…तो स्मार्ट फोन के कारण लुट जाते हैं पुलिस के हथियार, लगा प्रतिबंध

379
जम्मू एवं कश्मीर पुलिस
प्रतीकात्मक फोटो

जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवादी अक्सर पुलिस/गार्ड पोस्ट या अन्य स्थानों पर अचानक हमला करके हथियार लूट ले जाते हैं, प्रतिरोध की स्थिति में वे हत्या तक कर देते हैं. जांच-पड़ताल में पाया गया कि ऐसी ज्यादातर घटनाएं इसलिये होती हैं क्योंकि वे स्मार्ट फोन में बिजी रहते हैं और आतंकी ऐसे ही मौकों का फायदा उठाते हैं. इसीलिये गुरुवार को गार्ड ड्यूटी के दौरान स्मार्टफोन के इस्तेमाल पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की घोषणा की गई.

सशस्त्र पुलिस के अतिरिक्त महानिदेशक ए.के.चौधरी ने गुरुवार को एक विस्तृत आदेश में कहा, “यह पाया गया है कि हाल में ड्यूटी पर तैनात सिपाहियों से हथियार छीनने की जो घटनाएं सामने आईं हैं, वे उनके ज्यादातर समय स्मार्टफोन पर लगे रहने से हुई हैं. इस तरह से वे अपनी ड्यूटी से समझौता कर रहे हैं.”

उन्होंने कहा, “यह प्रवृत्ति काफी बढ़ी है और इसके परिणामस्वरूप राज्य में, खासतौर से घाटी में पुलिसकर्मियों के हथियार छीनने/हत्या की घटनाएं हुई हैं.” उन्होंने कहा, “सभी गार्ड कर्मियों को स्टैंडिंग ड्रिल का पूर्ण पालन सुनिश्चित करना होगा.”

स्मार्टफोन के इस्तेमाल पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने के अलावा आदेश में यह भी कहा गया है कि इस तरह की ड्यूटी के लिए मानक निर्देशों के अनुसार हथियार गार्ड के शरीर से जंजीर से बंधा होना चाहिए.