दिल्ली पुलिस कमिश्नर बोले, रोज जुर्म से आज आंसुओं से जंग

481
दिल्ली पुलिस
स्मृति दिवस की पूर्व संध्या पर शनिवार को 'एक शाम पुलिस शहीदों के नाम' कार्यक्रम में कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने शहीद पुलिस कर्मियों के परिवारों को सम्मानित किया.

भारत में शहीद पुलिस कर्मियों को श्रद्धांजलि देने के लिए हर साल 21 अक्टूबर को मनाये जाने वाले स्मृति दिवस की पूर्व संध्या पर शनिवार को ‘एक शाम पुलिस शहीदों के नाम’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया. दिल्ली पुलिस के दक्षिण पूर्व जिले की तरफ से इस तरह का ये पहला आयोजन रहा जिसमें कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने शहीद पुलिस कर्मियों के परिवारों को सम्मानित किया.

दिल्ली पुलिस
‘एक शाम पुलिस शहीदों के नाम’ : शहीद पुलिस कर्मियों के परिवारों का सम्मान.

इस अवसर पर उन 13 शहीद पुलिसकर्मियों के परिवारों को प्रतीक चिन्ह व सम्मान भेंट किये गये जिन पुलिसकर्मियों ने पिछले साल इस दुनिया को अलविदा कहा था . पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने इस अवसर पर अपने बेहद भावुक संबोधन में कहा कि यूँ पुलिसकर्मी लोगों की सुरक्षा और उन्हें बचाने के लिए रोजाना ही बलिदान करते हैं लेकिन कभी-कभी कर्तव्य की बेदी पर सर्वोच्च बलिदान देना पड़ता है. पुलिस आयुक्त ने कहा, ‘हम रोज़ अपराध से लड़ते हैं, आज अपने आंसुओं से जंग कर रहे हैं’. श्री पटनायक ने शहीदों के परिवारों को हरसम्भव मदद का भरोसा भी दिया.

दिल्ली पुलिस
‘एक शाम पुलिस शहीदों के नाम’ : शहीद पुलिस कर्मियों के परिवारों का सम्मान.

दिल्ली पुलिस फैमिली वेलफेयर एसोसियेशन के सदस्यों ने संगीतमय शाम में देशभक्ति की भावना से भरपूर गीत सुनाये. दिल्ली पुलिस के शहीद पुलिस कर्मियों को समर्पित इस संगीतमय कार्यक्रम में जिले के पुलिसकर्मियों, उनके परिवार के सदस्यों के अलावा आम नागरिकों ने भी शिरकत की. गीत संगीत भरी ये शाम, पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र रहने वाले दक्षिण दिल्ली स्थित लोटस टेम्पल के सभागार में आयोजित की गई. अन्य पुलिस अधिकारियों के अलावा स्पेशल कमिश्नर संदीप गोयल, आर पी उपाध्याय और संयुक्त पुलिस आयुक्त देवेश श्रीवास्तव, अजय चौधरी और मधुप तिवारी भी वहां विशेष तौर पर उपस्थित थे.

दिल्ली पुलिस
‘एक शाम पुलिस शहीदों के नाम’ : शहीद पुलिस कर्मियों के परिवारों का सम्मान.
दिल्ली पुलिस
‘एक शाम पुलिस शहीदों के नाम’ : शहीद पुलिस कर्मियों के परिवारों का सम्मान.
दिल्ली पुलिस
‘एक शाम पुलिस शहीदों के नाम’ : शहीद पुलिस कर्मियों के परिवारों का सम्मान.