लेफ्टिनेंट जनरल माधुरी राजीव कानितकर एमयूएचएस की नई उप कुलपति

100
माधुरी राजीव कानितकर
लेफ्टिनेंट जनरल डॉ माधुरी राजीव कानितकर

भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट जनरल माधुरी राजीव कानितकर को नासिक स्थित महाराष्ट्र यूनिवर्सिटी ऑफ़ हेल्थ साइंसेस का नया उप कुलपति बनाया गया है. अनुभवी डॉक्टर माधुरी कानितकर वर्तमान में रक्षा मंत्रालय के अधीन एकीकृत रक्षा स्टाफ में उप प्रमुख (Deputy Chief in Integrated Defence Staff ) हैं. महाराष्ट्र के राज्यपाल और महाराष्ट्र के विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति भगत सिंह कोशियारी ने लेफ्टिनेंट जनरल माधुरी कानितकर के इस पद पर पांच साल की नियुक्ति के आदेश दिए हैं.

माधुरी राजीव कानितकर
लेफ्टिनेंट जनरल डॉ माधुरी राजीव कानितकर

एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक़ लेफ्टिनेंट जनरल माधुरी कानितकर की ये नियुक्ति पांच साल या 65 वर्ष की आयु, जो भी पहले पूर्ण हो, तक रहेगी. वैसे 15 अक्टूबर 1960 को जन्मी लेफ्टिनेंट (डॉ) माधुरी अभी 60 वर्ष की हैं. वह एक अनुभवी डॉक्टर होने के साथ साथ 22 साल के अध्यापन और शोध का भी तजुर्बा रखती हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल माधुरी कानितकर ने पुणे स्थित आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस किया है और दिलचस्प है कि कॉलेज में टॉप करने वाली डॉ माधुरी जनवरी 2017 से लेकर मई 2019 तक यहाँ डीन के ओहदे पर भी रहीं. बाल रोग में एमडी (MD in Pediatrics) के अलावा उन्होंने डीएनबी पीडियाट्रिक्स (DNB pediatrics) भी किया है.

पिछले साल मार्च में भारतीय सेना में डॉक्टर मेजर जनरल माधुरी कानितकर को तरक्की देकर अब लेफ्टिनेंट जनरल बना दिया गया था. भारतीय सेना में इस ओहदे तक पहुँची वह तीसरी महिला हैं. माधुरी कानितकर के पति भी लेफ्टिनेंट जनरल के ओहदे से रिटायर हुए थे. लेफ्टिनेंट जनरल माधुरी कानितकर को अब चीफ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ (सीडीएस-CDS) के तहत एकीकृत रक्षा कमान (Integrated Defence Command- आईडीएस) मुख्यालय में तैनात किया गया था. यह कमान 2001 में गठित सेनाओं के विभिन्न अंगों के बीच विभिन्न प्रकार के तालमेल का काम करती है.

लेफ्टिनेंट जनरल माधुरी कानितकर से पहले इस रैंक तक पहुँचने वाली महिला अधिकारी पुनीता अरोड़ा थीं जबकि उनके समकक्ष भारतीय वायुसेना की पद्मावती बंद्योपाध्याय रहीं जोकि भारतीय वायु सेना में एयर मार्शल थीं.

लेफ्टिनेंट जनरल बनीं माधुरी कानितकर, भारतीय सेना में ऐसी तीसरी महिला