चंडीगढ़ में शुरू हुआ दो दिवसीय मिलिटरी लिटरेचर फेस्टिवल 2023

16
एमएलएफ 2023 में हथियारों की प्रदर्शनी

मिलिटरी लिटरेचर फेस्टिवल 2023  के पहले दिन ‘ यूक्रेन में संघर्ष से भारत द्वारा सीखे जाने वाले सैन्य, रणनीतिक और कूटनीतिक सबक सहित विभिन्न महत्वपूर्ण विषयों पर मजेदार चर्चा हुई। सिटी ब्यूटीफुल चंडीगढ़ में सुखना झील की पृष्ठभूमि में आयोजित एमएलएफ के 7वें संस्करण के दौरान ,  कमजोर होते पाकिस्तान और विस्तार पर आमादा तालिबान से निपटने के लिए भारत को किस रणनीति का पालन करना चाहिए,  भी एक अन्य पैनल चर्चा का  महत्वपूर्ण विषय था.

भारतीय सेना की पश्चिमी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार ने महोत्सव के आयोजन में प्रयासों के लिए आयोजकों की तारीफ़ की.  लेफ्टिनेंट जनरल कटियार ने कहा कि इस तरह के ठोस प्रयास युवाओं को सशस्त्र बलों में शामिल होकर मातृभूमि की सेवा करने के लिए प्रेरित करने में सहायक होंगे.

एमएलएफ 2023 में पैनल चर्चा

जनरल ऑफिसर ने देश की सेवा में अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले बहादुर लोगों के बलिदान को याद करने और उसका सम्मान  करने के लिए एमएलएफ की सराहना की. उन्होंने कहा कि यह उत्सव, जो अब आठवें वर्ष में प्रवेश कर चुका है, युवाओं को देशभक्ति और राष्ट्रवाद की भावना से भरने में काफी मदद करेगा.

सेना में करियर के बारे में छात्रों को बताते सैन्य अधिकारी

लेफ्टिनेंट जनरल कटियार ने मीडिया से भी मिलिटरी लिटरेचर फेस्टिवल  का समर्थन करने और जनता, विशेषकर बच्चों के बीच बहादुरी का संदेश फैलाने में मदद करने का आग्रह किया. यह हमारे महान देश की सेवा में एक और दिशा होगी. यह बहुत गर्व और संतुष्टि की बात है कि महोत्सव ने युवाओं को रक्षा कर्मियों के जीवन की झलक दिखाने के अपने पवित्र उद्देश्य को सफलतापूर्वक हासिल कर लिया है.

2017 में शुरू हुआ,यह मिलिटरी लिटरेचर  फेस्टिवल  पंजाब सरकार, चंडीगढ़ प्रशासन और चंडीमंदिर स्थित पश्चिमी कमान मुख्यालय की एक संयुक्त पहल है। यह एक वार्षिक कार्यक्रम है जो रक्षा बलों में शामिल होने के इच्छुक युवाओं को राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय और भू-राजनीतिक महत्व के मुद्दों पर चर्चा के लिए एक मनोरंजक मंच प्रदान करने के अलावा सैन्य जीवन के अनुशासन की झलक प्रदान करता है।

एमएलएफ 2023 के आयोजन के लिए अपनी शुभकामनाएं देते हुए, पूर्व गृह सचिव एनएन वोहरा ने कहा, “विभिन्न राष्ट्रीय सुरक्षा चुनौतियों पर चर्चा, और उत्पन्न होने वाली समस्याओं से कैसे निपटा जाना चाहिए, यह चर्चा नई दिल्ली में नार्थ और साउथ ब्लॉक के सम्मेलन कक्षों तक ही सीमित नहीं रह सकती है. यह आवश्यक है कि हमारे देश के प्रत्येक नागरिक को आंतरिक और बाह्य रूप से हमारे देश के सामने आने वाले गंभीर खतरों के बारे में पर्याप्त रूप से जागरूक किया जाए. यह सुनिश्चित करना भी उतना ही महत्वपूर्ण है कि मजबूत राष्ट्रीय उत्साह का वातावरण बनाने के लिए हर आवश्यक पहल की जाए जो उत्साहजनक हो. हमारे लोग देश की एकता और अखंडता की रक्षा में शामिल हों।”

यहां  पहले  की तरह, हथियार, गोला-बारूद और विभिन्न वाहनों और उपकरणों की प्रदर्शनी में भारी भीड़ देखी गई. विभिन्न विद्यालयों के छात्र छात्राओं ने छोटे – बड़े समूहों में फेस्टिवल   क्षेत्र का भ्रमण किया.  सेना के अनुभवी अधिकारियों ने उन्हें जानकारी दी और सशस्त्र बलों में शामिल होने के लिए प्रेरित किया.

मार्शल कविता:
दिन के आखिरी सत्र में जाने माने  पंजाबी लेखक और कवि सुरजीत पातर ने अपनी बुद्धिमत्ता और पंजाब की मार्शल पोएट्री की गहरी समझ से हॉल को मंत्रमुग्ध कर दिया।

रविवार को :

एमएलएफ 2023 का दूसरा और अंतिम दिन इजरायल-हमास युद्ध और भारत के लिए इसके कूटनीतिक और सैन्य सबक, लाहौर दरबार और भारत को उत्तर पश्चिम सीमांत कश्मीर, बाल्टिस्तान और लद्दाख के उपहार पर चर्चा के साथ समान रूप से मजेदार  होने का वादा करता है.