज में एक बाइक पर तीन संदिग्ध नजर आ रहे हैं. कई एंगल से इनकी जो फोटो सामने आई है उसमें जो आतंकी बाइक चला रहा है वह हेलमेट पहने है, उसके पीछे बैठा आतंकी इस तरह दूसरी तरफ मुंह घुमाए है कि तस्वीर साफ न आये जबकि तीसरा आतंकी मास्क पहने हुए है. इन संदिग्ध बाइक सवार हमलावरों की पहचान कर ली गई है. ये तीनों लश्कर के आतंकी हैं. इनके नाम अबू उसामा, नवीद जट और मेहराजुद्दीन बंगारू हैं. इनकी सरगर्मी से तलाश शुरु हो गई है. ईद से दो दिन पहले हुई इस सनसनीखेज घटना ने पूरे देश को हिला दिया है. देश भर के पत्रकारों और पत्रकार संगठनों ने शुजात की निर्मम हत्या की घोर निंदा की है. रक्षक न्यूज डाट काम इस घटना की निंदा करता है.

पुलिस ने एक वीडियो से पिक्चर निकाल कर जारी की है. यह वीडियो घटनास्थल पर वहाँ से गुजर रहे एक व्यक्ति ने उस समय बनाया जब बुखारी पर उनके आफिस के बाहर हमला किया गया. एक रिपोर्ट के मुताबिक वीडियो में एक दाढी वाला आदमी बुखारी की कार के अंदर कुछ तलाश रहा है. एक आदमी बुखारी के गार्ड को बाहर खींच रहा है, इतने में एक संदिग्ध उसकी बंदूक ले लेता है और वहाँ से एकाएक गायब हो जाता है.

shujaat-bukhari-murder
इसी दाढी वाले शख्स को पुलिस चौथा संदिग्ध बता रही है और तलाश कर रही है. हत्या के बाद यह मददगार के रूप में खडा था और फिर अचानक गायब हो गया. वीडियो फुटेज से पुलिस ने यह तस्वीर जारी की है.

वरिष्ठ पत्रकार और अंग्रेजी दैनिक ‘राइजिंग कश्मीर’ के प्रधान संपादक शुजात बुखारी की गुरुवार को उनके कार्यालय के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. राज्य पुलिस प्रमुख एस.पी. वैद्य ने बताया, “करीब 7:15 मिनट पर बुखारी प्रेस एन्क्लेव स्थित अपने कार्यालय से बाहर आए थे और जब वह अपनी कार में थे, आतंकवादियों ने उन पर हमला कर दिया.” इस हमले में जम्मू-कश्मीर के दो पुलिस वाले भी शहीद हो गये. शहीद कांस्टेबल के नाम अब्दुल हमीद और मुमताज़ अहमद हैं.

shujaat-bukhari-murder
वरिष्ठ पत्रकार और अंग्रेजी दैनिक ‘राइजिंग कश्मीर’ के प्रधान संपादक शुजात बुखारी. Photo/Shujaat Bukhari के Facebook wall से.
shujaat-bukhari-murder
शुजात बुखारी की शव यात्रा जैसे ही घर से निकली वैसे ही उनके परिवार की महिलाएं बिलख उठीं.
shujaat-bukhari-murder
शुजात बुखारी की शव यात्रा
shujaat-bukhari-murder
शुजात बुखारी की शव यात्रा में मौजूद जनसैलाब
पत्रकार शुजात बुखारी हत्याकांड
शहीद कांस्टेबल अब्दुल हमीद और मुमताज़ अहमद को पूरे सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई.

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिह ने कल ही घटना पर शोक प्रकट करते हुए ट्वीट कर कहा, “राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या एक डरपोक कार्य है. यह कश्मीरियों की आवाज दबाने का प्रयास है. वह एक साहसी और निडर पत्रकार थे. उनकी मौत की खबर सुनकर हैरान और दुखी हूं. मेरी संवेदना उनके परिजनों के साथ है.”

बारामूला जिले में शुजात बुखारी के जनाजे में शुक्रवार को भारी भीड़ उमड़ पड़ी. बुखारी को बारामूला स्थित पैतृक गांव खीरी में दफनाया गया. अंत्येष्टि के दौरान यहां की सारी दुकानें बंद रहीं. मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती भी यहां मौजूद रहीं. दूसरी तरफ शहीद कांस्टेबलों को पूरे सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई.