लेफ्टिनेंट जनरल जेएस सिदाना ने डीजीईएमई का ओहदा संभाला

8
लेफ्टिनेंट जनरल जेएस सिदाना ने इलेक्ट्रॉनिक्स और मैकेनिकल इंजीनियर्स का ओहदा संभाला

लेफ्टिनेंट जनरल जेएस सिदाना ने  इलेक्ट्रॉनिक्स और मैकेनिकल इंजीनियर्स (डीजीईएमई dgeme) के 33वें महानिदेशक और ईएमई कोर के वरिष्ठ कर्नल कमांडेंट के रूप में पदभार संभाला. लेफ्टिनेंट जनरल तुमुल वर्मा ने सोमवार को उनको कमान सौंपी .

जनरल सिदाना ने  38 वर्षों से अधिक के अपने करियर के दौरान,  कई महत्वपूर्ण रेजिमेंट, कमान, अनुदेशात्मक और स्टाफ नियुक्तियों के पद संभाले हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल तुमुल वर्मा ने लेफ्टिनेंट जनरल सिदाना को सोमवार को कमान सौंपी

डीजीईएम्ई के ओहदे पर वर्तमान नियुक्ति से पहले लेफ्टिनेंट जनरल सिदाना  दो साल की अवधि के लिए ईएमई के मिलिट्री कॉलेज के कमांडेंट के ओहदे पद पर थे. वे मध्य कमान मुख्यालय के ईएमई के मास्टर जनरल रहे हैं और उन्होंने आर्मी बेस वर्कशॉप और ईएमई सेंटर की कमान संभाली है.

लेफ्टिनेंट जनरल जेएस सिदाना राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, खड़कवासला के पूर्व छात्र हैं और उन्हें 14 दिसंबर, 1985 को भारतीय सैन्य अकादमी, देहरादून से ईएमई कोर में नियुक्त किया गया था. उनकी शैक्षणिक योग्यता में उस्मानिया विश्वविद्यालय से प्रबंधन अध्ययन में स्नातकोत्तर, आईआईटी कानपुर से एम.टेक  (MTech)  और पंजाब यूनिवर्सिटी से मास्टर ऑफ फिलॉसफी की डिग्री शामिल है।

डीजीईएमई (DGME ) के रूप में कार्यभार संभालने पर, लेफ्टिनेंट जनरल जेएस सिडाना ने भारतीय सेना को प्रभावी इंजीनियरिंग सहायता प्रदान करने के संदर्भ में प्रौद्योगिकी और नवाचार की शक्ति को अपनाने के लिए कोर के सभी स्तर के कर्मियों को प्रोत्साहित किया है.  उन्होंने नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय समर स्मारक पर पुष्पमाला अर्पित कर कोर के बहादुरों को श्रद्धांजलि भी अर्पित की।