लेफ्टिनेंट जनरल वाकर उज़ ज़मां बंगलादेश के नए सेना प्रमुख होंगे

38
लेफ्टिनेंट जनरल वाकर-उज-ज़मां

लेफ्टिनेंट जनरल वाकर-उज-ज़मां  को बांग्लादेश का नया सेना प्रमुख नियुक्त किया गया  है . उनकी नियुक्ति 23 जून से प्रभावी होगी . बंगलादेश की  इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर -ispr ) ने मंगलवार को इस बारे में घोषणा की है .  इस नियुक्ति के साथ ही वाकेर उज़ ज़मां को  जनरल के पद पर पदोन्नत किया जाएगा.

आईएसपीआर की प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक़ सेना प्रमुख के रूप में वाकर उज़ ज़मां  ( waker uz zaman) का कार्यकाल तीन साल तक होगा.  वर्तमान सेनाध्यक्ष जनरल एसएम शफीउद्दीन अहमद ने 24 जून, 2021 को बंगलादेश के 17वें सेना प्रमुख के रूप में बांग्लादेश सेना की कमान संभाली थी.

लेफ्टिनेंट जनरल वाकर उज़ वाकर-उज-जमान ने 1 जनवरी को बंगलादेश सेना के जनरल स्टाफ के प्रमुख का कार्यभार संभाला था . बांग्लादेश सैन्य अकादमी के पूर्व छात्र, वाकर उज़ ज़मां को 20 दिसंबर, 1985 को इन्फैंट्री कोर में कमीशन दिया गया था.  साढ़े तीन दशक से ज्यादा  के शानदार करियर के साथ, लेफ्टिनेंट जनरल वाकर अपने साथ प्रमुख कमांड, स्टाफ और निर्देशात्मक नियुक्तियों में व्यापक अनुभव रकते हैं .  अपने विशिष्ट सैन्य करियर में, लेफ्टिनेंट जनरल वाकर ने एक पैदल सेना बटालियन ( infantry battalion ) , बांग्लादेश सेना की एकमात्र स्वतंत्र पैदल सेना ब्रिगेड ( brigade ) और एक पैदल सेना डिवीजन (army division ) की कमान संभाली है.

उनकी प्रमुख स्टाफ नियुक्तियों में एक थल सेना ब्रिगेड, स्कूल ऑफ इन्फैंट्री एंड टैक्टिक्स और सेना मुख्यालय में एक स्टाफ अधिकारी के रूप में भूमिकाएँ शामिल हैं लेफ्टिनेंट जनरल ज़मां   स्कूल ऑफ इन्फैंट्री एंड टैक्टिक्स, नॉन-कमीशन ऑफिसर्स अकादमी और बांग्लादेश इंस्टीट्यूट ऑफ पीस सपोर्ट ऑपरेशंस ट्रेनिंग में एक प्रतिष्ठित प्रशिक्षक भी रहे हैं.  इसके अलावा , लेफ्टिनेंट जनरल वाकर  ने सेना मुख्यालय में सैन्य सचिव ( military secretary ) के रूप में भी काम किया है .

बांग्लादेश सेना के चीफ ऑफ जनरल स्टाफ (CGS) के रूप में शामिल होने से पहले, उन्होंने प्रधान मंत्री कार्यालय के तहत सशस्त्र बल प्रभाग  ( armed forces department ) में प्रधानमंत्री के लिए प्रमुख स्टाफ अधिकारी के तौर पर काम किया .

लेफ्टिनेंट जनरल वाकर डिफेंस सर्विसेज कमांड एंड स्टाफ कॉलेज, मीरपुर और ज्वाइंट सर्विसेज कमांड एंड स्टाफ कॉलेज, यूके के पूर्व छात्र हैं.  उनके पास नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ़ बांग्लादेश से रक्षा अध्ययन में मास्टर डिग्री और किंग्स कॉलेज, यूनिवर्सिटी ऑफ़ लंदन से रक्षा अध्ययन में मास्टर ऑफ़ आर्ट्स की डिग्री है.

सशस्त्र बल प्रभाग के प्रमुख के तौर पर  , वे बांग्लादेश सशस्त्र बलों के संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना मामलों से सीधे जुड़े हुए थे.  उन्हें संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना मामलों के लिए बांग्लादेश के जेंडर चैंपियन और जेंडर एडवोकेट के रूप में भी नामित किया गया था.

प्रमुख स्टाफ अधिकारी के रूप में उनकी नियुक्ति के आधार पर, उन्होंने अध्यक्ष के रूप में बांग्लादेश नेशनल अथॉरिटी फॉर केमिकल वेपन्स कन्वेंशन का भी नेतृत्व किया.

लेफ्टिनेंट जनरल वेकर ने क्रमशः अंगोला  और लाइबेरिया  में पर्यवेक्षक और कर्मचारी के रूप में ड्यूटी के दो दौरे पूरे किए.

बांग्लादेश सेना के चीफ ऑफ़ जनरल स्टाफ  के रूप में, वे सैन्य अभियानों, सैन्य खुफिया, संयुक्त राष्ट्र शांति स्थापना मामलों, बजट और सेना के कई अन्य पहलुओं के लिए जिम्मेदार रहे हैं. लेफ्टिनेंट जनरल वाकर को लगातार तीन बार राष्ट्रीय विजय दिवस परेड की कमान संभालने का दुर्लभ मौका मिला है .सेना के आधुनिकीकरण में उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें प्रतिष्ठित आर्मी मेडल ऑफ ग्लोरी  और असाधारण सेवा पदक से सम्मानित किया गया.

वे अक्सर देश और विदेश में विभिन्न सेमिनार और संगोष्ठियों में मुख्य वक्ता के रूप में शामिल होते हैं . उन्हें खेल और खेलना  पसंद हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल वाकर-उज-ज़मां के परिवार में पत्नी साराहनाज कमालिका ज़मां  और उनकी दो बेटियाँ  समीहा रईसा  और शायरा इब्नत हैं .