आईएनएस आदित्य ने गोवा के पास समुद्र में पहुंच मछुआरे को बचाया

369
भारतीय नौसेना
भारतीय नौसेना के जहाज़ आईएनएस आदित्य ने समुद्र के बीच जख्मी हुए एक मछुआरे को बचाया.

भारतीय नौसेना के जहाज़ आईएनएस आदित्य ने समुद्र के बीच जख्मी हुए एक मछुआरे को उस हालत में बचाया जब एक हादसे में उसके हाथ की हड्डी टूट गई थी और जिस्म से बेतहाशा खून बह रहा था. विपिन नाम का ये मछुआरा अपने साथियों के साथ समुद्र में मछली पकड़ने के लिए उतरा था.

विपिन और उसके साथी मछली पकड़ने वाली नौका एफवी महोनाथन पर सवार थे और बीच समुद्र में 3 फरवरी 2022 को मछली पकड़ने गये थे. उनकी नाव से जिस समय इमरजेंसी संदेश मिला तब आईएनएस आदित्य गोवा से 75 नॉटिकल मील के फासले पर था. आईएनएस आदित्य ने जल्द से जल्द नाव तक पहुँच गंभीर रूप से घायल मछुआरे विपिन को फौरन चिकित्सा सहायता मुहैया कराई.

भारतीय नौसेना
विपिन मछुआरे का दायां हाथ बुरी तरह घायल हो गया था.

रक्षा मंत्रालय की एक प्रेस विज्ञप्ति में घटना का ब्यौरा देते बताया गया है कि विपिन मछुआरे का दायां हाथ बुरी तरह घायल हो गया था और उसके ज़ख्मों से खून बहुत बह गया था. यही नहीं विपिन के जिस्म में ऑक्सीजन का स्तर भी कम हो गया था. रफ्तार से वहां पहुंचे आईएनएस आदित्य में सवार दल ने पहले तो ऑक्सीजन लगाकर विपिन की मरहम-पट्टी की और फिर जहाज पर ले आया.

भारतीय नौसेना
आईएनएस आदित्य ने मछुआरे विपिन को फौरन चिकित्सा सहायता मुहैया कराई.

जहाज जब मदद के लिये मौके पर पहुंचा, तो पाया कि विपिन के दायें हाथ की हड्डी टूट गई थी और कई उंगलियां जख्मी हो चुकी थीं. उसे फौरन जहाज पर चढ़ाकर खून रोकने का उपचार किया गया. साथ ही शरीर में रक्त प्रवाह को स्थिर कर दिया गया. नाव पर सवार सभी लोगों को आईएनएस आदित्य ने जहाज पर ही पकाया गया भोजन दिया. घायल मछुआरे विपिन की हालत जब स्थिर हो गई, तो उसे अपने साथियों के पास वापस भेज दिया गया.