कौन हैं यह अधिकारी ? साहस और रोमांच जिनके रग रग में बसा है

17
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भारतीय वायु सेना के मास्टर वारंट ऑफिसर अंशुल कुमार तिवारी और बीएसएफ के एएसआई परवीन सिंह को तेनजिंग नोर्गे नेशनल एडवेंचर अवार्ड, 2022 से सम्मानित किया.
भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भारतीय वायु सेना के  मास्टर वारंट ऑफिसर अंशुल कुमार तिवारी को एयर एडवेंचर में उनकी उपलब्धियों के लिए और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ- bsf )के सहायक उप निरीक्षक (  एएसआई – asi ) परवीन सिंह को लैंड एडवेंचर में उनकी जीवन भर की उपलब्धियों के लिए तेनजिंग नोर्गे नेशनल एडवेंचर अवार्ड, 2022 से सम्मानित किया है.

वायु योद्धा अंशुल तिवारी :
एमडब्ल्यूओ अंशुल तिवारी ने स्काइडाइविंग, प्रशिक्षण और प्रेषण के लिए रात में 250 घंटे समेत  2214 घंटे की उड़ान पूरी की है. उनके नाम 1237 छलांगें लगाने का रिकॉर्ड हैं जिसमें 73 रात की छलांगें शामिल हैं.  उन्होंने अक्टूबर 2020 में खारदुंग – ला, लेह में एक अन्य वायु योद्धा के साथ दुनिया की सबसे ऊंची स्काइडाइविंग लैंडिंग की है.  इस लैंडिंग ने  सबसे अधिक ऊंचाई पर उतरने का विश्व रिकॉर्ड ( world record ) बनाया है.

परवीन सिंह का साहस :


सीमा सुरक्षा बल के एएसआई परवीन सिंह ने माउंट एवरेस्ट और माउंट कंचनजंगा समेत हिमालय पर्वत श्रृंखला की 20 से अधिक  चोटियों पर दो बार सफलतापूर्वक चढ़ाई की है.  माउंट भागीरथी II के लिए बीएसएफ पैरा-पर्वतारोहण अभियान के दौरान, उन्होंने अपनी रस्सी में 2 पैरा पर्वतारोहियों को सपोर्ट किया .  उन्होंने 2013 में केदारनाथ आपदा के दौरान कालीमठ घाटी में बीएसएफ के “राहत और पुनर्वास मिशन” में सक्रिय रूप से हिस्सा  लिया था .