डीएम की ‘दोस्ती’ पर एसपी ने की ताबड़तोड़ फायरिंग, सीबीआई में ट्रांसफर रद, FIR सम्भव

653
कटिहार (बिहार) के निवर्तमान एसपी सिद्धार्थ मोहन जैन
कटिहार (बिहार) के निवर्तमान एसपी सिद्धार्थ मोहन जैन अपने विदाई समारोह में फायरिंग करते हुए. Photo/Video Grab

आमतौर पर माना जाता है कि यूनिफार्म फोर्सेस बेहद अनुशासित होती हैं… होती भी हैं. लेकिन कई दफा अफसर या नान अफसर वर्दीधारी कोई ऐसी गलती कर बैठते हैं जो उनकी शान में बट्टा लगा देती है. फिर चाहे वह जाने में हो या अनजाने में. गलती हो गई तो हो गई. ऐसी ही एक गलती एसपी स्तर के अधिकारी ने कर दी. उन्होंने विदाई समारोह में अपनी सर्विस रिवाल्वर से रुक-रुक कर तब तक हवाई फायरिंग जारी रखी जब तक मैगजीन खत्म नहीं हो गई. इसका वीडियो वायरल होने के बाद हड़कम्प मच गया. इस अफसर का सेंट्रल डेप्युटेशन पर सीबीआई में ट्रांसफर भी रद कर दिया गया है. उनके खिलाफ FIR भी दर्ज हो सकती है. बात कटिहार (बिहार) के निवर्तमान एसपी सिद्धार्थ मोहन जैन की हो रही है. बिहार पुलिस के एडीजी (मुख्यालय) एसके सिंघल के मुताबिक इस मामले में अगर जरूरत हुई तो एफआईआर भी की जायेगी.

कटिहार के निवर्तमान जिलाधिकारी मिथिलेश मिश्रा
कटिहार के निवर्तमान जिलाधिकारी मिथिलेश मिश्रा उसी विदाई समारोह में गाना गाते हुए. Photo/Video Grab

मामला यह है कि कटिहार के एसपी सिद्धार्थ मोहन और जिलाधिकारी मिथिलेश मिश्रा का हाल ही में रूटीन प्रक्रिया के तहत अन्य अफसरों के साथ तबादला हुआ था. सिद्धार्थ को सीबीआई में भेजा गया था और मिथिलेश को महानिरीक्षक जेल का पदभार मिला था. दोनों के तबादले के अवसर पर कटिहार पुलिस एसोसिएशन की ओर से रेलवे गोल्फ ग्राउंड में दावत दी गई थी. यहाँ पहले दोनों का सम्मान किया गया और फिर गीत-संगीत का दौर शुरु हुआ. दोनों ने अपनी दोस्ती को सार्वजनिक रूप से स्वीकार करते हुए फिल्म ‘शोले’ का गीत ‘ये दोस्ती हम नहीं…’ गाया. इसी दौरान एसपी सिद्धार्थ ने अपनी रिवाल्वर निकाली और हवाई फायर करने लगे. इस दौरान वह वर्दी में नहीं बल्कि कैजुअल ड्रेस में थे. इस दौरान मातहत उनका हौसला बढाते रहे.

सार्वजनिक रूप से सिद्धार्थ मोहन ने माना कि मेरी और कलेक्टर मिथिलेश की दोस्ती बहुत गहरी है और यह रिटायरमेंट तक चलेगी. ऐसे दोस्त बहुत कम मिलते हैं.

पुलिस मुख्यालय ने एसपी की हरकत को सर्विस कोड आफ कंडक्ट के खिलाफ माना है. सिद्धार्थ पर तत्काल कार्रवाई के अलावा मामले की जांच का निर्णय लिया गया. मुख्यालय ने इस घटना के बाद फील्ड में तैनात सभी अफसरों के लिये विशेष एडवाइजरी जारी की गई है.