सेना की अग्निपथ योजना के विरोध में झुलसा देश तो सरकार ने कुछ नए ऐलान किए

5
अग्निपथ
सेना में भर्ती की 'अग्निपथ' योजना.

भारतीय सेनाओं में भर्ती के लिए घोषित ‘अग्निपथ’ योजना के विरोध में देश के विभिन्न हिस्सों में विरोध प्रदर्शन , आगजनी और हिंसा की घटनाओं का सिलसिला लगातार चौथे दिन शनिवार को भी चलता रहा. तेलंगाना में वारंगल के प्रदर्शनकारी एक नौजवान की पुलिस की गोली लगने से मौत हो गई. राजनीतिक और विभिन्न क्षेत्रों की गणमान्य हस्तियों व पूर्व सैन्य अधिकारियों ने हिंसा पर उतारू नौजवानों से अमन चैन बनाने और सम्पति को नुकसान न पहुंचाने की अपील की है. युवाओं के गुस्से के बाद सरकार ने हालात को काबू करने और ‘अग्निपथ’ योजना के तहत भर्ती होने वाले ‘अग्निवीरों’ को कुछ और फायदे देने का ऐलान किया है. इसके तहत सरकार ने चार साल का कार्यकाल पूरा करने वाले ‘ अग्निवीरों ‘ को कुछ संस्थानों में नौकरियों में उनके लिए 10 फ़ीसदी पद आरक्षित रखने की घोषणा की है. इस बीच इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है. इसमें मांग की गई है कि हिंसक विरोध प्रदर्शनों और इससे हुए सम्पत्ति के नुकसान की जांच के लिए एस आई टी ( स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम ) गठित की जाए . याचिका में ये मांग भी की गई है कि अग्निपथ योजना और इसके राष्ट्रीय सुरक्षा व सेना पर पड़ने वाले प्रभाव का पता लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में विशेषज्ञों की कमेटी बनाए जाने के निर्देश दिए जाएं .

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ऐलान किया कि पद के मुताबिक़ पात्रता पूरी करने वाले ‘ अग्निवीरों ‘ के लिए रक्षा मंत्रालय में नागरिक सेवाओं , भारतीय तटरक्षक और रक्षा क्षेत्र के 16 सार्वजनिक उपक्रमों में 10 फीसदी पदों के आरक्षण को अमल में लाया जाएगा. ये आरक्षण पहले से ही तय पूर्व सैनिकों के लिए आरक्षित कोटे से अलग होगा. उन्होंने कहा कि इसके लिए भर्ती नियमों में बदलाव की प्रक्रिया पूरी की जाएगी. इसके साथ ही भर्ती की अधिकतम आयु में छूट देने का भी प्रावधान किया जाएगा.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ये ऐलान आज दिल्ली में थल सेना , नौसेना और वायु सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक में मन्त्रणा के बाद किया. कल ही सरकार ने ‘ अग्निपथ ‘ योजना में इस साल के लिए भर्ती में अधिकतम आयु सीमा में छूट का ऐलान किया था. 2022 के लिए जारी इस छूट में वे युवा भी ‘अग्निवीर ‘ बनने के पात्र होंगे जिनकी उम्र ज्यादा से ज्यादा 23 साल होगी. वैसे अग्निवीर की भर्ती की उम्र 17 साल 6 महीने से 21 साल के बीच रखी गई है.
उधर दूसरी तरफ , केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने ( mha ) ने ऐलान किया है की केन्द्रीय पुलिस बलों और असम राइफल्स में 10 फ़ीसदी स्थान रिजर्व रखे जाएंगे . गृह मंत्रालय ने इन बलों में भर्ती के लिए ‘ अग्निवीरों ‘ को अधिकतम उम्र में भी पांच साल की छूट देने का ऐलान किया है.

थल सेना ने ‘अग्निपथ ‘ योजना के तहत भर्ती की अधिसूचना अगले दो दिन में जारी करने का ऐलान किया है. भारतीय वायुसेना ने इसे शुरू करने के लिए 24 जून की तारीख तय कि है. नौसेना ने कहा है कि इस पर जल्द ही फैसला लिया जाएगा.

