INS Sunayna ने फिर से समुद्री डाकुओं के हथियार बरामद किये

725
INS Sunayna
INS Sunayna ने सोमालिया में समुद्र तट के पास से एक संदिग्ध जहाज़ पर छापा मारकर ए के - 47 राइफलें और सैकड़ों गोलियां बरामद की हैं.

भारतीय नौसेना की दक्षिण कमान के एक समुद्री निगरानी पोत (ओपीवी) सुनयना (INS Sunayna) ने सोमालिया में समुद्र तट के पास से एक संदिग्ध जहाज़ पर छापा मारकर ए के – 47 राइफलें और उनकी सैकड़ों गोलियां बरामद की हैं. ये हथियार और गोली बारूद संभवत: समुद्री डाकुओं के इस्तेमाल के लिए ले जाये जा रहे थे. सुनयना के चालक दल ने ये कार्रवाई अपने गश्ती अभियान के तहत सोमालिया के पास समुद्रतट से लगभग 20 नॉटिकल मील की दूरी पर गुरूवार को की. तैनाती के दो महीने के भीतर भारतीय नौसेना के इस पोत ने यहाँ इस तरह की ये तीसरी कामयाबी हासिल की है.

भारतीय रक्षा मंत्रालय की प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक़ संदिग्ध जहाज में से जो अवैध हथियार और गोला-बारूद बरामद किये उनमें पांच एके-47 राइफल और 471 गोलियां हैं. समुद्री लूट की गतिविधियों में इनके अवैध इस्तेमाल को रोकने के उद्देश्य से गोला-बारूद बरामद करने के बाद उस जहाज को जाने की इजाज़त दे दी गई. ये घटना गुरुवार की है.

आईएनएस सुनयना को 6 अक्टूबर से अदन की खाड़ी में, समुद्री लूट की घटनाओं के विरूद्ध, निगरानी के लिए तैनात किया गया है. इस जहाज ने इससे पहले भी 9 नवंबर और 7 दिसंबर, 2018 को संचालित एक खोज अभियान में 6 एके-47 राइफलें और एक लाइट मशीनगन बरामद भी की थी.

विज्ञप्ति में कहा गया है कि भारतीय नौसेना के जहाजों द्वारा सतर्कता की गतिविधियां, हिन्द महासागर क्षेत्र में भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय समुद्री जहाजों के लिए समुद्री सुरक्षा सुनिश्चित करने की दिशा में भारत का संकल्प दोहराती हैं.

भारत, चीन, जापान, अमेरिका, रूस, पाकिस्तान और यूरोपीय संघ जैसे कई देशों की भागीदारी से अदन की खाड़ी और सोमालिया क्षेत्र के पूर्वी समुद्रतट में समुद्री लूट से निपटने के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय पहल की जा रही है. समुद्री लूट का मुकाबला करने के लिए इस क्षेत्र में संचालित युद्ध पोतों को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्ताव (यूएनएससीआर) 2383 (2017) द्वारा अवैध गतिविधियों के संदिग्ध पोतों की जांच करने के लिए अधिकृत किया गया है.