मनोज यादव हरियाणा के डीजीपी नहीं रहना चाहते, नये महानिदेशक की तलाश

371
हरियाणा पुलिस
हरियाणा के पुलिस महानिदेशक मनोज यादव

हरियाणा पुलिस के लिए अब एक नए मुखिया की तलाश की जा रही है. हरियाणा के वर्तमान पुलिस महानिदेशक आईपीएस अधिकारी मनोज यादव इस पद पर अब बने रहना नहीं चाहते. वह अपने मूल राज्य कैडर की बजाय किसी केन्द्रीय एजेंसी में काम करने के इच्छुक हैं. वहीं हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने उनके आवेदन को मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के पास भेज दिया है और नये पुलिस प्रमुख के लिए खोज और तैनाती की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है.

मनोज यादव भारतीय पुलिस सेवा के हरियाणा कैडर के 1988 बैच के अधिकारी हैं. उन्होंने 18 फरवरी 2019 को हरियाणा पुलिस के महानिदेशक (DGP -डीजीपी) का ओहदा संभाला था. यह नियुक्ति दो साल के लिए थी लेकिन 7 जनवरी 2021 को मनोज यादव को एक साल का इसी पद पर विस्तार दे दिया गया था. बावजूद इसके मनोज यादव हरियाणा के पुलिस प्रमुख के ओहदे से छुटकारा चाहते है. उन्होंने हरियाणा में और तैनात न रहने की इच्छा से सम्बन्धित जोल आवेदन सरकार को भेजा है उसमें उन्होंने इसके पीछे परिवार की ज़रूरत और प्रोफेशनल करियर में तरक्की का हवाला दिया है.

हरियाणा पुलिस
हरियाणा के पुलिस महानिदेशक मनोज यादव

उम्मीद की जा रही है कि भारत की ख़ुफ़िया एजेंसी इंटेलीजेंस ब्यूरो (आईबी -IB ) में अच्छे खासे अरसे तक तैनात रहे अनुभवी आईपीएस अधिकारी मनोज यादव इसी संगठन में ही जल्द ऊंचा ओहदा संभालेंगे. मूल रूप से उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के रहने वाले मनोज यादव 2003 में भी प्रतिनियुक्ति पर आईबी में गये थे.

मनोज यादव के पुत्र आदित्य विक्रम यादव भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी हैं जिनका 2018 में यूपीएससी की सिविल सर्विस परीक्षा में 72 वां रैंक आया था. आदित्य विक्रम अभी एसडीओ हैं.

नये डीजीपी की तलाश :

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने सोमवार को मनोज यादव के हरियाणा पुलिस को छोड़कर केन्द्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाने से सम्बन्धित आवेदन की खबर की पुष्टि करते हुए बताया कि जब तक नये महानिदेशक के बारे में फैसला नहीं हो जाता, तब तक श्री यादव पुलिस के मुखिया रहेंगे. अम्बाला में पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि अगले डीजीपी के लिए पात्र अधिकारियों का पैनल बनाने के लिए गृह विभाग को निर्देश दे दिए गए हैं ताकि उसे केंद्र सरकार को भेजा जा सके. उन्होंने बताया कि श्री यादव का आवेदन भी स्वीकार करके आगे की कार्यवाही के लिए प्रेषित कर दिया गया है.

विवाद ये है :

मनोज यादव को लेकर हरियाणा राज्य के नेतृत्व में मतभेद भी सामने आ चुके हैं. असल में मनोज यादव के काम करने के तरीके से अनिल विज खुश नहीं थे और उन्होंने इस बारे में स्पष्ट भी किया था लेकिन मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर श्री यादव को प्रदेश का पुलिस मुखिया बनाये रखना चाहते थे. इसी वजह से श्री यादव का इस ओहदे पर एक्सटेंशन भी हुआ था. अनिल विज का इलज़ाम था कि बतौर पुलिस मुखिया मनोज यादव किसान आन्दोलन को ठीक तरह से संभाल नहीं सके. वहीं उनको एक्सटेंशन ना देने पर उनका कहना था कि मनोज यादव इसके पात्र नहीं हैं क्यूंकि आईबी से दो साल के लिए हरियाणा पुलिस के महानिदेशक के तौर पर आये थे. जनवरी 2021 में मनोज यादव को इसी पद पर सेवा विस्तार दिया गया. इसके बाद केंद्र की तरफ से मार्च में उन्हें फिर से एक साल के एक्स्टेन्शन के आदेश दिए गये थे.