अग्निपथ योजना का ऐलान मंगलवार यानि 14 जून 2022 को किया गया था . अग्निपथ योजना को वापस लिए जाने की मांग के साथ इसके अगले ही दिन सबसे पहले बिहार में विरोध प्रदर्शन का सिलसिला शुरू ही गया था. आज बिहार के विभिन्न छात्र संगठनों ने आल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन ( aisa )के नेतृत्व में 24 घंटे के बंद का ऐलान किया. उनके कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन भी जारी रखे. जहानाबाद में थाने के बाहर खड़े वाहनों को प्रदर्शन कारियों ने आग लगा दी . बंद के दौरान गया और बक्सर जिलों में भी जीवन अस्त व्यस्त रहा.पिछले चार दिन में इन विरोध प्रदर्शनों के दौरान हिंसक हो उठे युवाओं ने ट्रेन में भी आग लगाई. इसके बाद कई रूटों पर रेल यातायात बाधित हुआ है. अग्निपथ योजना के विरोध की आग उत्तर प्रदेश , हरियाणा , तेलंगाना में तो फैली ही , इसकी आंच पंजाब तक भी पहुँची. कुछ युवकों ने लुधियाना रलवे स्टेशन पर तोड़फोड़ की. तकरीबन 10 लोगों को इस सिलसिले में हिरासत में लिया गया है.

तेलंगाना के सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर हिंसा पर उतारू प्रदर्शनकारियों पर शुक्रवार को पुलिस की चलाई गोली से डी राकेश नाम के 24 वर्षीय युवक की मौत हो गई . डी. राकेश वारंगल ज़िले का रहने वाला था. इस घटना में कई पुलिसकर्मी भी घायल हुए थे . इस सिलसिले में तकरीबन 100 लोगों को गिरफ्तार किया गया है .यहां ट्रेनों की आवाजाही पर भी असर पड़ा था. हालांकि शनिवार को यहां हालात काबू में रहे लेकिन खासी तादाद में सुरक्षाबलों को तैनात रखा गया था.

इस बीच अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ( congress sonia gandhi ) की तरफ से कांग्रेस के महासचिव जयराम रमेश ने अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे युवाओं से शान्ति की अपील कि है. सोनिया गांधी की तरफ से जारी इस बयान में कहा है कि वे अपनी जायज़ मांगों को रखने के लिए और पूरा कराने के लिए आन्दोलन का अहिंसक रास्ता अपनाएं. श्रीमती गांधी ने उन युवाओं के प्रति हमदर्दी जारी की है भारतीय वायुसेना (indian air force exam ) की परीक्षा दी थी और अब रिजल्ट व नियुक्ति का इंतज़ार कर रहे हैं.श्रीमती गाँधी ने कहा है कि उनकी पार्टी अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे युवाओं के साथ है. कांग्रेस ने इस मुद्दे पर रविवार को दिल्ली के जन्तर मन्तर पर सत्याग्रह करने का ऐलान किया है.

केरल में सेना में भर्ती की तैयारी करने वाले सैंकड़ों युवाओं ने अग्निपथ योजना वापस लिए जाने की मांग को लेकर थम्पनूर स्थित राज भवन पर प्रदर्शन किया. ये राज्यपाल मोहम्मद आरिफ खान का सरकारी निवास है. पश्चिम बंगाल के 24 परगना में भी अग्निपथ योजना के खिलाफ किये गए प्रदर्शन के कारण काफी देर तक मुख्य रेल मार्ग पर यातायात बाधित रहा .यहां युवाओं ने अनिश्चितकालीन विरोध प्रदर्शन जारी रखने का फैसला लिया है. दिल्ली और पंजाब में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (aap) की सरकारों ने भी अग्निपथ योजना की मुखालफत की है. शूक्रवार को पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ( Chief Minister Bhagwant Mann) ने केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना को फौरन वापस लेने की मांग की थी . सीएम भगवंत मान से केंद्र के फैसले को सेना का अपमान और पंजाब सूबे के युवाओं के लिए नुकसानदायक बताया