लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे को मिला एक और ओहदा

24
लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे
सिख लाइट इन्फेंट्री रेजीमेंट के कर्नल रहे सेनाध्यक्ष जन. एम एम नरवणे ने दिल्ली में लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे को बैटन सौंपी.

भारतीय सेना की चिनार कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे ने सिख लाइट इन्फेंट्री रेजीमेंट के कर्नल का ओहदा भी संभाला है. अब तक इस रेजीमेंट के कर्नल रहे सेनाध्यक्ष जन. एम एम नरवणे ने दिल्ली में उनको बैटन सौंपी. लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे ने राष्ट्रीय समर स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित कर वीरगति को प्राप्त हुए सैनिकों को याद किया और यहां पुष्पांजलि अर्पित की.

हाल ही में सोशल मीडिया पर वायरल हुई एक फोटो से भी लेफ्टिनेंट जनरल पांडे चर्चा में आए थे. इस फोटो में लेफ्टिनेंट जनरल पांडे कुछ अन्य गैर मुस्लिम अधिकारियों के साथ श्रीनगर में नमाज़ में शरीक हुए दिखाई दिए थे. सेना के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से 27 अप्रैल को फोटो ट्वीट की गई थी जो सम्भवत: रोज़ा इफ्तार से पहले मगरिब की नमाज़ की है. इस फोटो में लेफ्टिनेंट जनरल पांडे ने सर पर काले रंग की टोपी जैसा कपड़ा पहना हुआ है और उनके साथ ही नमाज़ पढ़ने जैसी मुद्रा में भारतीय सेना के एक सिख अधिकारी भी हैं . धार्मिक सद्भावना के मूल्यों से लबरेज़ भारतीय सेना और इसके अधिकारियों के लिए भले ही ये कोई अनोखी बात नहीं है लेकिन इस फोटो को देखकर लोग जनरल पांडे की तारीफ़ खूब करते दिखाई दे रहे हैं. उल्लेखनीय है कि आजकल रमज़ान का पवित्र महीना चल रहा है और भारतीय सेना अपनी परम्परा के मुताबिक़ प्रत्येक धर्म के ख़ास अवसरों और पर्वों को सामूहिक तौर पर मनाती है . त्यौहार कोई भी , सभी मजहबों से ताल्लुक रखने वाले सैनिक उसे मनाते हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे भारतीय सेना की श्रीनगर स्थित 15 कोर ( 15 corps ) के जनरल ऑफिसर कमांडिंग है. सेना की 15 कोर को चिनार कोर भी कहा जाता है जिसका मुख्यालय श्रीनगर में बादामी बाग़ छावनी में है. गोरखपुर के रहने वाले लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे ने 1985 में भारतीय सेना की सिख लाइट इन्फेंट्री की 9 बटालियन में कमीशन हासिल किया था. लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे ने मार्च 17 मार्च 2021 को रिटायर हुए लेफ्टिनेंट जनरल बी एस राजू से श्रीनगर में चिनार कोर के जीओसी ( goc ) का ओहदा संभाला था.

रेजीमेंट के कर्नल की नियुक्ति ( colonel of the regiment – COR) ब्रिटिश सेना से धारण की गई एक सैनिक परम्परा है . ये परम्परा राष्ट्रकुल देशों की सेना अपनाती हैं . रेजीमेंट के कर्नल का चुनाव होता है. कर्नल और उससे ऊपर के पदों वाले अधिकारी इसके लिए वोट करते हैं . अभी तक एम एम नरवणे सिख लाइट इन्फेंट्री रेजीमेंट के कर्नल थे . कल उनके रिटायरमेंट की तारीख है. जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने जून 1980 सिख लाइट इन्फेंट्री की 7 वीं बटालियन में कमीशन हासिल किया था.