सुरक्षा चूक : पुलवामा में सुरक्षा बलों के काफिले पर बड़ा आतंकी हमला, 40 जवान शहीद

159
आतंकी हमला
पुलवामा में घटनास्ठल का नजारा.

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के अवंतिपोरा इलाके में सुरक्षा बलों के काफिले पर आज दोपहर साढे तीन बजे बड़ा आतंकी हमला हुआ है जिसमें सीआरपीएफ (केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल-CRPF) 40 जवान शहीद हो गए, जबकि 45 जवान घायल हुए. आतंकियों ने कार के जरिए फिदायीन ब्लास्ट के बाद जवानों पर फायरिंग भी की थी. राज्यपाल सतपाल मलिक ने इसे एक बड़ी सुरक्षा चूक बताया है. पुलवामा में सुरक्षाबलों के काफिले पर हुआ यह आत्मघाती हमला साल 2016 में उरी सेक्टर में सेना के कैंप पर हुए हमले से भी बड़ा है जिसमें 19 जवानों की मौत हुई थी. इस बड़े आतंकी हमले से जुड़ी कुछ अहम बातें हैं जिन्हें जान लेना बेहद जरूरी है :

आतंकी हमला
देखिये, हमला कितना घातक था.
आतंकी हमला
इस जवान को क्या पता था कि वह अंतिम बार अपने बीवी, बच्चे और परिवार से मिल रहा है!!!
1- दोपहर बाद 3:30 बजे यह हमला सुरक्षा बलों के एक काफिले पर हुआ जिसमें 70 गाड़ियां शामिल थीं. इस काफिले में 20 से अधिक बस, ट्रक और एसयूवी गाडियां थीं. सीआरपीएफ द्वारा जारी बयान के मुताबिक इस आत्मघाती हमले का शिकार 76Bn CRPF की बस हुई. जिसमें 39 जवान सवार थे.
2- खुफिया एजेंसियों को इस हमले की आशंका थी. सात दिन पहले यानी 8 फरवरी को जारी अलर्ट में साफ कहा था कि कश्मीर में सुरक्षाबलों के डिप्लॉयमेंट और उनके आने-जाने के रास्ते पर आतंकी IED से हमला कर सकते हैं. अलर्ट के बावजूद यह हमला सुरक्षा में बड़ी चूक है.
3- इस हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान के प्रतिबंधित संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने लेते हुए उस स्थानीय कश्मीरी आतंकी का वीडियो जारी किया जिसे फिदायीन बताया जा रहा है. इस युवक की पहचान आदिल अहमद डार के तौर पर हुई जो पुलवामा जिले के काकपोरा का ही रहने वाला है. बताया जा रहा है कि आदिल पिछले साल फरवरी में मोस्ट वांटेड आतंकी जाकिर मूसा के गजवत उल हिंद में शामिल हुआ था और कुछ ही महीने पहले ही वह जैश में शामिल हुआ था.
4- सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दिसंबर में जैश-ए-मोहम्मद का कमांडर अब्दुल रशीद गाजी घाटी में दाखिल हुआ था. गाजी अफगानिस्तान में तालिबानियों के साथ लड़ाई लड़ने के साथ-साथ पीओके (गुलाम कश्मीर) में जैश के कैंप में चीफ इंस्ट्रक्टर भी रह चुका है. बताया जा रहा है कि गाजी ने ही इस हमले में शामिल फिदायीन आदिल अहमद डार को IED ब्लास्ट की ट्रेनिंग दी थी.
5- इस घटना से अंदाजा लगाया जा सकता है कि आतंकियों को सुरक्षाबलों के काफिले के गुजरने की खबर पहले से थी. इस हमले में आतंकियों ने एक गाड़ी का इस्तेमाल किया जिसमें करीब 200 किलो विस्फोटक रखे थे और शहीदों की संख्या से अंदाजा लगाया जा सकता है कि संभवत: उन्होंने उस गाड़ी को निशाना बनाया जिसमें सबसे ज्यादा जवान सवार थे.
6- कश्मीर में आतंकियों के सफाए से पाकिस्तान में बैठा आतंक का आका मौलाना मसूद अजहर परेशान था. हाल ही में सुरक्षाबलों ने जैश आतंकी उस्मान और तलहा रशीद को मुठभेड़ में मार गिराया था. उस्मान मौलाना मसूद अजहर का भतीजा और तलहा रशीद भांजा थे. बताया जा रहा है कि इन दोनों की मौत का बदला लेने के लिए जैश द्वारा सुरक्षा बलों को निशाना बनाने की साजिश थी.
7- हमले के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने गृह मंत्रालय के उच्च अधिकारियों के साथ बैठक की और पूरे घटनाक्रम पर नजर बनाए हुए हैं.
8- पुलवामा आतंकी हमले की जांच के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की 12 सदस्यीय टीम बनाई गई है. NIA की टीम शुक्रवार सुबह विशेष विमान से घाटी पहुंचेगी.
9- जम्मू कश्मीर के पुलवामा के 15 गांवों में सर्च ऑपरेशन शुरू.
10- शुक्रवार सुबह प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में CCS (सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमिटी) की मीटिंग के बाद बड़ी कार्रवाई का बन सकता है प्लान: सूत्र
11- NIA के अलावा NSG भी जाएगी पुलवामा.
12- आतंकियों ने हमारा जीना हराम किया: फारूक अब्दुल्ला
13- पुलवामा हमला खुफिया एजेंसियों की भी नाकामी: फारूक अब्दुल्ला
14- जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में हुए शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देने के लिए जम्मू के उधमपुर में लोगों ने कैंडल मार्च निकाला और पाकिस्तान के खिलाफ रोष प्रदर्शन किया. सरकार से मांग की कि पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here