लंडन की मेट्रोपोलिटन पुलिस का दिलचस्प भर्ती अभियान, टैटू से जुड़े नियम भी बदले

604
लंडन की मेट्रोपोलिटन पुलिस
लंडन की मेट्रोपोलिटन पुलिस कमिश्नर क्रेसिडा डिक और उनकी फोर्स ने लंडन के लोगों से कहा है कि ताजा भर्ती अभियान में ‘कुछ ऐसा करो जो वास्तविक हो’. फोटो साभार : Met Police

लंडन की मेट्रोपोलिटन पुलिस ने युवाओं को पुलिस सेवा में भर्ती के लिए विशेष अभियान शुरू किया है. खुद पुलिस कमिश्नर क्रेसिडा डिक युवाओं को पुलिस में आने के लिए प्रेरित कर रही हैं. वहीं पुलिस ने भर्ती के सिलसिले में पहले से तय टैटू (शरीर पर गोदना) सम्बन्धी नियम भी बदले हैं और उनमें ढील दी है.

नये नियम के मुताबिक अब उन उम्मीदवारों को भी भर्ती का पात्र माना जायेगा जिनके जिस्म के उस हिस्से में भी टैटू हैं जो दिखाई देता है. लेकिन ये टैटू चेहरे पर नहीं होना चाहिए और न ही ऐसा हो जिससे उसके प्रकार, डिजायन या भाषा पर किसी को आपत्ति हो. यानि किसी वर्ग, समुदाय, मज़हब आदि को ठेस पहुंचाने वाला न हो. अगर टैटू वाले लोग पुलिस में चुन लिए जाते हैं तो हो सकता है उन्हें पूरी बाजू (टैटू अगर बांह पर है) की कमीज़ पहनने या बांह ढकने के लिए कहा जाए.

इस नियम में बदलाव की वजह है पूर्व में भर्ती के दौरान कई ऐसे युवा और युवतियों की पात्रता का रद्द होना जो भविष्य में अच्छे पुलिस कर्मी साबित हो सकते थे लेकिन सिर्फ जिस्म पर टैटू की वजह से उन्हें ख़ारिज कर दिया गया. पुलिस के रिकार्ड के मुताबिक़ ताज़ा वित्त वर्ष में भर्ती के लिए आये 13 हज़ार आवेदनों में से दस प्रतिशत यानि 1300 ऐसे ही उम्मीदवार थे.

लंडन की मेट्रोपोलिटन पुलिस
लंडन की मेट्रोपोलिटन पुलिस को बांह पर बने टैटू मंजूर बशर्ते आपत्तिजनक न हो.

मेट्रोपोलिटन पुलिस ने फिलहाल 2000 पदों पर भर्ती के लिए अभियान शुरू किया है और ये भर्ती पूरी होने पर मेट्रो पुलिस की नफरी 30750 हो जाएगी. कमिश्नर क्रेसिडा डिक ने ट्वीट किया है, ‘ लंडन बेहतरीन पुलिस सेवा पाने का हक रखता है और हम ऐसे लोगों को आकर्षित करना चाहते हैं जिनमें लंडन बेहतर ढंग से झलकता हो. हमारे अधिकारी अलग अलग क्षेत्रों से आते हैं और तमाम कारणों से शामिल होना चाहते हैं. आप किसी कारण से भी आयें, इस नौकरी में आपको जो मिलेगा वो कहीं और नहीं मिलता’.

युवाओं को मेट्रो पुलिस में भर्ती के लिए प्रेरित और आकर्षित करने के लिए छेड़े गये अभियान में सोशल मीडिया के साथ आउटडोर कैम्पेन भी चलाया जा रहा है. इसके तहत दिलचस्प स्लोगन और प्रेरक वाक्य लिखे प्ले कार्ड के साथ सार्वजनिक जगहों पर पुलिस कर्मी खड़े दिखाई देते हैं. इनमे दिलचस्प तरीके से ऐसी बातें लिखी हैं जिनसे संदेश जाता है कि पुलिस की सेवा में आप असल ज़िन्दगी में बहुत कर सकते हैं, सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं.

इस अभियान के तहत भर्ती पुलिसकर्मियों को गलियों व सार्वजनिक स्थलों पर होने वाले हिंसक अपराधों से निपटने के लिये तैनात किया जाएगा. शुरू के दो एक साल में इन्हें जांच आदि के काम से दूर रखा जायेगा.