जेल में कैदी महिलाओं के लिए शिमला सम्मेलन में उठेंगे कई मुद्दे

842
Jail
Symbolic Photo

पुलिस अनुसंधान और विकास ब्यूरो (BPR&D) की ओर से हिमाचल प्रदेश के जेल विभाग के सहयोग से ‘कैदी महिलाएं और न्याय के लिए पहुंच’ विषय पर शिमला में दो दिवसीय सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है. हिमाचल प्रदेश में ये इस तरह का पहला सम्मेलन है जो पांच अक्टूबर को सम्पन्न होगा.

बीपीआरएंडडी नए उभरते मुद्दे पर सम्मेलन का आयोजन करता है. ‘कैदी महिलाएं और न्याय के लिए पहुंच’ विषय पर महिला सशक्तीकरण पर संसदीय समिति ने कई संस्तुतियां की हैं. पुलिस अनुसंधान ब्यूरो ने महिला कैदियों की स्थिति में सुधार और उनके मौलिक अधिकारों की रक्षा के लिए रणनीति और कार्यक्रम तैयार करने की कुछ संस्तुतियों पर चर्चा करने की जरूरत पर जोर दिया है.

सम्मेलन में इसी तरह के विचार-विमर्श के लिए निम्नलिखित मूल-विषयों को चिन्हित किया गया है :

  • महिला कैदियों के प्रजनन स्वास्थ्य अधिकार : राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय वैधानिक मानदंड
  • महिला कैदियों की स्वास्थ्य संबंधी आवश्यकताएं
  • महिला कैदियों और उनके बच्चों का स्वास्थ्य, कौशल, पुनर्वास और पुनर्मिलन
  • महिला कैदियों पर केंद्रित जेल सुधार, संरचनात्मक, प्रबंधकीय और वैधानिक मुद्दे तथा वैश्विक मानदंडों से तुलना
  • अपराधियों के लिए न्यूरो-अपराध विज्ञान कार्यक्रम
  • जेल सुधार

सभी दर्जे के जेल कार्मिकों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न संचालनात्मक और प्रशासनिक मुद्दे पर न केवल उनके अपने समकक्षों के साथ बल्कि इस क्षेत्र में राष्ट्रीय स्तर पर प्रख्यात अन्य विशेषज्ञों के साथ अपने महत्वपूर्ण विचारों को साझा करने के लिए एक मंच उपलब्ध कराने के साथ ही जेल सुधारों के संदर्भ में वर्तमान नई चुनौतियों के समाधान के लिये सुधारात्मक प्रशासन की कार्यप्रणाली में श्रेष्ठ परंपराओं और मानदंडों को चिन्हित करना इस सम्मेलन के आयोजन का उद्देश्य है.
इस आयोजन से एक ओर जहां देश भर में सुधारात्मक प्रशासन से संबंधित अनुसंधान और विकासात्मक क्रियाकलापों को बढ़ावा मिलेगा, वहीं दूसरी ओर एक व्यावसायिक तरीके से विभिन्न सुधारात्मक प्रशासन के बीच वैज्ञानिक पहुंच विकसित होने की दिशा में मार्ग प्रशस्त होगा. दो दिन के इस सम्मेलन में 6 सत्रों के साथ 6 मूल-विषयों पर आधारित सामूहिक विमर्श शामिल होंगे.

सम्मेलन के आयोजकों का दावा है कि यह सम्मेलन इस क्षेत्र के ऐसे प्रमुख वक्ताओं के साथ सामूहिक विचार-विमर्श के रूप में होगा, जो इन क्षेत्रों के विशेषज्ञ हैं. इस सम्मेलन में जेल अधिकारी, विश्वविद्यालयों/संस्थाओं, गैर-सरकारी संगठनों के प्रतिनिधि, स्वास्थ्य क्षेत्र के व्यावसायी, सामाजिक कार्यकर्ता, जेलों के सुधारात्मक प्रशासन और पुनर्वास के क्षेत्र में कार्यरत परामर्शदाता भाग लेंगे.

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के उपाध्यक्ष हंस राज शुक्रवार को समापन संबोधन करेंगे. बीपीआरएंडडी को उम्मीद है कि महिला कैदियों की स्थितियों में सुधार लाने के साथ न्याय के लिए उनकी पहुंच बढ़ाने के क्रम में जेल सुधार और पुनर्वास कार्यक्रम का बेहतर कार्यान्वयन सुनिश्चित करने में यह सम्मेलन मददगार होगा.