आतंकवादियों का हमला : सेना के कर्नल , मेजर और जम्मू कश्मीर पुलिस के डीएसपी वीरगति को प्राप्त हुए

69
वीरगति को प्राप्त हुए तीन अधिकारी : कर्नल मनप्रीत सिंह , मेजर आशीष धोंचक , डीएसपी हिमांयु भट
तीन दशकों से भी ज्यादा अरसे से आतंकवाद का विष पीने को मजबूर जम्मू कश्मीर (jammu and kashmir ) एक बार फिर से  सुरक्षा बलों को हमले में पहुँची बड़ी क्षति का गवाह बना है . इसमें भारतीय सेना के दो और जम्मू कश्मीर पुलिस के एक अफसर की जान  गई है . बेहद दुर्भाग्यपूर्ण यह घटना कश्मीर के खोकरनाग  की है जिसमें वीरगति को प्राप्त हुए अफसरों में भारतीय सेना की राष्ट्रीय राइफल्स की 19 वीं बटालियन के कमान अधिकारी  कर्नल मनप्रीत सिंह ,  मेजर आशीष धोंचक और जम्मू कश्मीर  पुलिस के उपाधीक्षक ( डीएसपी ) हिमायुं मुजामिल भट के नाम हैं . यह अधिकारी उस संयुक्त दल का नेतृत्व कर रहे थे जो मंगलवार की शाम को कोकरनाग ( kokernag ) में गडूल के जंगल में आतंकवादियों के आवाजाही की  सूचना मिलने पर इलाके की घेराबंदी करके ऑपरेशन करने पहुंचा था .
आतंकवादी असल में वहां घात  लगाये हुए थे और जब बुधवार की सुबह इन अधिकारियों के नेतृत्व में तलाशी का अभियान चलाया रहा था तभी छिपे हुए आतंकवादियों ने अंधाधुंध फायरिंग की. इस हमले में तीनों  बुरी तरह घायल हो गए. उनको एयर लिफ्ट करके उपचार के लिए श्रीनगर ले जाया गया लेकिन उन्होंने प्राण त्याग दिए. इन तीनों को ही शुरूआती हमले में गोलियां लगीं और यह हमला इतना ज़बरदस्त और अप्रत्याशित था कि संयुक्त दस्ते को जवाबी कार्रवाई करने का मौका तक नहीं मिला . इसके बाद भी आतंकवादी गोलियां बरसाते रहे जिसके कारण घायलों को मौके से निकालने में भी देरी हुई .
एक अधिकारी का कहना है कि असल में यह स्थान एक चश्मे ( जलस्त्रोत ) के पास घने जंगल में है. यहां आतंकवादी ऐसी पोजीशन पर थे जहां से सुरक्षा बलों पर छिपकर आसानी से हमला करके ज्यादा नुकसान पहुँचाया जा सकता था.
 महीने भर के भीतर आतंकवादियों का सेना पर यह दूसरा बड़ा हमला है. आतंकवादियों ने इससे पहले 4 अगस्त को कुलगाम में सेना की एक अस्थाई पोस्ट पर हमला किया था जिसमें 3 सैनिकों की जान गई थी . इस हले के बाद आतंकवादी अंधेरे का फायदा उठाकर फरार होने में कामयाब रहे थे .

 कर्नल मनप्रीत सिंह :    
वीरगति को प्राप्त हुए कर्नल मनप्रीत सिंह सिख लाइट इन्फेन्ट्री के जांबाज़ अधिकारी थे . कर्नल मनप्रीत को 2021  में सेना मेडल से भी सम्मानित किया गया था. उनके पिता भी भारतीय सेना में थे और वह भी सिख एलआई ( sikh li)में थे. कर्नल मनप्रीत का परिवार पंजाब के मोहाली में रहता है . उनके पिता स्वर्गवास हो चुका है. परिवार में मां , पत्नी जगमीत कौर  , 6  साल का बेटा  कबीर सिंह और 2 साल की बेटी बन्नी कौर हैं .

जगमीत कौर हरियाणा सरकार के राजकीय सीनियर सेकण्डरी स्कूल में टीचर हैं है . वर्तमान में उनकी पोस्टिंग पंचकुला ज़िले के मोरनी हिल्स स्थित मदाना के स्कूल में है . उनके पिता जगदेव सिंह ग्रेवाल ने बताया कि परिवार ने उनके दामाद की मृत्यु की जानकारी  बेटी को आज सुबह दी. कल रात तो उनको कर्नल मनप्रीत के बुरी तरह से घायल होने भर की जानकारी दी गई थी . कबीर को तो सुबह तक अपने पिता के इस दुनिया में अब न होने का अंदाजा भही नहीं .  परिवार ने उसको  रोज़ाना की तरह स्कूल भेजन ही उचित समझा   जोकि चंडीगढ़ के सेक्टर 26 में है . नन्हीं बन्नी कौर तो इतनी छोटी है कि उसे हालात की समझ ही नहीं हो सकती .

अलविदा बेटा : तिरंगे में लिपटे ताबूत में बंद पुत्र डीएसपी हिमायुं को श्रद्धांजलि अर्पित करने पहुंचे रिटायर आईजी गुलाम हसन भट

कर्नल मनप्रीत और जगमीत कौर की शादी पांच साल पहले ही हुई थी.  करीब  15 दिन पहले ही पत्नी और बच्चे कर्नल मनप्रीत के पास से लौटे थे. सब कश्मीर में थे.

जगदेव ग्रेवाल हरियाणा सरकार से सेवानिवृत्त अधिकारी हैं . उन्होंने मीडिया को बताया कि कर्नल मनप्रीत का पार्थिव शरीर कल मोहाली लाया जाएगा.

मेजर आशीष धोंचक :
मेजर आशीष धोंचक का परिवार  हरियाणा के पानीपत ज़िले के छोटे से गांव  बिन्झोल का मूल निवासी है. उनके पिता नेशनल फर्टिलाइजर लिमिटेड से क्लर्क के तौर पर रिटायर हुए थे . मेजर आशीष धोंचक   परिवार के इकलौते पुत्र थे . उनकी तीन बहनें हैं . मेजर दिनेश का  परिवार इन दिनों पानीपत में किराए के मकान में रहता है. वहां उनका नया मकान भी बन रहा है जिसके महूर्त पर मेजर आशीष  का आना तय था.

मेजर दिनेश धोंचक की शादी हरियाणा के ही जींद ज़िले की ज्योति से 9 साल पहले हुई थी . उनकी 5 साल की एक बेटी वामिका है . कश्मीर से पहले दिनेश की तैनाती बठिंडा में थी. मेजर दिनेश को इसी साल 11 अगस्त को सेना मेडल से सम्मानित किया गया था.

डीएसपी हिमायुं मुजामिल भट :
जम्मू कश्मीर पुलिस के  डीएसपी  34 वर्षीय हिमायुं मुजामिल भट सेवा निवृत्त  महानिरीक्षक (  आई जी – IG ) गुलाम हसन भट के पुत्र थे. उनका परिवार मूलत दक्षिण कश्मीर के त्राल का  रहने वाले है. हिमायुं 2018 में जम्मू कश्मीर पुलिस  में अधिकारी बने थे. उनके परिवार में पत्नी और एक पुत्र है . यह बेटा भी सिर्फ एक महीने का है .