रिटायरमेंट से 4 दिन पहले राकेश अस्थाना दिल्ली के पुलिस कमिश्नर नियुक्त

72
राकेश अस्थाना
राकेश अस्थाना दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर.

रिटायरमेंट से सिर्फ चार दिन पहले ही सीमा सुरक्षा बल (BSF) के महानिदेशक और भारतीय पुलिस सेवा के गुजरात कैडर के अधिकारी राकेश अस्थाना को दिल्ली पुलिस का नया कमिश्नर नियुक्त किया गया है. केन्द्रीय जांच ब्यूरो में विशेष निदेशक रहे 1984 बैच के अधिकारी राकेश अस्थाना को नई ज़िम्मेदारी देने की झटकेदार सूचना मंगलवार शाम अचानक ही मीडिया को दी गई. हालांकि एस एन श्रीवास्तव के पिछले महीने रिटायरमेंट के वक्त भी उनकी जगह राकेश अस्थाना को दिल्ली का पुलिस आयुक्त बनाये जाने की चर्चा थी लेकिन श्री अस्थाना की सेवानिवृत्ति की तारीख पास होने की वजह से इन सम्भावनाओं को ख़ारिज कर दिया गया था. 9 जुलाई को 60 वर्ष की उम्र पार कर चुके राकेश अस्थाना को 31 जुलाई को रिटायर होना था लेकिन उन्हें दो साल का सेवा विस्तार दे दिया गया है.

राकेश अस्थाना
राकेश अस्थाना (दाएं) का स्वागत करते दिल्ली पुलिस के कमिश्नर का अतिरिक्त कार्यभार संभाल रहे बाला जी श्रीवास्तव

देसवाल को कमान :

दूसरी तरफ भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी – ITBP) के महानिदेशक एस एस देसवाल को राकेश अस्थाना की जगह सीमा सुरक्षा बल के महानिदेशक का काम संभालने को कहा गया है. वह आईटीबीपी के प्रमुख के साथ साथ अतिरिक्त रूप से बीएसएफ का कार्य तब तक देखेंगे जब तक बीएसएफ के लिए नियमित नियुक्ति नहीं होती या कोई और आदेश नहीं जारी होता. एस एस देसवाल भारतीय पुलिस सेवा के हरियाणा कैडर के 1984 बैच के अधिकारी हैं.

राकेश अस्थाना
राकेश अस्थाना की नियुक्ति का आदेश

दो साल का कार्यकाल :

केन्द्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से जारी आदेश में राकेश अस्थाना को तुरंत प्रभाव से दिल्ली पुलिस की कमान संभालने को कहा गया है. वह 31 जुलाई 2022 तक या अगला आदेश होने तक दिल्ली पुलिस के कमिश्नर बने रहेंगे. वर्तमान में बालाजी श्रीवास्तव दिल्ली पुलिस के कार्यकारी आयुक्त के तौर पर कमान सम्भाले हुए हैं.

अप्रत्याशित फैसला :

आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना को राजधानी दिल्ली का पुलिस आयुक्त बनाया जाना अफसरशाही के लिए भी ये अप्रत्याशित ख़बर है. केंद्र शासित प्रदेश होने के कारण दिल्ली में एजीएमयूटी कैडर के अधिकारी को ही पुलिस कमिश्नर बनाया जाता है. हालांकि एस एस जोग और अजय राज शर्मा अपवाद हैं जो दूसरे कैडर के होते हुए भी दिल्ली के पुलिस कमिश्नर बनाये गए. श्री अस्थाना की पुलिस कमिश्नर पद पर नियुक्ति एक विशेष केस के तौर पर जनहित में लिया गया फैसला बताया गया है जो कैबिनेट की नियुक्ति मामलों की समिति की मंजूरी से हुआ.

राकेश अस्थाना
राकेश अस्थाना दिल्ली पुलिस आयुक्त का पदभार संभालते हुए.

विवादों में अस्थाना :

केन्द्रीय जांच ब्यूरो के तत्कालीन प्रमुख और निदेशक आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना को लेकर हुआ वो विवाद जगजाहिर है जिसने देश की सबसे अहम मानी जाने वाली जांच एजेंसी सीबीआई की छीछालेदर कर डाली थी. आलोक वर्मा ने अस्थाना पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था. आलोक वर्मा के बाद अस्थाना ही सीबीआई में दूसरे नम्बर पर सबसे बड़े अधिकारी थे. अस्थाना को 2018 में सीबीआई से हटा दिया गया था. इसके बाद 2019 में राकेश अस्थाना को विमानपत्तन सुरक्षा के महानिदेशक के पद पर नियुक्त कर दिया गया था. उन पर मीट के कारोबारी एक्सपोर्टर मोइन कुरैशी से जुड़े मामले में रिश्वतखोरी का आरोप लगा था जिससे उन्हें क्लीन चिट मिल गई थी.