ओखा में भारतीय तटरक्षक बल की होवरक्राफ्ट रखरखाव इकाई

8
रक्षा सचिव गिरिधर अरमने ने उत्तर पश्चिम क्षेत्र में भारतीय तटरक्षक सुविधा केंद्रों का दौरा किया

रक्षा सचिव  गिरिधर अरमने ने  उत्तर पश्चिम क्षेत्र में भारतीय तटरक्षक सुविधा केंद्रों का दौरा किया. दो दिवसीय इस दौरे  के बीच में  उन्होंने 28 मार्च को ओखा में भारतीय तटरक्षक बल की होवरक्राफ्ट रखरखाव  इकाई (hovercraft maintenance unit – HMU ) के लिए बुनियादी ढांचे का उद्घाटन किया. वहीँ उनकी पत्नी गायत्री अरमने ने अगले दिन यानि 29 मार्च को इनज़ विलेज वेरावल में कोस्ट गार्ड ओटीएम और विवाहित आवास का उद्घाटन किया था.

एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक़  रक्षा सचिव श्री  अरमने  ( defence secretary giridhar armane ) को अधिकारियों ने ओखा में बनने वाले  200 मीटर आईसीजी जेटी निर्माण कार्य के बारे में भी जानकारी दी गई. श्री अरमने ने अपने जिम्मेदारी वाले  क्षेत्र में राष्ट्रीय समुद्री हितों की रक्षा करने में भारतीय तट रक्षक ( आईसीजी ICG  ) द्वारा निभाई गई भूमिका की सराहना की.

गुजरात के तट, कच्छ की खाड़ी, अधिकार क्षेत्र में आने वाले 50 द्वीपों के उथले पानी और आर्द्रभूमि की निगरानी के लिए ओखा और जखाऊ में होवरक्राफ्ट तैनात किए गए हैं. यह होवरक्राफ्ट समुद्र में उसके किनारों पर आसानी से चल सकते हैं .  एचएमयू  इन होवरक्राफ्ट  ( hovercraft ) को समय पर तकनीकी सहायता, रखरखाव और मरम्मत को सक्षम करेगी जो बदले में अधिकतम परिचालन उपलब्धता सुनिश्चित करेगी और उन्हें किसी भी परिचालन आवश्यकता को पूरा करने के लिए हमेशा तैयार स्थिति में रखेगी.  एचएमयू सुविधाओं में तकनीकी सहायता के लिए एसीवी पार्किंग, कार्यालय भवन, कार्यशाला और रखरखाव क्षेत्र शामिल हैं।

इनज़ विलेज वेरावल में तटरक्षक आवासीय क्षेत्र (सीजीआरए) में विवाहित जोड़ों के लिए 60 मकान , सभी मौसम में कार्यरत एक हेलीपैड ( all weather helipad ) , अधीनस्थ अधिकारियों और नविकों के लिए आवास, एक परेड ग्राउंड और एक भोजनालय शामिल हैं. हेलीपैड की उपस्थिति वेरावल में विभिन्न कार्यों के लिए एक रणनीतिक फायदा पहुंचाती है.  इसमें समुद्री आपात स्थिति, खोज और बचाव कार्य और निगरानी गतिविधियों को चलाना शामिल है.

आईसीजी क्षेत्रीय मुख्यालय (उत्तर पश्चिम) 16 दिसंबर 2009 को गांधीनगर में स्थापित किया गया था.  यह गुजरात, दमन और दीव में समुद्री क्षेत्रों में आईसीजी के अनिवार्य चार्टर को निष्पादित करता है.

इन कार्यक्रम में भारतीय तटरक्षक बल के महानिदेशक राकेश पाल, महानिरीक्षक एके हरबोला के साथ-साथ केंद्र और राज्य सरकार के विभिन्न गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे.